- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस लेप्रोसिस

वाइरस

Citrus leprosis virus sensu lato


संक्षेप में

  • पत्तियों के बीच में घुन के खाने के धब्बों वाले गोलाकार दाग़.
  • तनों पर छोटे, हरिमाहीन दाग़.
  • फल पर कई गहरे, धंसे हुए दाग़।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

विषाणु पत्तियों, तनों और फलों में स्थानीय लक्षण उत्पन्न करता है। पत्तियों में विशिष्ट दाग़ अक्सर बड़े और गोल (5 से 12 मिमी व्यास), हल्के पीले रंग से गहरे भूरे रंग और 2-3 मिमी व्यास के केंद्रीय परिगलन स्थान वाले होते हैं। यह भक्षण स्थान एक हरिमाहीन प्रभामंडल से घिरा हुआ होता है, जिसमें 1-3 एक के अंदर एक छल्ले बन जाते हैं जो बाद में मिलकर एक हो सकते हैं। पुराने दाग़ों में, एक गहरा केंद्रीय बिंदु भी देखा जा सकता है। तरुण तनों में, दाग़ छोटे, हरिमाहीन और उथले होते हैं। समय के साथ, वे तने पर बढ़ते जाते हैं और मिलकर सूखे, गहरे भूरे या लाल रंग के हो जाते हैं। विकास के अक्ष पर काटने पर पता चलता है कि दाग़ शाखा के अंदर तक फैला हुआ है। फलों में गहरे और दबे हुए दाग़ बड़ी संख्या में पाए जाते हैं और केवल बाहरी भाग को प्रभावित करते हैं। फल गिर सकते हैं या बाज़ार में बेचने योग्य नहीं रह जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ऐसे लक्षण वास्तव में तीन विषाणुओं के एक समूह के कारण होते हैं, जो नींबू वंश के पेड़ों में समान लक्षण पैदा करते हैं। ब्रेवीपैल्पस वंश के कई घुन विषाणु को काफ़ी फैलाते हैं। उदाहरण के लिए, कैलिफ़ोर्निया में रोग फैलाने वाले तीन घुनों, बी. कैलिफ़ोर्निकस, बी. ओबोवैटस और बी. फ़ीनिसिस में से, आख़िरी को मुख्य वाहक माना जाता है। नींबू वंश के अलावा भी इनके और भी कई मेज़बान हैं और ये उन पर व्यापक रूप से फैले मिलते हैं। घुन की सभी सक्रिय अवस्थाएं (लार्वा, निम्फ़ और वयस्क) विषाणु ग्रहण और प्रसारित कर सकती हैं। हालांकि, एक रिपोर्ट बताती है कि लार्वा विषाणु की अधिक कुशलता से फैलाता है।

जैविक नियंत्रण

वाहक घुनों के शिकारी अक्सर वहीं पाए जाते हैं जहां ब्रेविपैल्पस प्रजाति पाई जाती है। फ़ाइटोसेडा परिवार के घुन जैसे कि युसियस, एम्बलीसीयू, फ़ाइटोसियूलस या इफ़िसिओडस ज़ुलुगाई की प्रजातियां नींबू वर्गीय फ़सलों के बाग़ में घुन के वाहक बी फ़ीनिसिस के सबसे बड़े प्राकृतिक दुश्मन हैं। वंश मेटारहिज़ियम या हर्सुटेला थॉम्पसनी के कीटों में रोग फैलाने वाले कवकों का इस्तेमाल भी आबादी घटाने के लिए किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को अपनाएं। सक्रिय तत्व एक्रीनैट्रिन, एज़ोसाइक्लोटिन, बाइफ़ेंथ्रिन, साइहैक्साटिन, डाईकोफ़ोल, हेक्सीथियाज़ोक्स, फ़ेनब्यूटेटिन ऑक्साइड से युक्त घुननाशकों के फ़ार्मूले का इस्तेमाल सिट्रस लेप्रोसिस विषाणु फैलाने वाले घुनों के विरुद्ध किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से बीज और कलम प्राप्त करें.
  • प्रभावित पेड़ों को हटा दें या रोगग्रस्त शाखाओं को छाँट दें.
  • बाग़ों में और आसपास के स्थान को खर-पतवार मुक्त रखें.
  • घुन का फैलाव रोकने के लिए वायु प्रतिरोधक बनाएं.
  • श्रमिकों और उपकरणों के बीच उच्च स्तर की स्वच्छता बनाए रखें.
  • प्रकोप वाले नींबू वंश के पेड़ के हिस्सों को एक से दूसरी जगह लाने-ले जाने से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!