- केला

केला केला

केले के अनुपत्र का पच्चीकारी विषाणु (ब्रैक्ट मोज़ाइक वायरस)

वाइरस

BBrMV


संक्षेप में

  • फूलों की पंक्तियों को ढाकती हुई छोटी पत्तियों पर लाल-भूरे रंग के पच्चीकारी स्वरूप दिखाई देते हैं.
  • हरे या लाल-भूरे रंग के धुरा के आकार के घाव और धारियाँ पत्तियों की डंठलों और मध्यशिराओं या फलों के गुच्छों की डंठलों पर देखे जा सकते हैं.
  • टहनियों के आंतरिक ऊतकों का रंग बदरंग हो जाता है.
  • गुच्छे और फल विकृत हो सकते हैं।.
 - केला

केला केला

लक्षण

सबसे स्पष्ट लक्षण एक लाल-भूरे रंग के पच्चीकारी स्वरूप के रूप में पुष्पक्रम के अनुपत्रों (ब्रैक्ट) पर दिखाई देता है। फूलों की डंठल पर फूलों की पंक्तियों को ढाकने वाली छोटी पत्तियों को ब्रैक्ट या अनुपत्र के नाम से जाना जाता है। युवा पौधों में, हरितहीन या लाल-भूरे रंग के धुरा के आकार के घाव और धारियाँ पत्ती को डंठल से जोड़ने वाले हिस्से या मध्यशिरा पर नज़र आ सकते हैं। कभी-कभी, वे शिराओं के समानांतर चलने वाले पत्ती के फलक पर या फल के गुच्छे के डंठलों पर भी दिखाई देते हैं। जब मृत पत्तों को तोड़ा जाता है, तो आंतरिक ऊतकों पर गहरे भूरे रंग के धब्बे या धारियाँ दिखाई देती हैं। गुच्छे में विकास-संबंधी कमियाँ और विकृत फल भी रोग की विशेषता हैं। विषाणु तेज़ी से फैल सकता है और गंभीर संक्रमण फल पैदावार और गुणवत्ता को नुकसान पहुँचा सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण एक ऐसे विषाणु के कारण होते हैं, जो केले के पेड़ों को विभिन्न विकास चरणों में प्रभावित करता है। यह माहु (एफ़िड) की कई प्रजातियों द्वारा एक गैर-निरंतर तरीके से प्रेषित होता है। संक्रमित पौधों पर भोजन करते समय धारण किए गए ये विषाणु रोगवाहक में कम अवधि के लिए जीवित रहते हैं। खेतों के बीच संक्रमित पौधों की सामग्री का स्थानांतरण या परिवहन फैलने का एक और तरीका है। इसका आम नाम फूलों के अनुपत्रों या ब्रैक्ट पर उपस्थित विशेष पच्चीकारी (मोज़ाइक) लक्षणों से लिया गया है।

जैविक नियंत्रण

जैविक नियंत्रक कवकरोधक वर्टिसिलियम लेकानाई का इस्तेमाल माहु की आबादी को कम करने के लिए किया जा सकता है। जब उनकी संख्या बहुत अधिक न हो, तो माहु को नियंत्रित करने के लिए कीटनाशक साबुनों का उपयोग भी किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ-साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। वायरल रोगों का कोई सीधा रासायनिक इलाज नहीं है। लेकिन, कीटनाशकों का उपयोग माहु की जनसंख्या को कुछ हद तक नियंत्रित कर सकता है (उदाहरण के लिए, साइपरमेथ्रिन, एसिटामिड, क्लोरफीरीफ़ोस)। कटे हुए वृक्षों की युवा डंठलों या प्रभावित पौधों को नष्ट करने के लिए खरपतवारनाशक (हर्बिसाइड) का इस्तेमाल किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित रोग-मुक्त स्रोतों से बीज या अंकुरों का उपयोग करें.
  • रोग के लक्षणों के लिए नियमित रूप से फ़सल की जाँच करें.
  • विभिन्न खेतों में काम करते समय औज़ारों और उपकरणों की सफ़ाई करें.
  • संदिग्ध लक्षण वाले पौधों को काटकर नष्ट कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!