- कद्दू

कद्दू कद्दू

खीरे का मोज़ैक वीषाणु

वाइरस

CMV


संक्षेप में

  • पत्तियों तथा फलों पर पीली मोज़ैक जैसी आकृतियाँ.
  • नीचे की ओर मुड़ी हुई तथा सलवटों से भरी हुई पत्तियाँ तथा डंठल.
  • अवरुद्ध तथा विकृत विकास.
  • फूलों पर सफ़ेद धारियाँ।.
 - कद्दू

कद्दू कद्दू

लक्षण

संक्रमित हुई पौधों की प्रजातियों तथा वातावरण की परिस्थितियों के आधार पर लक्षण बदलते हैं। कुछ मामलों में, वायरस उपस्थित होता है किन्तु लक्षण छिपे या ढके हुए होते हैं। पत्तियों तथा फलों पर पीले से या हल्के हरे धब्बे या पीली छींटें दिखाई देती हैं। किनारे की शाखाओं तथा पत्तियों के डंठलों की लम्बाई में वृद्धि बढ़ जाती है जिसके कारण पत्तियों तथा डंठलों में नीचे की ओर मुड़ाव आ जाता है। नई पत्तियां सलवटों से भरी हुई और संकरी तथा पूरा पौधा ही बुरी तरह से अविकसित झाड़ियों जैसा दिखता है। फूलों पर सफ़ेद धब्बे दिखाई दे सकते हैं। फलों पर ऊपर की ओर तने हुए उभार बन जाते हैं जो उन्हें बाज़ार में बेचने लायक नहीं रहने देते।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण क्युकम्बर मोज़ैक वायरस (सीएमवी) के कारण होते हैं, जो अनके प्रजातियों को प्रभावित करता है (क्यूकर्बिट्स, पालक, लेट्यूस, शिमला मिर्च और सेलेरी के साथ अनेक फूलों, विशेषकर लिली, डेल्फ़िनियम, प्रिमुला और डेफ़्ने)। यह विषाणु 60-80 विभिन्न प्रकार की प्रजातियों के एफ़िड द्वारा ले जाया तथा प्रसारित होता है। प्रसार के अन्य तरीकों में संक्रमित मिट्टी या कलम, और किसी के हाथ या उपकरण से संक्रमण शामिल होता है। सी.एम.वी. फूलों की बारहमासी खर-पतवार में वर्ष भर रह सकता है और कभी-कभी स्वयं फसल की जड़ों, बीजों तथा फूलों में भी रह जाता है। प्राथमिक संक्रमण में, विषाणु नए उगने वाले पूरे अंकुर में उभरता है तथा ऊपरी पत्तियों तक पहुंचता है। इन पौधों पर पलने वाले एफ़िड इन्हें अन्य धारकों (द्वितीयक संक्रमण) तक ले जाते हैं। वीषाणु पौधों के विभिन्न अंगों के मध्य लम्बी दूरी तक परिवहन के लिए धारकों के वाहिकीय ऊतकों का उपयोग करता है।

जैविक नियंत्रण

पत्तियों पर खनिज तेल का छिड़काव एफ़िड को उन्हें खाने से रोक सकता है और इस प्रकार इनकी संख्या बढ़ने से रोकी जा सकती है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एक एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। सीएमवी के विरुद्ध कोई प्रभावी रसायन उपलब्ध नहीं हैं, न ही कोई ऐसा रसायन है जो पौधों को संक्रमित होने से बचा सके। साइपरमेथ्रीन या क्लोरपायरिफ़ोस वाले कीटनाशकों का उपयोग एफ़िड्स के विरुद्ध पत्तों पर छिड़काव के रूप में किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्त्रोतों से प्राप्त जीवाणुरहित बीजों तथा अंकुरों का प्रयोग करें.
  • सहनशील तथा प्रतिरोधी प्रजातियों को रोपें (पालक तथा खीरे के परिवार की फ़सलों के लिए अनेक उपलब्ध).
  • खेतों की निगरानी रखें तथा रोग के चिन्हों वाले पौधों को हटा दें.
  • मोज़ैक के चिन्हों वाले खर-पतवार को भी हटा दें.
  • अपनी फसल के पास उगने वाले खर-पतवार के साथ-साथ वैकल्पिक धारकों को भी हटा दें.
  • वनस्पति के प्रसार में काम आने वाले औज़ारों था उपकरणों को जीवाणुमुक्त करना सुनिश्चित करें.
  • प्रवासी कीटों को दूर रखने के लिए फसल के विकास की आरंभिक अवस्था में हवा में आवरण लगाएं.
  • सर्वाधिक खतरे के इस समय के बीत जाने के बाद परागण के लिए इस आवरण को हटा दें.
  • अवरोधी फसलें लगाएं जो कीटों को आकर्षित करती हों.
  • चिपकने वाले जालों का प्रयोग कीटों को पकड़ने के लिए करें.
  • भूमि को एक कीट रोधी पदार्थ, जैसे कि अल्युमीनियम फॉयल, से ढकें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!