- शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

मिर्च का पर्ण कुंचन विषाणु

वाइरस

CLCV


संक्षेप में

  • पत्तियों के किनारों का ऊपर की ओर मुड़ना.
  • शिराओं का पीला पड़ जाना.
  • पत्ती का आकार कम होना.
  • पुरानी पत्तियां चमड़े जैसी और भंगुर हो जाती हैं.
  • पौधे की वृद्धि अवरुद्ध हो जाती है.
  • छोटे आकार के फलों के गुच्छे।.
 - शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

लक्षण

मिर्च के पर्ण कुंचन विषाणु (लीफ़ कर्ल वायरस) के लक्षणों की विशेषता पत्तियों के किनारों का ऊपर की ओर मुड़ना, शिराओं का पीला पड़ना और पत्ती का अकार कम होना है। इसके अलावा, पत्तियों के पर्व (दो गांठों के बीच की जगह) और डंठल छोटे रह जाने के साथ-साथ, शिराएं फूल जाती हैं। पुरानी पत्तियां चमड़े जैसी और भंगुर हो जाती हैं। अगर पौधे मौसम की शुरुआत में संक्रमित होते हैं, तो उनकी वृद्धि अवरुद्ध हो जाती है और नतीजतन उपज काफ़ी घट जाती है। कमज़ोर किस्मों में फल अल्पविकसित और विकृत होते हैं। इस विषाणु के लक्षण थ्रिप्स और घुनों से हुई क्षति जैसे ही होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण बेगोमोवायरस हैं, जो मुख्य रूप से सफ़ेद मक्खी के माध्यम से निरंतर फैलता रहता है। ये 1.5 मिमी. लंबे और पीले शरीर और मोमदार सफ़ेद पंखों वाले होते हैं और अक्सर पत्तियों के निचले हिस्से में पाए जाते हैं। रोग का फैलाव हवा की स्थिति पर निर्भर करता है। हवा से ही यह पता चलता है कि सफ़ेद मक्खी कितनी दूर तक पहुंच सकती है। सफ़ेद मक्खी मौसम के मध्य और अंत में सबसे ज़्यादा समस्या पैदा करती है। चूंकि यह रोग बीज जनित नहीं है, इसलिए वायरस वैकल्पिक मेज़बानों (जैसे तंबाकू और टमाटर) और खरपतवार के माध्यम से पर्यावरण में बना रहता है। हाल में हुई वर्षा, संक्रमित पौध और खरपतवार की मौजूदगी वे अन्य कारण हैं जो रोग के विकास को बढ़ावा दे सकते हैं। पौधशालाओं में, मिर्च के पौधों की नवांकुर और वृद्धि अवस्थाओं में संक्रमण होने की संभावना सबसे ज़्यादा होती है।

जैविक नियंत्रण

जीवाणु के संक्रमण को कम करने के लिए सफेद मक्खी की जनसंख्या को नियंत्रित करे। नीम के तेल या पेट्रोलियम आधारित तेलों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है। सुनिश्चित करें कि तेल पूरे पौधों पर लग जाए, विशेष रूप से पत्तियों के निचले हिस्सों पर जहाँ सफेद मक्खी आमतौर पर पाई जाती हैं। कुछ प्राकृतिक शत्रु, जैसे कि लेसविंग, बिग-आईड बग, सूक्ष्म पाइरेट कीड़े सफेद मक्खी की जनसंख्या को नियंत्रित कर सकते है।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। चिली लीफ़ कर्ल वायरस की रोकथाम या उसका संक्रमण कम करने के लिए कोई ज्ञात प्रभावी तरीके नहीं हैं। रसायनिक नियंत्रण तरीकों, जैसे कि इमिडैक्लोप्रिड या डाइनोटेफ़ुरान आज़माएं। कीट पर नियंत्रण के लिए प्रत्यारोपण से पहले नवांकुरों पर इमिडैक्लोप्रिड या लैंब्डा सायहैलोथ्रिन से छिड़काव करें। कीटनाशकों के बेतहाशा इस्तेमाल से लाभदायक कीड़ों को नुकसान पहुंच सकता है और कई सफ़ेद मक्खी प्रजातियों को प्रतिरोधी भी बना सकता है। इसे रोकने के लिए, कीटनाशकों का बदल-बदल कर इस्तेमाल करें और चुनिंदा कीटनाशकों का उपयोग करें।

निवारक उपाय

  • पौधे की प्रतिरोधी किस्मों का ही इस्तेमाल करें और केवल विषाणु मुक्त पौधों से ही बीज प्राप्त करें.
  • अपने खेतों के चारों ओर अवरोधक फसलों, जैसे कि मक्का, ज्वार, बाजरा, की कम से कम दो कतारें लगाएं.
  • सफ़ेद मक्खी की आबादी नियंत्रित करें और पौधशाला के पौधों पर नायलॉन नेट लगाकर विशेष रूप से उनसे नवांकुरों की रक्षा करें.
  • मुड़ी हुई पत्तियों और अवरुद्ध वृद्धि की जांच-पड़ताल करके शुरुआती संक्रमण का पता लगाने के लिए खेत की लगातार निगरानी करें.
  • सफ़ेद मक्खियों को आकर्षित करने के लिए खेत में कई पीले चिपचिपे जाल (स्टिकी येलो ट्रैप) या पट्टियां लगाएं.
  • नेट के अंदर नवांकुरों को उगाकर रोगजनक पर नियंत्रण रखें.
  • नेट नवांकुरों पर सफ़ेद मक्खी के हमले को भी रोक सकता है.
  • खेत और उसके आसपास का क्षेत्र खरपतवार मुक्त रखें.
  • प्रारंभिक संक्रमण वाले पौधों को एकत्र करें और जलाकर नष्ट कर दें.
  • गहरी जुताई करें या फिर फसल काटने के बाद सभी फसल अवशेष जला दें.
  • मिश्रित फसलें उगाकर लाभदायक कीटों को बढ़ावा दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!