- आलू

आलू आलू

आलू का एस. वायरस

वाइरस

PVS


संक्षेप में

  • पत्तियों का विकृत और कांसे जैसा भूरा (ब्रोंज़िंग) पड़ जाना.
  • पत्तियों पर सूक्ष्म धब्बों की मौजूदगी।.
 - आलू

आलू आलू

लक्षण

विषाणु के लक्षण बहुत अलग-अलग होते हैं और मेज़बान, पर्यावरणीय परिस्थितियों सहित कई कारकों पर निर्भर करते हैं। अधिकतर किस्मों में विषाणु संक्रमण लक्षणविहीन ही रहता है। हालांकि दूसरी ओर, शुरुआती वृद्धि अवस्था में संक्रमण होने पर कुछ किस्में शिराओं का हल्का गहरापन, खुरदुरी पत्तियां, ज़्यादा खुली वृद्धि, पत्तियों पर समूह में हल्के धब्बों की मौजूदगी, पत्तियों का कांसे जैसा रंग (ब्रोंज़िंग) या मृत (काले) धब्बे प्रदर्शित करती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण आलू का एस. विषाणु है जो कि एक कार्लावायरस है। यह मुख्य रूप से रुक-रुक कर एफ़िड (माहू) द्वारा फैलाया जाता है। हालांकि यह यांत्रिक रूप से मशीनों, औज़ारों और खेत से गुज़रते समय पौधों को क्षति पहुंचने से भी फैल सकता है। एफ़िड अब तक इसके संचार के लिए सबसे कुशल माध्यम साबित हुए हैं। हालांकि मौसम के बाद के समय में पौधे आलू के एस. विषाणु के प्रति प्रतिरोधी हो जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

एफ़िड के कई शिकारी हैं और उन्हें अच्छे खेतीबाड़ी तरीकों का इस्तेमाल करके बढ़ावा दिया जाना चाहिए। पौधे की पत्तियों पर पानी और डिटरजेंट की कुछ बूदों से बने घोल का छिड़काव करके भी एफ़िड का सफ़ाया किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। यह सच है कि रसायनों से सीधे विषाणु का उपचार नहीं किया जा सकता है, लेकिन संचार वाहक, मुख्यतः एफ़िड, को काफ़ी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। एफ़िड और उनके संभावित रसायनिक नियंत्रण के लिए डेटाबेस की जांच-पड़ताल करें। एफ़िड पर नियंत्रण का दावा युक्त लेबल वाले कीटनाशक हमारी उत्पाद सूची में उपलब्ध हैं।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रमाणित प्रतिरोधी किस्मों से ही पौधा सामग्री प्रयोग करना सुनिश्चित करें.
  • पौधशालाओं को कीट वाहकों से मुक्त रखें.
  • खेत में मशीनों से फैलाव रोकने के लिए साफ़-सफ़ाई का अच्छी तरह ध्यान रखें.
  • संक्रमित पौधों और वैकल्पिक मेज़बान पौधों (खरपतवार) को हटाकर नष्ट कर दें.
  • संदिग्ध आलू सामग्री को अन्य खेतों में न ले जाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!