- शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

टमाटर का मोज़ाइक वायरस

वाइरस

TMV


संक्षेप में

  • संक्रमित पत्तियाँ विकृत हो जाती हैं.
  • पत्तियां हरी और पीले रंग की चित्तीदार हो जाती हैं.
  • पौधों का विकास रुक सकता है और फलों के समूह गम्भीर रूप से खराब हो सकते हैं.
  • परिपक्व होने वाले फलों की सतह पर भूरे रंग के धब्बे और उनके गूदे पर आंतरिक भूरे रंग के दाग़ विकसित हो जाते हैं।.
 - शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

लक्षण

किसी भी विकास के चरण के दौरान सभी पौधों के हिस्से प्रभावित हो सकते हैं। लक्षण पर्यावरणीय स्थितियों (प्रकाश, दिन की लंबाई, तापमान) पर निर्भर करते हैं। संक्रमित पत्तियाँ हरी और पीले रंग की चित्तकबरी या मोज़ाइक पैटर्न दिखाती हैं। छोटे पत्ते थोडे़ विकृत हो जाते हैं। पुराने पत्तों पर गहरे हरे रंग के उभरे हुए हिस्से दिखाई देते हैं। कुछ मामलों में, गहरी रंगहीन धारियाँ तनों तथा डंठलों पर दिखाई देने लगती हैं। पौधे का विकास अवरुद्ध हो जाता है और फलों के समुह गम्भीर रूप से खराब हो सकते हैं। असमान रूप से पकने वाले फलों की सतह पर भूरे रंग के धब्बे हो जाते हैं, और फल की दीवार में आंतरिक, भूरे रंग के धब्बे हो जाते हैं। फसल की पैदावार काफ़ी कम हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

वायरस पौधों या जड़ों के मलबे में शुष्क मिट्टी में 2 से अधिक वर्षों की अवधि (अधिकांश मिट्टी में 1 महीने) के लिए ज़िंदा रह सकता है। पौधे जड़ों में छोटे घावों के माध्यम से दूषित हो जाते हैं। यह वायरस, संक्रमित बीज, अंकुरों, खरपतवार और पौधे के दूषित भागों के माध्यम से फैल सकता है। हवा, बारिश, टिड्डी, छोटे स्तनधारी और पक्षी भी वायरस को एक खेत से दूसरे खेत तक फैल सकते हैं। पौधों की देखभाल करते समय ख़राब खेती प्रथाएं भी वायरस को फैला सकती हैं। दिन की लंबाई, तापमान और रोशनी की तीव्रता के साथ-साथ पौधे की विविधता और उम्र संक्रमण की गंभीरता निर्धारित करते हैं।

जैविक नियंत्रण

बीजों को 4 दिनों के लिए 70° सेल्सियस या 24 घंटे के लिए 82-85° सेल्सियस पर गर्म कर के सुखाने से वायरस से मुक्त करने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, बीज को 15 मिनट के लिए ट्राईसोडियम फॉस्फेट के 100 ग्रा/ली के विलयन में भिगोया जा सकता है। बाद में पानी के साथ अच्छी तरह से धोकर सुखा दें।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ बचाव के उपाय भी साथ में करें। टमाटर मोज़ाइक वायरस के खिलाफ़ कोई प्रभावी रासायनिक उपचार नहीं है।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों या प्रमाणित स्रोतों से बीज का उपयोग करें.
  • प्रतिरोधी या सहिष्णु किस्मों का उपयोग करें.
  • वायरस से अपनी तैयार क्यारी की मिट्टी को छुटकारा दिलाने के लिए भाप-पास्‍तुरीकरण का उपयोग करें.
  • पहले से वायरस द्वारा संक्रमित खेतों में रोपण न करें.
  • हाथ धोकर, दस्ताने पहनकर और अपने औज़ारों और उपकरणों को कीटाणुरहित करके पौधों को ठीक से संभालें.
  • टमाटर पौधों के आसपास तम्बाकू उत्पादों (जैसे सिगरेट) का उपभोग न करें.
  • तैयार क्यारियों और खेतों की निगरानी करें, रोगग्रस्त पौधों को हटा दें और उन्हें जला दें.
  • टमाटर के करीब वैकल्पिक परपोषी पौधों को उगने से रोकें.
  • गैर-परपोषी फसलों के साथ कम से कम दो वर्षों के लिए फ़सल को बदलें.
  • खेत में और इसके आसपास की खरपतवार को ढूँढें और उन्हें नष्ट कर दें.
  • कटाई के बाद जुताई करें और पौधे के मलबे को हटाकर जला दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!