- मक्का

मक्का मक्का

मक्के का हरिमाहीन चित्तीदार विषाणु

वाइरस

MCMV


संक्षेप में

  • पत्तियों पर कई सारी, सूक्ष्म पीली चित्तियां एवं धारियां.
  • बाद की अवस्था में, हरिमाहीन धारियां या धब्बे, जो पूरे पत्ते पर फैले हो सकते हैं.
  • बाली का विरूपण, छोटे पोर तथा पौधों का अवरुद्ध विकास।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

लक्षण विभिन्न संकरों/किस्मों एवं पौधों के संक्रमित होने के विकास चरण के आधार पर गंभीर रूप से बदल सकते हैं। इस रोग की विशेष पहचान है कई सारी, सूक्ष्म पीली चित्तियों एवं धारियों, जो पत्तियों की शिराओं के सामानांतर दिखाई पड़ती हैं। जैसे-जैसे वे बढ़ती हैं एवं एक साथ जुड़ जाती हैं, तो वे हरितरोग ऊतकों की लंबी धारियां, पट्टियां या धब्बे उत्पन्न करती हैं, जिसके परिणामस्वरूप पत्तियां आखिर में झड़ जाती हैं। पौधे का छोटे पोरों के साथ एक अवरुद्ध विकास होता है। नर पुष्पक्रम छोटे प्राक्षों एवं कम बालियों के साथ विकृत होते हैं। विशेषरूप से अतिसंवेदनशील पौधों में या आरंभिक संक्रमण के मामले में, बालियां ठीक से विकसित नहीं होती हैं तथा हर पौधे में उनकी संख्या बहुत कम होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण एक विषाणु (MCMV) के कारण उत्पन्न होते हैं, जो कई प्रकार के कीटों द्वारा संचारित हो सकता है, जैसे कि: पातफुदका, गुबरैले और सम्भवतः घुन की कुछ प्रजातियां (टेट्रानायकस प्रजाति) एवं तैला (फ्रैंकलिनिएल्ला प्रजाति)। MCMV मक्का उगाए जाने वाले नए खेतों में आमतौर पर संक्रमित पौधे की सामग्री के माध्यम से प्रविष्ट होता है। प्रवेश करने के बाद, यह ऊपर उल्लेख किये गए कीटों की भक्षण क्रिया द्वारा मक्के के स्वस्थ पौधों में लगातार फैलता रहता है। जब मक्के के पौधे उपलब्ध नहीं होते हैं, तो यह अपनी लार्वा अवस्था में सर्दियां भी बिता सकता है। इसे बीजजनित नहीं समझा जाना चाहिए। परंतु, मशीनी घावों के माध्यम से संचरण संभव है। उच्च तापमान, पादप तनाव एवं गीले मौसम की लंबी अवधि इस रोग के विकास को बढ़ावा देते हैं।

जैविक नियंत्रण

विषाणुओं के कारण होने वाले रोगों का कोई प्रत्यक्ष नियंत्रण नहीं होता है। इस विषाणु को रोकने का सबसे अच्छा तरीका प्रतिरोधी किस्मों का उपयोग करना है। कृपया उन गुबरैलों, तैला या घुनों के जैविक नियंत्रण के लिए डेटाबेस की जांच करें जो इस विषाणु के लिए रोगाणुवाहक के रूप में कार्य कर सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

उपलब्ध होने पर हमेशा निवारक उपायों और जैविक उपचारों के एक एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। विषाणुजनित रोगों को रासायनिक उत्पादों का प्रयोग करके प्रत्यक्ष रूप से नियंत्रित नहीं किया जा सकता। परंतु, विषाणु को संचारित करने वाले कीटों को कीटनाशकों का प्रयोग करके नियंत्रित किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • उपलब्ध होने पर प्रतिरोधी किस्में उगाएं, क्योंकि यह इस रोग के खिलाफ़ सबसे महत्वपूर्ण कदम है.
  • खेतों की नियमित रूप से जांच करें तथा किसी भी संक्रमित पौधे को हटा दें.
  • खेतों में काम करने के दौरान मक्के के पौधे को मशीनी क्षति पहुंचाने से बचें.
  • वैकल्पिक खरपतवार मेज़बानों, विशेषकर घासीय खरपतवारों, को नियंत्रित करें.
  • फसल के अवशेषों को मिट्टी में मिलाने के लिए फसल-कटाई के बाद खेत की जुताई करें.
  • किसी असंवेदनशील फसल के साथ एक वर्ष के लिए फसल चक्रीकरण की योजना बनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!