- केला

केला केला

केले को प्रभावित करने वाला कुकुम्बर मोज़ाइक वायरस

वाइरस

CMV


संक्षेप में

  • पीले व हरे रंग की मोज़ाइक आकृतियाँ पत्तियों को एक नग्न रूप प्रदान करती हैं.
  • विकसित होती पत्तियों में किनारों पर टेढ़ापन और काले गले हुए ऊतक दिखाई देते हैं.
  • पत्ती के खोलों और छद्यतनों (पत्तियों के खोलों का बना तने का गूदेदार हिस्सा) के आंतरिक ऊतकों पर सड़े हुए हिस्से दिखाई दे सकते हैं.
  • संक्रमित पौधे परिपक्व नहीं हो पाते हैं या गुच्छों का उत्पादन नहीं कर पाते हैं.
  • फल आकार में छोटे दिखाई दे सकते हैं और उनपर हरित हीनता या गलन की रेखाएं दिखाई दे सकती है।.
 - केला

केला केला

लक्षण

यह संक्रमण वृक्ष के विकास के किसी भी चरण में उत्पन्न हो सकता है और यह मुख्य रूप से पत्तियों पर दिखाई देता है। इसके शुरूआती लक्षणों में शिराओं के समानांतर निरंतर या बाधित धारियों की मौज़ाइक जैसी आकृतियाँ दिखाई देती है। पत्तियाँ नग्न दिखाई देने लग सकती हैं। समय के साथ, पत्ती की परत पूरी तरह से विकसित नहीं होती है और किनारे अनियमित रूप से घुमावदार दिखाई देते हैं और उनपर सड़े हुए धब्बे भी दिखाई दे सकते हैं। नई पत्तियों के आकार में कमी भी आ सकती है। पत्तों के आवरणों पर सड़े हुए हिस्से दिखाई दे सकते हैं और वे आगे छद्यतनों (पत्तियों के खोलों का बना तने का गूदेदार हिस्सा) और कोंपलों में फैल सकते हैं। पुरानी पत्तियों पर काली या जामुनी रेखाओं के रूप में सड़न के चिन्ह दिखाई देते हैं, और वे झड़ जाती हैं। संक्रमित पौधे परिपक्व नहीं हो पाते हैं और गुच्छों का उत्पादन नहीं कर पाते हैं। फल हमेशा लक्षणों को नहीं दर्शाते हैं, लेकिन वे अक्सर आकार में छोटे दिखाई देते हैं और उनपर हरित हीनता से ग्रस्त रेखाएं या सड़े हुए हिस्से दिखाई देते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण एक विषाणु के कारण उत्पन्न होते हैं। मुख्य संक्रमण अक्सर प्रत्यारोपण के रूप में पौधे की महीन जड़ों या अंकुरों जैसी संक्रमित पौध सामग्री के ज़रिये होता है। माध्यमिक संक्रमण के लिए माहू की प्रजातियाँ रोगजनक होती हैं और वे विषाणु के कणों को अन्य पौधों या खेतों तक पहुँचाती हैं। खीरे और टमाटर विषाणु के फैलने के संबंध में निष्क्रिय पौधे होते हैं, अर्थात्, वे बिना किसी लक्षण उत्पन्न किए हुए विषाणु के कणों को आश्रय दे सकते हैं। इस संक्रमण के लिए बार-बार होने वाली बरसात जैसी मौसम की स्थितियाँ अनुकूल होती हैं, उदाहरण के लिए वर्षा-ऋतु के आरंभ होने के कई दिनों बाद या वर्षा-ऋतु के बाद का समय। केलों के पौधों के लिए यह रोग अत्यंत गंभीर होता है और इसके कारण उपज का भारी नुकसान हो सकता है।

जैविक नियंत्रण

विषाणुओं से होने वाले रोगों का सीधे-सीधे कोई उपचार नही है, किन्तु माहू द्वारा फैलने वाले इस संक्रमण के ख़तरे को कम करना संभव है। माहू की प्रजातियों के विरूद्ध विभिन्न प्राकृतिक शत्रुओं का प्रभावी ढंग से उपयोग किया जा सकता है, जैसे कि परजीवी या परभक्षी कीटों और फफूंद की प्रजातियाँ। एक दिन के लिए पौधे की महीन जड़ों या अंकुरों का 40 डिग्री सेल्सियस पर एक शुष्क गर्म उपचार भी संक्रमण के ख़तरे को कम करने में सहायक हो सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा जैविक उपचारों के साथ सुरक्षात्मक उपायों के संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करें। विषाणुओं से होने वाले रोगों का सीधे-सीधे कोई उपचार संभव नही है, किन्तु वैकल्पिक पौधों व रोजनकों में इसे कुछ हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। अगर कीटनाशकों की आवश्यकता पड़े, तो पत्तों के झुंड पर छिड़काव करने के लिए डीमीटॉन-मिथाइल, डायमेथोएट और मेलाथियॉन से युक्त उत्पादों का उपयोग किया जा सकता है। कृपया ध्यान रखें कि इन सूचीबद्ध रसायनों का मानव के साथ-साथ पशुओं के स्वास्थ्य पर ज़हरीले से बहुत ज़हरीले प्रभाव हो सकते हैं।

निवारक उपाय

  • अगर उपस्थित हों, तो ठोस क्वारंटीन उपायों का पालन करें.
  • विश्वसनीय स्रोतों से प्राप्त स्वस्थ पौध सामग्री का उपयोग करें.
  • वृक्षारोपण के दौरान पौधों की संवेदनशील प्रजातियों का रोपण नहीं करें.
  • अपने पौधों या खेत में किसी प्रकार के रोग के चिन्हों और माहू जैसे रोग कारकों की उपस्थिति की जाँच करें.
  • जहाँ केलों का रोपण किया गया है, उसके नज़दीक टमाटर व खीरे के परिवार के पौधों, मकई, और जीनस पेनिकम व डिजिटेलिया की प्रजातियों जैसे वैकल्पिक मेज़बान पौधों की खेती नहीं करें.
  • संक्रमित खेतों से माहू के प्रवेश करने पर रोक लगाने के लिए चार में से तीन क्यारियों में ब्राउन हेम (क्रोटेलेरिया जुन्सिया) जैसी अवरोधक फसलों को लगाएं.
  • संक्रमित पौधों को खेत से हटाएं और उन्हें गाड़कर या जलाकर नष्ट कर दें.
  • विभिन्न खेतों के बीच अंकुरों या पौधों की महीन जड़ों को नहीं फैलाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!