- मक्का

मक्का मक्का

मकई की पत्तियों पर धारियाँ पैदा करने वाला विषाणु (लीफ़ स्ट्रीक वायरस)

वाइरस

MSV


संक्षेप में

  • प्रारंभिक संक्रमण चरणों में, छोटे, हरितहीन, गोलाकार धब्बे युवा पत्तियों के आधार पर पाए जाते हैं.
  • धब्बों की संख्या फिर बढ़ जाती है और वे जुड़ जाते हैं.
  • वे पत्तियों की शिराओं के समानांतर संकीर्ण सफ़ेद से पीली रंग की धारियों में विकसित हो जाते हैं.
  • वे पूरी पत्ती को ढक सकते हैं और पौधे की विकास को रोक सकते हैं, दाने पूरी तरह विकसित नहीं हो पाते, और उनमें अनाज आंशिक रूप से भर पाता है।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

पौधे की विविधता और पर्यावरणीय परिस्थितियों के आधार पर लक्षण थोड़े भिन्न होते हैं। प्रारंभिक संक्रमण चरणों में, छोटे, हरितहीन, गोलाकर धब्बे युवा पत्तियों के आधार पर पाए जा सकते हैं। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, धब्बों की संख्या बढ़ जाती है और वे जुड़ जाते हैं। पौधे की अतिसंवेदनशील किस्मों में, धब्बे संकीर्ण, सफ़ेद से पीली धारियों में विकसित हो जाते हैं जो पत्ती की शिराओं के समानांतर होते हैं। यदि पौधे की वृद्धि के प्रारंभिक चरणों के दौरान संक्रमण शुरू होता है, तो धारियाँ पूरी पत्ती को ढक देती हैं, जिसके परिणामस्वरूप पौधे विकसित नहीं हो पाते, पुष्पों और दानों का विकास अपूर्ण रह जाता है, और अनाज आंशिक रूप से भर पाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मकई का लीफ़ स्ट्रीक रोग मुख्य रूप से एक अफ्रीकी बीमारी है, लेकिन इसे दक्षिण-पूर्व एशिया में भी पाया गया है। यह एक वायरस के कारण होता है, जो चिकाडुलीना लीफ़हॉपर की कुछ प्रजातियों के माध्यम से फैलता है। ये बढ़ती हुई युवा पत्तियों पर भोजन करके वायरस प्राप्त करते हैं। मौसम की स्थिति के आधार पर, कीट का वृद्धि चक्र 22 से 45 दिनों के बीच है। इसके विकास के लिए 20 से 35 डिग्री सेल्सियस तापमान इष्टतम है, और परिणामस्वरूप फसलों में बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। अनाज फसलों की एक बड़ी संख्या इस विषाणु के धारक हैं (गेहूं, जई, राई, जौ, सॉर्घम...आदि)।

जैविक नियंत्रण

क्षमा करें, हमें एमएसवी के खिलाफ़ किसी भी अन्य उपचार के बारे में जानकारी नहीं है। अगर आप किसी ऐसे उपचार के बारे में जानते हैं जो इस रोग से लड़ने में मदद कर सके, तो कृपया हमसे संपर्क करें। आपके जवाब का इंतज़ार रहेगा।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। वायरस के रोगों के लिए कोई रासायनिक उपचार नहीं है। रोगवाहक की आबादी में कमी करने से आम तौर पर बीमारी के फैलने की दर कम हो जाती है। डायमिथोएट या मैलाथियोन पर आधारित उत्पादों को पत्तियों पर लगाया जा सकता है, लेकिन इस उपाय पर संभावित उपज हानि के बारे में और रोग फैलने की अनिश्चितता के बारे में सोचकर विचार किया जाना चाहिए।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों या प्रमाणित स्रोतों से बीज खरीदें.
  • यदि उपलब्ध हो, तो सहिष्णु या प्रतिरोधी किस्मों का उपयोग करें.
  • खेत की निगरानी करें, रोगग्रस्त पौधे को चुनें और नष्ट करें.
  • वैकल्पिक धारकों के साथ रोपण करें, जो टिड्डी को आकर्षित करते हों और इसकी मदद से फसलों पर संक्रमण की संख्या को कम कर सकते हों.
  • एक से दूसरे पौधे पर जाने वाले इस कीट की गतिशीलता को सीमित करने के लिए अवरोधों का उपयोग करें.
  • खेत में और आसपास खर-पतवार नियंत्रित करें.
  • एक ही खेत में मकई की दो फसलों को अतिव्यापी न करें.
  • फलियाँ, लोबिया, या अन्य गैर-धारक फसलों के साथ चक्रीकरण करें (क्रॉप-रोटेशन)।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!