- अन्य

अन्य अन्य

तरबूज़ का चितकबरा विषाणु (मोज़ेक वायरस)

वाइरस

WMV


संक्षेप में

  • सभी अंगों पर चितकबरे स्वरूप या चित्तीदार पत्तियां और कभी-कभी पत्ती विकृति.
  • तरबूज़ पर गहरे हरे चकत्ते।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

लक्षण संबंधित फसल, संक्रमण के समय और मौसम की परिस्थितियों पर निर्भर करते हुए अलग-अलग होते हैं। इसके अलावा, संक्रमण अक्सर अन्य मिश्रित संक्रमणों जैसे खीरा मोज़ेक विषाणु और ज़ुकिनी पीला मोज़ेक विषाणु के साथ होता है जो लक्षणों को बदल या ढंक सकते हैं। कुल मिलाकर इनकी विशेषताएं हैं, सभी अंगों पर चितकबरा स्वरूप या पत्तियों पर चित्तीदार पैटर्न, ऊतकों पर गांठों की मौजूदगी और विभिन्न स्तर की पत्ती विकृति। फल का रंग उड़ना एक और मुख्य लक्षण है। तरबूज़ की आम तौर पर भूसे जैसे रंग की सतह पर गहरे हरे चकत्ते या धब्बे दिखते हैं। मटर पर पत्तियों के चित्तीदार पड़ने से अक्सर स्थानीय परिगलित दाग़ पड़ जाते हैं। पत्तियों को क्षति पहुंचने के कारण विषाणु के संक्रमण के परिणामस्वरूप वृद्धि दर और उपज भी घट जाती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

तरबूज़ का चितकबरा विषाणु कई तरह के लक्षणों का कारण है। यह कई तरह से फैल सकता है जिसमें वाहक (मुख्य रूप से एफ़िड) से या किसी व्यक्ति या औज़ार के संपर्क में आना शामिल है। हालांकि ये बीजों से नहीं फैलता क्योंकि यह बीज-जनित नहीं है। एफ़िड इसे रस पान के दौरान प्राप्त करते हैं और संपर्क के कुछ घंटों बाद इसे अनियमित रूप से संचारित करते हैं। खीरा वर्गीय फ़सलों के अलावा मुख्य पर्याय मेज़बान मटर के पौधे और अल्फ़ा-अल्फ़ा हैं। चूंकि संचार अनियमित होता है, इसलिए कीटनाशक विषाणु पर प्रभावी नियंत्रण प्रदान नहीं करते हैं जब तक कि उनको एफ़िड आबादी कम करने के लिए निवारक उपाय के तौर पर इस्तेमाल न किया जाए। खेत में विषाणु मिलने पर कीटनाशक द्वारा समाप्त किए जाने से पहले एफ़िड संभवतः इसे नए धारक तक फैला देते हैं।

जैविक नियंत्रण

देखा गया है कि खनिज तेल का छिड़काव विषाणु प्रसार में बाधा डालता है और एक प्रभावी नियंत्रक हो सकता है। एफ़िड के कई शिकारी हैं जिन्हें खेतीबाड़ी के अच्छे तौर-तरीकों से बढ़ावा देना चाहिए।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। हालांकि विषाणु सीधे रसायनों से उपचारित नहीं किया जा सकता है, संचार के वाहक-मुख्य रूप से एफ़िड को काफ़ी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। हालांकि कुछ हालात में एफ़िड पर कीटनाशकों प्रभाव वास्तव में सीमित होता है। एफ़िड और उनके संभावित रासायनिक नियंत्रण के लिए डाटा बेस खंगालें।

निवारक उपाय

  • कुछ फ़सलों के लिए प्रतिरोधी किस्में बाज़ार में मौजूद हैं.
  • रोग के साथ एफ़िड की मौजूदगी के संकेतों के लिए खेतों की नियमित निगरानी करें.
  • गैर-धारक पौधों के साथ फ़सल चक्रीकरण विषाणु से बचने में सहायक हो सकता है.
  • पिछली फ़सलों का अपशिष्ट हटा दें.
  • कीटनाशक का नियंत्रित इस्तेमाल करें ताकि लाभदायक कीट प्रभावित न हों.
  • स्टिकी बैंड से एफ़िड को सुरक्षा देने वाली चींटियों की आबादी नियंत्रित करें.
  • खेत में और आसपास खरपतवार और अल्फ़ा-आल्फ़ा न उगने दें.
  • रोग के कारण नुकसान कम करने के लिए एफ़िड को दूर करने वाली प्लास्टिक पलवार का इस्तेमाल करें.
  • एफ़िड को पौधे तक पहुंचने से रोकने के लिए पंक्ति आवरण का इस्तेमाल करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!