- केला

केला केला

शीर्ष को गुच्छानुमा करने वाला विषाणु (बंची टॉप वायरस)

वाइरस

Bunchy Top Virus


संक्षेप में

  • डंठलों, मध्याशिराओं, और पत्तियों के निचले हिस्से की शिराओं पर गाढ़े-हरे रंग की धारियाँ दिखाई देती हैं.
  • बाद में, पत्तियों की शिराओं के समानांतर मोर्स कोड स्वरूप (छोटे गहरे हरे रंग के बिंदु और डैश) विकसित होते हैं.
  • प्रभावित पत्तियाँ अविकसित, पतली और खड़ी हुई, और उनके किनारे घुंघराले और पर्णहरितहीन होते हैं.
  • मुकुट पर छोटी पीली हरी पत्तियाँ एकत्रित होकर "बंची टॉप" (गुच्छानुमा शीर्ष) का निर्माण करती हैं।.
 - केला

केला केला

लक्षण

पौधों के सभी हिस्सों को विकास के सभी चरणों पर वीषाणु प्रभावित कर सकता है। शुरुआती लक्षणों में डंठलों, मध्यशिराओं और नई पत्तियों के नीचे स्थित शिराओं पर गहरे हरे रंग की धारियां दिखाई देना शामिल हैं। बाद में, पत्ती की सतह (लेमिना) पर भी शिराओं के साथ इन छोटे गहरे हरे रंग के बिंदुओं और डैशों (जिसे मोर्स कोड स्वरूप कहा जाता है) को देखा जा सकता है। प्रभावित पत्तियाँ अविकसित, पतली और खड़ी हुई, और इनके किनारे घुंघराले और पर्णहरितहीन होते हैं जो गलना शुरू हो जाते हैं। गंभीर संक्रमणों में, नई पत्तियाँ में ये लक्षण अधिक बिगड़े हुए दिखाई देते हैं। मुकुट पर छोटी पीली हरी पत्तियाँ एकत्रित होकर "बंची टॉप" (गुच्छानुमा शीर्ष) का निर्माण करती हैं। समग्र विकास अवरुद्ध हो जाता है और हो सकता है कि पौधे गुच्छे या फल न पैदा कर पाएं। यदि फल उत्पन्न भी होते हैं, तो वे विकृत और छोटे रह जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण एक वायरस से होते हैं, जो पेड़ से पेड़ तक या खेतों के बीच केले के माहू (पेन्टालोनिया निग्रोनरवोसा) द्वारा फैलता है। अधिक दूरी पर संक्रमण प्रभावित रोपण सामग्री के एक खेत से दूसरे खेत तक ले जाने के माध्यम से फैल सकता है। वीषाणु के अन्य धारकों में अदरक, हेलिकोनिया और अरबी शामिल हैं। केले की किस्में अपनी संवेदनशीलता में भिन्न होती हैं। अंतर मुख्य रूप से लक्षणों के प्रकट होने में लगने वाला समय होता है। पौधे संक्रमण से ठीक नहीं हो पाते हैं। आम तौर पर, संक्रमित अंकुरों के माध्यम से प्राथमिक संक्रमण के मुक़ाबले माहू के माध्यम से अमुख्य संक्रमण ज़्यादा खराब होते हैं। वसंत के दौरान या गर्म, शुष्क मौसम के दौरान लक्षण बढ़ जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

यदि रोग का आरंभिक चरणों में पता चल जाता है, तो पौधों पर साबुन का पानी या कीटनाशक साबुन का घोल छिड़कने से माहू की आबादी को कम करने में मदद मिल सकती है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। वायरल रोगों के लिए कोई सीधा रासायनिक इलाज नहीं है। माहू की आबादी को साइपरमेथ्रिन, एसिटामिड, क्लोरपायरिफ़ोस या संबंधित कीटनाशकों के साथ कुछ हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। खेत में खरपतवार को निकालते समय, सभी माहू को मारने के लिए उनका उपचार पॉवर केरोसीन (ट्रेक्टर वाष्पशील तेल) या कीटनाशक से करें।

निवारक उपाय

  • केवल प्रमाणित स्रोतों से स्वस्थ रोपण सामग्री का उपयोग करें.
  • यदि उपलब्ध हों, तो अधिक सहिष्णु किस्म उगाएं.
  • पौधों की नियमित निगरानी करें और रोगग्रस्त पौधों के लिए जांच करें.
  • संक्रमित केले के पौधों को हटा दें, उन्हें सूखने दें, और फिर उन्हें दफ़ना दें.
  • स्वतः उगने वाले पौधों या अदरक, हेलिकोनिया और अरबी जैसे वैकल्पिक धारक पौधों को नियंत्रित करें.
  • विभिन्न बाग़ानों के बीच केले-मुक्त मध्यवर्ती क्षेत्र (बफ़र ज़ोन) बनाएं.
  • केले के पौधों को अलग क्षेत्रों में न ले जाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!