- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस क्लोरोटिक ड्वार्फ़ वायरस

वाइरस

CCDV


संक्षेप में

  • नई पत्तियों की नोक के पास V आकार का कटाव और पत्तियों का झुकना.
  • पोषक तत्वों की कमी के कारण पत्तियों का चितकबरा होना.
  • गांठ के बीच के हिस्से (इंटरनोड) के छोटे होने के कारण झाड़ी जैसे कम विकसित पेड़।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

एक या दोनों तरफ़ नई पत्तियों की नोकों पर V-आकार का कटाव बनता है और पत्ती धीरे-धीरे नीचे की ओर झुक जाती है। पुरानी पत्तियां छोटी हो जाती हैं और उनमें सिलवटें पड़ सकती हैं। उनमें झुर्रियां, सिकुड़न, या उल्टे कप जैसी (गोंडॉल के पत्तों की तरह) कई तरह की विकृतियाँ भी दिखाई देती हैं। हरा रंग उड़ने के कारण चित्तियां पड़ना या पत्तियों के हिस्से चितकबरे होना भी आम है। ऐसा मुख्य रूप से इस रोग के कारण हुई पोषक तत्वों की कमी से होता है। गांठों के बीच के हिस्सों (इंटरनोड) के छोटे होने के कारण प्रभावित पेड़ झाड़ी जैसे और कम विकसित दिखते हैं। लक्षण बड़े पेड़ों की छतरी (कैनोपी) के एक हिस्से को ही प्रभावित कर सकते हैं और रोग लगने के 5 से 8 सप्ताह बाद पहली या दूसरी बार निकल रही नई पत्तियों पर दिखाई देने शुरू हो सकते हैं। लक्षण 20 से 25 डिग्री सेल्सियस पर नज़र आ सकते हैं पर 30 से 35 डिग्री सेल्सियस पर अधिक स्पष्ट होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण सिट्रस क्लोरोटिक ड्वार्फ़ वायरस (CCDV) है। संक्रमण के पहले वर्ष, पेड़ों पर सामान्य रूप से फूल आते हैं, फल लगते हैं, लेकिन बाद के वर्षों में फूल आना और फल लगना, दोनों कम हो जाते हैं, जो इस बात का संकेत है कि पेड़ बढ़वार खो चुका है। इसे आम तौर पर कलम से फैलने वाला रोग माना जाता है। लेकिन यह कीट वाहक बेबेरी सफ़ेद मक्खियों (सफ़ेद मक्खी पैराबिमेसिया मायरिके) से भी फैलता देखा गया है। इससे इसका फैलाव तेज़ी से और व्यापक रूप से होता है। इसे नींबू वंश का गंभीर रोग माना जाता है और कुछ किस्मों में फलों की संख्या और आकार घटने के कारण कभी-कभी बहुत ज़्यादा नुकसान (चकोतरा में 50%) होता है। कुछ किस्मों (मीठा संतरा) ने रोग के लिए कुछ सहनशीलता विकसित की है, लेकिन संक्रमित लक्षणरहित पौधे रोगाणु के स्रोत के रूप में कार्य कर सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

क्षमा करें, CCDV का हमला होने या इसकी विकटता कम करने के लिए किसी जैविक उपचार की जानकारी नहीं है। अगर आपको कुछ ऐसा पता है जो इस रोग से लड़ने में मदद कर सकता है, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हमें आपके संदेश का इंतज़ार रहेगा।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को अपनाएं। विषाणु जनित रोगों का उपचार रासायनिक विकल्पों से नहीं किया जा सकता है। बेबेरी सफ़ेद मक्खियों (सफ़ेद मक्खी पैराबिमेसिया मायरिके) का सक्रिय घटकों, एसिटामिप्रिड, बुप्रोफ़ेज़िन और पायरिप्रोक्सिफ़ेन, के साथ उपचार किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • अपने देश में लागू क्वारंटाइन नियमों की जानकारी लें.
  • रोग का फैलाव रोकने के लिए प्रमाणित, रोगाणु-मुक्त, नींबू वंश रोपण सामग्री का इस्तेमाल बहुत महत्वपूर्ण है.
  • इस्तेमाल किए जा रहे औज़ार साफ़ रखें.
  • पेड़ों की संभाल कर रहे श्रमिकों को भी स्वच्छता बनाए रखने के लिए कहें.
  • बाग़ों के बीच से पेड़ों के संक्रमित हिस्सों को लेकर न गुज़रें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!