- धान

धान धान

धान को घासदार बौनी बढ़त देने वाला विषाणु (ग्रासी स्टंट वायरस)

वाइरस

RGSV


संक्षेप में

  • सामान्य लक्षणों में पौधों की अवरुद्ध वृद्धि, पत्तियों का पीला पड़ना, और बहुत सीधी बढ़त शामिल है.
  • गहरे-भूरे या ज़ंग जैसे रंग के धब्बे पत्तियों पर मौजूद होते हैं.
  • अंकुर चरण में संक्रमित पौधे शायद ही परिपक्वता तक पहुँचते हैं.
  • बाद के चरणों में संक्रमित पौधे पुष्पगुच्छ की उत्पत्ति करने में विफल होते हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

चावल की फसलें अपनी सभी वृद्धि अवस्थाओं में प्रभावित हो सकती हैं, लेकिन नई टहनियां निकलने के वानस्पतिक विकास की अवधि के दौरान सबसे संवेदनशील होती हैं। सबसे आम लक्षण हैं: गंभीर तौर पर बौनी बढ़त, नई टहनियों की अत्यधिक संख्या के कारण घास जैसा स्वरूप, और पौधे का एकदम सीधा विकास। पत्तियां छोटी, संकीर्ण, पीली-हरी या पीली और धब्बेदार होती हैं। करीब से देखने पर पत्ती की सतह पर कई गहरे भूरे या रेतुआ रंग के धब्बे या चकत्ते दिखाई देते हैं, जो अक्सर पूरे पत्ते को ढक देते हैं। जब अंकुर चरण के दौरान संक्रमण होता है, तो पौधे शायद ही परिपक्वता तक पहुंच पाते हैं। बाद के चरण में प्रभावित होने वाले पौधे आमतौर पर परिपक्वता तक पहुंचते हैं, लेकिन आम तौर पर पुष्प गच्छों की पैदावार करने में विफल होते हैं, और इस प्रकार पैदावार पर असर पड़ता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

प्रजाति निलापर्वाटा (एन. लुंगेन्स, एन. बेकरी और एन. मुइरी) के भूरे पात फुदका द्वारा यह विषाणु फैलता है। कीटडिंभ और वयस्क, दोनों लंबे समय तक विषाणु अपने भीतर बनाए रखने की क्षमता रखते हैं, और इस तरह नए पौधों को लगातार और संचारित तरीके से संक्रमित करते हैं। परंतु, वायरस को लेने के लिए पात फुदका को कम से कम 30 मिनट के लिए संक्रमित पौधे पर भोजन करने की आवश्यकता होती है। रोग मुख्य रूप से दक्षिण और दक्षिण पूर्व एशिया, चीन, जापान और ताइवान, इंडोनेशिया, फ़िलीपींस और भारत में पाया जाता है, विशेषकर उन क्षेत्रों में जहां चावल की एकल कृषि होती है। अनुकूल परिस्थितियों में, विषाणु पौधों को चावल की खुरदुरी बौनी बढ़त पैदा करने वाले विषाणु (रैगेड स्टंट वायरस), जिसका एन. लुंगेंस भी रोगवाहक होता है, के साथ मिलकर संक्रमित कर सकता है, और गंभीर नुकसान का कारण बनता है।

जैविक नियंत्रण

विषाणुजनित बीमारियों का सीधा इलाज संभव नहीं है। नीम के बीज का अर्क भूरे रंग के पात फुदका की आबादी को कम करने में मदद कर सकता है और इस तरह ग्रासी स्टंट वायरस के फैलाव को दबा सकता है। पात फुदका के प्राकृतिक दुश्मनों में पानी के स्ट्राइडर, मिरिड कीट, मकड़ियां, और अंडे के विभिन्न परजीवी ततैया और मक्खियाँ शामिल हैं। भूरे पात फुदका की संख्या को कम करने के लिए क्यारियों में एक दिन के लिए पानी भी भरा जा सकता है, ताकि कीड़ें उसमें डूब जाएं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। विषाणुजनित रोगों का प्रत्यक्ष उपचार संभव नहीं है, लेकिन पात फुदकी कीअत्यधिक संख्या होने पर कीटनाशकों का उपयोग किया जा सकता है। एबामेक्टिन, बुप्रोफ़ेज़िन और एटोफ़ेनप्रॉक्स पर आधारित उत्पाद का उपयोग किया जा सकता है। कीटनाशकों का इस्तेमाल हमेशा रोगवाहक आबादी को नियंत्रित करने में सफल नहीं होता है, ख़ासकर उन क्षेत्रों में जहां चावल पूरे वर्ष उगाया जाता है।

निवारक उपाय

  • रोग/या कीट के संकेत के लिए नियमित रूप से खेतों की निगरानी करें.
  • पौधे की बुनियाद तक सूरज की रोशनी पहुंचने को सुनिश्चित करने के लिए रोपण के समय पौधों के बीच पर्याप्त जगह रखें.
  • कीट की आबादी को चरम सीमा तक पहुंचने से रोकने के लिए अपने पड़ोसी किसानों के साथ एक ही समय पर पौधे लगाएं.
  • उन किस्मों का उपयोग करें जो कीट के हमले के लिए अधिक प्रतिरोधी हैं.
  • उर्वरकों को यथोचित रूप से लगाएं.
  • खेत के अंदर और आसपास के खरपतवारों को हटा दें और उन्हें नष्ट कर दें.
  • व्यापक पहुँच वाले कीटनाशकों का उपयोग न करें क्योंकि वे लाभकारी कीड़ों को प्रभावित कर सकते हैं.
  • कटाई के बाद ठूँठ निकालें और उन्हें खेत के बाहर ले जाकर नष्ट कर दें.
  • संक्रमित ठूँठ के अपघटन को बढ़ावा देने के लिए और कीट के जीवन चक्र को तोड़ने के लिए गहरी जुताई करके उसे दफ़ना दें.
  • गैर-अतिसंवेदनशील फसलों के साथ फसल चक्र की योजना बनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!