- आलू

आलू आलू

आलू की पत्तियों को मोड़ देने वाला विषाणु (लीफ़रोल वायरस)

वाइरस

PLRV


संक्षेप में

  • ऊपर की ओर मुड़े हुए किनारे.
  • नई पत्तियों की शिराओं के मध्य पीलापन.
  • पुरानी पत्तियों का निचला हिस्सा बैंगनी होने के साथ पत्तियाँ कड़ी और भुरभुरी हो जातीं हैं.
  • पौशों का अवरुद्ध विकास.
  • कड़े और ऊपर की ओर नुकीले डंठल।.
 - आलू

आलू आलू

लक्षण

पौधों की विविधता, पर्यावरणीय स्थितियों और संक्रमण के प्रकार के आधार पर, दिखाई देने वाले लक्षण भिन्न होते हैं। एफ़िड्स के कारण होने वाला प्राथमिक संक्रमण, ज़्यादातर नई पत्तियों पर दिखाई देता है। किनारे ऊपर की तरफ़ मुड़ना शुरू हो जाते हैं, और सूखे, फीके हो जाते हैं या शिराओं के मध्य हरित हीनता विकसित होना प्रारंभ हो जाती है। दूषित कंद (द्वितीयक संक्रमण) से उगने वाले पौधों में, पुरानी पत्तियाँ ऊपर की ओर मुड़ी हुई, कड़ी और भुरभुरी, और बैंगनी या लाल निचले हिस्से के साथ होती हैं, जबकि नई पत्तियाँ खड़ी हुई और फीके हरे रंग की या हरित हीन होती हैं। पौधों का विकास रुक जाता है और डंठल कड़ी, ऊपर की ओर मुड़ी हुई होती हैं। उच्च संक्रमण का स्तर कंद की उपज और बिक्री योग्यता कम कर देती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

प्रारंभिक फैलाव तब होता है जब पौधे विकास के मौसम के दौरान विषाणुग्रस्त एफ़िड से संक्रमित हो जाते हैं और वे उन पर भोजन करना शुरू कर देते हैं। द्वितीयक संक्रमण तब होता है जब दूषित कंद लगाए जाते हैं, और आलू के पौधे उनके साथ बढ़ते हैं। एफ़िड्स संक्रमण को अन्य स्वस्थ पौधों तक फैला देते हैं। विषाणु एफ़िड के पूर्ण जीवन तक रहता है, इसलिए संक्रमण की संभावना अधिक होती है। वायरस को प्रसारित करने के लिए, कीड़ों को कम से कम 2 घंटे के लिए पौधे पर भोजन करने की ज़रूरत है। नम मिट्टी संक्रमण के जोखिम को बढ़ावा देती है।

जैविक नियंत्रण

वायरस का प्रत्यक्ष उपचार संभव नहीं है, लेकिन शिकारी या परजीवियों के माध्यम से एफ़िड आबादी को कम करना एक उपयोगी निवारक उपाय है। लेडीबर्ड, सोल्जर भृंग, लेसेविंग, और कुछ प्रकार के छोटे कीड़े (मिज) और मक्खियाँ वयस्क एफ़िड्स और लार्वा खाते हैं। परजीवी हड्डे भी इस्तेमाल किए जा सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। वायरल रोगों का रासायनिक उपचार संभव नहीं है। लेकिन, एफ़िड की आबादी को कुछ हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, फ़सल विकास के शुरुआती चरणों में कीटनाशक लगाएं।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों से लिए गए बीज कंद का उपयोग करें या प्रमाणित बीज प्राप्त करें.
  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधक किस्मों की बुवाई करें.
  • खेत की निगरानी करें, रोगग्रस्त पौधों को निकालें और नष्ट करें.
  • उन स्वतः उगने वाले पौधों को नष्ट करें जो विषाणु के धारक हो सकते हैं और एफ़िड का भोजन बन सकते हैं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!