मूंगफली की कली को गलाने वाला विषाणु - मूंगफली

मूंगफली

मूंगफली की कली को गलाने वाला विषाणु

GBNV


संक्षेप में

  • नई पत्तियों पर हल्के छींटों जैसे हरित हीनता से प्रभावित धब्बे हो जाते हैं, जो बाद में हरित हीनता व परिगलन से प्रभावित गोलाकार धब्बों व धारियों के रूप में विकसित हो जाते हैं.
  • यह गलन बाद में डंठलों, टहनियों और कलियों तक पहुँच जाती है.
  • संक्रमित पौधों की वृद्धि कम होती है, उनकी पत्तियाँ विकृत हो जाती हैं और वे एक सामान्य हरित हीनता से प्रभावित होते हैं.
  • छोटे और सूखे हुए बीज बाज़ार में ले जाने योग्य नहीं होते हैं और उपज की गुणवत्ता को कम करते हैं।.

लक्षण

नई पत्तियों पर हल्के छींटों जैसे हरित हीनता से प्रभावित धब्बे हो जाते हैं, जो बाद में क्लोरोसिस व गलन से प्रभावित गोलाकार धब्बों व धारियों के रूप में विकसित हो जाते हैं, जो इस रोग के प्रमख लक्षण हैं। यह गलन बाद में डंठलों, ऊपर की टहनियों और कलियों तक जाती है, जिसके परिणामस्वरूप, फूल का ढाँचा सड़ जाता है, जिसके कारण इस रोग का अंग्रेज़ी में नाम ‘बड नेक्रोसिस‘ पड़ा। ऐसा घटित होने के लिए अधिक तापमान अनुकूल होता है। संक्रमित पौधों की वृद्धि कम होती है, वे सामान्य हरित हीनता से प्रभावित होती हैं, नई कलियों का प्रसार नहीं होता और नई पत्तियाँ विकृत हो जाती हैं। शंकु धब्बेदार व रंगहीन हो सकते हैं और उनमें धब्बेदार छोटे सूखे बीज होते हैं। पौधों के आरंभिक चरणों में प्रभावित हो जाने पर उपज में नुकसान होता है।

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मूँगफली की कली के गलने का रोग विषाणु के कारण होता है। पौधों का संक्रमण स्थायी तथा उन पौधों के ऊतकों और रस को खाने वाले कीटों (थ्रिप्स पाल्मी) की प्रजातियों पर निर्भर करता है। मूँगफली के पौधों की अनुपस्थिति में, थ्रिप (कीट) खेत में या खेत के चारों-ओर मौजूद इस रोग से प्रभावित होने वाले वैकल्पिक पौधों को संक्रमित करता है, उदाहरण के लिए दक्षिणी गेंदा या सदर्न मोरीगोल्ड (टेगेटस माइन्यूटा), और तिपतिया घास या सबटरेनियन क्लोवर (ट्रायफ़ोलियम सबटरेनियम)। अतः, कीटों की संख्या को नियंत्रित करने के लिए विशेष रूप से इन पौधों को हटाना महत्वपूर्ण है। अधिक घनत्व में रोपण करने से भी थ्रिप मूँगफली की फसल पर नहीं/कम बैठते हैं।

जैविक नियंत्रण

बुआई के 20 दिनों बाद ज्वार या नारियल के पत्तों के अर्क का छिड़काव करना थ्रिपों की संख्या को नियंत्रित करने में प्रभावी होता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा जैविक उपचारों के साथ सुरक्षात्मक उपायों के संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करें। विषाणुओं से होने वाले संक्रमणों का रसायन के द्वारा उपचार करना संभव नहीं है। यद्यपि, थ्रिप रोगवाहक के नियंत्रण के लिए कुछ उपचार उपलब्ध हैं। एक सुरक्षात्मक उपाय के रूप में बुआई के 30-35 दिनों बाद डायमेथोनेट जैसे कीटनाशकों का छिड़काव करने से कलियों के गलने के रोग के फैलाव में बड़ी मात्रा में कमी लायी जा सकती है।

निवारक उपाय

  • अगर उपलब्ध हों, तो अपने बाज़ार में इस रोग की प्रतिरोधी प्रजातियों को उगाएं.
  • शीघ्र बुआई से कीटों की संख्या को उच्चतम स्तर तक पहुँचने से रोका जा सकता है.
  • इन कारकों की वृद्धि को बाधित करने के लिए पौधे के रोपण के घनत्व की अधिकता को सुनिश्चित करें.
  • इन कारकों की गतिशीलता को सीमित करने के लिए मकई और बाजरे को साथ में लगाएं.
  • कली के गलने के रोग के प्रति अतिसंवेदशनशील फसलों के निकट मूँगफली, हरे या काले चने की खेती करने से बचें.
  • रोगजनक की वृद्धि के लिए अनुकूल खर-पतवरों और इस रोग से प्रभावित होने वाली फसलों को हटा दें.
  • पहले लक्षणों को देखने के 6 सप्ताह बाद खेत से पौधों के सभी अवशेषों को हटा दें।.