- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने का पीला पत्ती विषाणु

वाइरस

Sugarcane Yellow Leaf Virus


संक्षेप में

  • पत्ती की मध्यशिरा का पीला पड़ना.
  • नई-नई पत्तियां सुखना.
  • गन्ने की अवरुद्ध वृद्धि।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

गन्ने के पीले पत्ते विषाणु (येलो लीफ़ वायरस) के कारण कई गंभीर लक्षण पैदा होते हैं, जैसे अवरुद्ध गन्ना वृद्धि, पत्तियों का रंग उड़ना और पौधे का गुच्छेदार दिखना। पत्ती की निचली सतह पर मध्यशिरा के पीले पड़ने का प्रभाव सबसे ऊपर बढ़ रही धुरीय पत्ती के नीचे तीसरी से छठवीं पत्ती तक होता है। मौसम आगे बढ़ने के साथ-साथ पत्ती के पीला पड़ने की प्रक्रिया मध्यशिरा से पत्ती फलक तक बढ़ती रहती है, और जल्द ही पत्तियों का सामान्य पीलापन दूर से दिखाई देने लगता है। यह परिपक्व गन्ने में अधिक स्पष्ट दिखता है। गंभीर संक्रमण होने पर, पत्तियों के साथ ऊपर की धुरीय पत्ती भी सूख जाती है और ऊपरी हिस्सा गुच्छेदार दिखने लगता है। कभी-कभी, परिपक्व गन्ने का रंग खराब होकर लाल दिखाई देने लगता है। परिपक्व गन्ने में, रोग बुरी तरह फैल जाता है और दूर से पहचाना जा सकता है। ध्यान दें कि ये लक्षण अन्य कारकों, जैसे कि पौधे पर मौसम की मार, कीट क्षति या पानी की कमी, से भी संबंधित हो सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण गन्ना पीली पत्ती विषाणु (सुगरकेन येलो लीफ़ वायरस) हो सकता है, जो कि खुद द्वितीयक रूप से माहू (मेलानाफ़िस सैशरी और रोपैलोसिफ़म माइडिस) से फैलता है, या फिर गन्ना पीली पत्ती फ़ाइटोप्लाज़्मा (सुगरकेन येलो लीफ फ़ाइटोप्लाज़्मा) (SCYLP) हो सकता है, जो खुद फुदका या लीफ़ हॉपर से संचारित होता है। प्राथमिक रूप से यह संक्रमित गन्नों से संचारित होता है और मशीन आदि से नहीं फैलता है। अन्य फसलें, जैसे कि गेहूं, बाजरा, ज्वार और जई भी इस रोग के प्रति संवेदनशील होती हैं, लेकिन तभी प्रभावित होती हैं जब आसपास गन्ने की खेती की जा जाती है। यह रोग सूखे मौसम के दौरान परिपक्व गन्ना में फसल कटाई तक सबसे ज़्यादा मुखर होता है।

जैविक नियंत्रण

विषाणु या वायरस का संचार रोकने के लिए माहू की आबादी पर नियंत्रण ज़रूरी है। माहू की मौजूदगी के लिए पत्तियों की निचली सतह की जांच-पड़ताल करें, और यदि ये मौजूद हैं, तो तुरंत कीटनाशक साबुन, नीम के तेल या पायरेथ्रॉयड आधारित जैविक उत्पादों से उपचार करें। माहू के शिकारियों का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। आप कीट वाहकों द्वारा द्वितीयक संचार को 0.1% मैलाथियॉन या 0.2% डाइमेक्रॉन डालकर रोक सकते हैं। सूखी पत्तियां हटाने के बाद, मैलाथियॉन का 1.5 किग्रा./हेक्टेयर की दर से एक महीने के अंतराल पर दो बार छिड़काव किया जाना चाहिए। कार्बोफ़्यूरैन का 2 किग्रा./हेक्टेयर के हिसाब से भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • केवल रोग-मुक्त बीज सामग्री का इस्तेमाल करें, और यदि उपलब्ध हों, तो प्रतिरोधी किस्में ही रोपित करें.
  • बीजों को पहले पौधशाला और बाद में खेत में प्रत्यारोपित करने से रोग से बचने में मदद मिलती है.
  • माहू (एफ़िड) वाहक पर नियंत्रण के लिए, पीले चिपचिपे जालों (यलो स्टिकी ट्रैप) का इस्तेमाल करें.
  • पुरानी पत्तियों को लगातार हटाते रहें क्योंकि माहू उनमें बसावट करना पसंद करते हैं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!