- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस सोरोसिस विषाणु

वाइरस

CPsV


संक्षेप में

  • पत्तियों में शिराओं के बीच का हरा रंग उड़ना या पत्तियों पर पीली चित्तियाँ.
  • छाल पर पपड़ी पड़ना और परतें उतरना.
  • छाल के दाग़ों के आस-पास गोंद जैसा जमाव।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

लक्षणों को सिट्रस के गोलाकार धब्बों वाले विषाणु से हुए लक्षण मानने की भूल न करें। इसके लक्षण पत्तियों, फलों, छाल, तने, जड़ों और शाखाओं पर दिखाई देते हैं। पत्तियों पर हरितहीन चित्तियों या धब्बों से लेकर छींटों के रूप में बदरंग होने तक कई लक्षण दिखाई देते हैं। पत्तियों के विकसित होने पर लक्षण गायब हो सकते हैं। सोरोसिस से संक्रमित फलों में गोलाकार हरितहीन आकृतियां उभर आती हैं। हालांकि, रोग का सबसे सामान्य लक्षण छाल खराब होना है। यह प्रायः फफोलों या बुलबुलों के रूप में आरम्भ होता है, जो बाद में बढ़ जाते हैं और फटकर खुल जाते हैं, जिससे खाली स्थान बन जाते हैं और छाल में ढीली पपड़ी बन जाती है। पपड़ी बनना या परतों का उतरना बाद में शेष तने और मुख्य शाखाओं तक फैल जाता है। दाग़ के किनारों के आसपास प्रायः गोंद जैसा जमाव होता है। अंतिम चरणों में गहराई तक छाल की परतें और लकड़ी गोंद से भर जाती हैं और मृत हो जाती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण सिट्रस सोरोसिस विषाणु है, जो दुनिया भर में नींबू वर्गीय फसलों का सर्वाधिक हानिकारक विषाणु रोगजनक माना जाता है। यह मुख्यतः जड़रोपण के समय संक्रमित कलमों या संक्रमित उपकरणों से फैलता है। कभी-कभी रोग प्राकृतिक जड़ संधियों के माध्यम से संक्रमित पेड़ से स्वस्थ पेड़ में फैलता है। सिट्रेंज की कुछ किस्मों के बीज रोगवाहक के रूप में जाने जाते हैं। प्राकृतिक रूप से, संभवतः कवक ओल्पिडियम ब्रेसिकी या एक अन्य अज्ञात वायवीय वाहक के कारण प्रसार के कुछ प्रमाण मिले हैं। कई इलाकों में सोरोसिस का प्रकोप कलम प्रमाणीकरण योजना अपनाकर कम किया गया है। मुख्यतः संतरा और चकोतरा प्रभावित होते हैं, लेकिन मैंडेरिन, टैन्जेरिन, नींबू, पोमेलो और लाइम में भी लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

अब तक इस रोग से बचने या तीव्रता कम करने के लिए कोई जैविक नियंत्रण उपचार उपलब्ध नहीं है। यदि आप किसी उपाय के बारे में जानते हैं, तो कृपया हमें सूचित करें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को अपनाएं। विषाणु जनित रोगों को सीधे रासायनिक उपचार से नियंत्रित नहीं किया जा सकता है। जब किसी बाग़ में सोरोसिस हो जाता है, तो कटाई-छंटाई के उपकरणों को संक्रमण मुक्त करने के लिए उन्हें ब्लीच के मिश्रण में डुबोएं। रोग से बचने का सर्वश्रेष्ठ उपाय जड़ रोपण के लिए प्रमाणित, रोगमुक्त कलमों का इस्तेमाल करना है।

निवारक उपाय

  • अपने देश में पृथक करने के नियमों (क्वारंटाइन) की जानकारी लें.
  • जड़ रोपण के लिए रोग-मुक्त, प्रमाणित कलमों का इस्तेमाल करें.
  • संक्रमित छाल को खुरच कर हटा दें ताकि घाव पर गाँठ बने, जिससे पेड़ क्षति से अस्थायी रूप से उबर जाता है.
  • उत्पादकता और उपज बढ़ाने के लिए संक्रमित पेड़ों को बदलने पर भी विचार करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!