- अन्य

अन्य अन्य

काली सड़न (ब्लैक रॉट)

बैक्टीरिया

Xanthomonas campestris pv. campestris


संक्षेप में

  • मुख्य लक्षणों में पत्तियों के किनारों पर पीले, तिकोने धब्बे दिखते हैं, जो बाद में पत्ती पर अंदर की तरफ़ बढ़ते हैं.
  • जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, पत्ती का पीला हिस्सा बढ़ता जाता है और ऊतक मृत होने से भूरा पड़ जाता है.
  • रोग के अंतिम चरण में पत्ती की शिराएं काली पड़ जाती हैं, इसी कारण रोग को इसका प्रचलित नाम मिला है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

अधिकतर मामलों में, पत्ता गोभी की पत्तियों पर क्षति गर्मी के बाद के दिनों में दिखती है। मुख्य लक्षण पत्तियों के किनारों पर पीले व तिकोने धब्बे नज़र आना है। बाद में ये पत्ती के अंदर और तने पर नीचे की तरफ बढ़ते हैं। यह लक्षण ब्लैक रॉट को फ्यूजेरियम विल्ट से अलग करता है जिसमें लक्षण ज़मीन से शुरू होकर ऊपर तने की ओर बढ़ते हैं। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, पत्ती का पीला हिस्सा बढ़ता जाता है और ऊतक मृत होने से भूरा पड़ जाता है। रोग के अंतिम चरण में पत्ती की शिराएं काली पड़ जाती हैं जिससे इसे इसका प्रचलित नाम मिला है। अंत में पत्ती ज़मीन पर गिर जाती है। रोगाणु तने में प्रवेश करके संवहन प्रणाली से फैल सकता है और ज़मीन की सतह के पास काटने पर काले बदरंग छल्ले के रूप में दिखाई देता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण मिट्टी से फैलने वाला जीवाणु ज़ैंथोमोनास कंपेस्ट्रिस है, जो संक्रमित फ़सल अवशेषों या बीजों में 2 वर्ष तक या गोभी परिवार के खरपतवारों में उससे भी अधिक वर्षों तक जीवित रहता है। यह गोभी परिवार की कई सब्ज़ियों (ब्रोकली, फूल गोभी, शलजम, मूली, कोहलरबी) को प्रभावित करता है। जीवाणु बारिश की बौछारों से स्वस्थ पौधों तक फैलता है और कई रास्तों, जैसे घावों से, ऊतकों में प्रवेश करता है। एक बार कोई पौधा संक्रमित हो जाता है, तो रोग तेज़ी से अन्य पत्ता गोभियों में फैलता है। अगर मिट्टी या बीज संक्रमित हैं, तो पहले लक्षण पौध क्यारियों में ही दिख सकते हैं। अधिक नमी और 25-30 डिग्री सेल्सियस तापमान जीवाणु और संक्रमण को बढ़ावा देते हैं। घनी फ़सल पौधों में जीवाणु फैलाव के लिए आदर्श है। इन परिस्थितियों में, पैदावार 75-90% तक कम हो सकती है।

जैविक नियंत्रण

बीजों को 50° सेल्सियस पर 30 मिनट तक गर्म पानी में रखने से बुवाई सामग्री रोगाणुरहित करना अच्छा रहता है। यह काली सड़न के विरुद्ध 100 फ़ीसद प्रभावी नहीं है पर काफ़ी हद तक रोग होने देने से रोकता है। दुष्परिणाम यह है कि इससे बीजों के अंकुरण की दर कम हो सकती है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समन्वित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। खेत में संक्रमण रोकने के लिए गर्म पानी से बीजों का उपचार बहुत प्रभावी है। कॉपर-आधारित कवकनाशकों से, सात से दस दिन के अंतर पर पत्तियों पर छिड़काव करने से रोग का फैलाव धीमा पड़ जाता है। दुर्भाग्य से, इन उपचारों के कारण पत्ता गोभी की बाहरी पत्तियों पर काला सड़न विकसित हो सकता है।

निवारक उपाय

  • केवल प्रमाणित स्रोतों से प्राप्त स्वस्थ बीजों का ही इस्तेमाल करें.
  • सहनशील किस्में लगाएं और बरसात में संवदेनशील किस्में न लगाएं.
  • छोटे पौधों को सिर्फ़ इसलिए न काटें क्योंकि उनका आकार बड़ा हो गया है.
  • खेत में जल-निकास की अच्छी व्यवस्था करें और ऊंची क्यारियों में पौधे लगाएं.
  • उस खेत में पत्ता गोभी न लगाएं जिसमें पिछले 3 वर्ष में ब्रोकली, फूल गोभी, केल या गोभी परिवार की कोई और सब्ज़ी उगाई गई है.
  • खेत के अंदर और आसपास से खरपतवार, विशेषकर गोभी परिवार के, हटा दें.
  • स्प्रिंकलर से सिंचाई न करें और दोपहर में पानी दें.
  • रोग का फैलाव रोकने के लिए खेत गीला होने पर उसमें कार्य न करें.
  • रोग के संकेतों के लिए खेत की निगरानी करें.
  • ज़मीन के संपर्क में आने वाली संक्रमित पुरानी पत्तियों को काट दें.
  • औज़ारों की साफ़-सफ़ाई सुनिश्चित करें और उन्हें ब्लीच से रोगाणुरहित करें.
  • फ़सल काटने के बाद फ़सल अवशेषों की जुताई करके उन्हें नीचे दबा दें या जलाकर नष्ट कर दें.
  • पत्ता गोभी के कीड़ों और नुकसान पहुंचाने वाले अन्य कीड़ों पर नियंत्रण रखें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!