- अरहर और तुअर दाल

अरहर और तुअर दाल अरहर और तुअर दाल

मूँग दाल का पीला मोज़ाइक विषाणु

वाइरस

MYMV


संक्षेप में

  • पत्तियों पर अनियमित पीले-हरे रंग की छींटें जो देखने मे सिकुड़न जैसे नज़र आते हैं.
  • घाव बड़े हो जाते हैं और गाढ़े भूरे रंग के हो जाते हैं.
  • कम, छोटी फलियाँ कभी-कभी ऊपर की तरफ़ मुड़ जातीं हैं.
  • विकास बाधित.
  • बीज की गुणवत्ता और मात्रा भी कम हो जाती है।.
 - अरहर और तुअर दाल

अरहर और तुअर दाल अरहर और तुअर दाल

लक्षण

छोटी पत्तियां अपना हरा रंग खो सकतीं है ( हरितहीन,) नीचे की ओर मुड़ी हुई, या काग़ज़ जैसी सफ़ेद हो सकती हैं। पुरानी पत्तियों पर बिखरे हुए पीले रंग की छींटें दिखती हैं, जो बाद में अनियमित आकार के हरे और पीले धब्बों में विकसित हो जाते हैं। पत्तियों को सिकुड़ी हुई शक्ल देते हुए हरे रंग के क्षेत्र थोड़े उभरे हुए होते हैं। घाव बड़े होकर जुड़ जाते हैं, और मरने लगते हैं। (परिगलन) प्रभावित पौधों का विकास रुक जाता है। वे कम फूलों और फलियों का उत्पादन करते हैं। उनकी फलियां छोटी, पतली और छींटदार होती हैं, और कभी-कभी ऊपर की तरफ़ मुड़ी हुई भी। इनमें कम और छोटे बीज होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

सफ़ेद मक्खी, बेमिसिया टेबाची, वीषाणु को फैलाती है। बीजों के माध्यम से यह नहीं फैलता है। एशिया और ऑस्ट्रेलिया के कई देशों में यह रोग होता है। पत्तियों पर पीले रंग का धब्बा पौधों की उत्पादकता काफ़ी कम करता है। गर्म तापमान और उच्च आर्द्रता रोगवाहक आबादी का समर्थन करते हैं। मूंग की दाल के पीले मोज़ाइक वीषाणु के साथ संक्रमण के कारण 100% उपज नुकसान हो सकता है। दाल का पीला मोज़ाइक वीषाणु हरी दाल की तुलना में काली दाल को ज़्यादा प्रभावित करता है।

जैविक नियंत्रण

वायरल रोगों को नियंत्रित करने के लिए कोई जैविक उपाय नहीं है। लेकिन, नीम तेल जैसे पौधे के अर्क सफ़ेद मक्खी की आबादी को कम करने और संक्रमित फ़सलों की पैदावार में सुधार करने के लिए प्रभावी साबित होते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा निवारक उपाय और जैविक उपचार के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। सायपरमेथ्रिन, डेल्टामेथ्रिन या डाईमिथोएट के पत्तियों के स्प्रे सफ़ेद मक्खी की आबादी को कम कर सकते हैं। रोगवाहकों को कम करने के लिए, सीमा फ़सलों (मक्का, ज्वार और मोती बाजरा) का कीटनाशक के साथ उपचार किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • यदि आपके देश में उपलब्ध हों, तो प्रतिरोधी किस्में लगाएं.
  • सीमा फसलों के रूप में अपने खेत के चारों ओर ज्वार, मक्का या मोती बाजरा उगाएं.
  • लक्षणों के लिए खेत को नियमित रूप से जांचें और संक्रमित पौधों को हटा दें.
  • मक्खियों पर नज़र रखने या बड़ी संख्या में पकड़ने के लिए पीले चिपचिपे जाल उपयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!