- केला

केला केला

मोको रोग (राल्स्टोनिया सोलानेसेरम)

बैक्टीरिया

Ralstonia solanacearum


संक्षेप में

  • संक्रमित पौधों की पत्तियां मुरझाने लगती हैं, और बाद में गिर जाती हैं.
  • जब उन्हें काटकर खोला जाता है, तो एक स्पष्ट, पीले से लेकर भूरे रंग का मलिनकिरण शिराओं के क्षेत्र में दिखाई देता है.
  • संक्रमित फल विकृत वृद्धि दिखाते हैं और शुष्क सड़ांध द्वारा जैसे-जैसे गूदा नष्ट होता जाता है फल सूखने लगता है.
  • फलों को खोलने पर जीवाणु रिसाव देखा जा सकता है।.
 - केला

केला केला

लक्षण

संक्रमित पौधों के युवा पत्ते मुरझाने लगते हैं, और बाद में मर कर गिर जाते हैं। डंठल कमज़ोर हो जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप हरी पत्तियाँ लटकने लगती हैं और वृक्ष की शक्ति कम हो जाती है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, पुराने पत्ते भी प्रभावित होते हैं। जब उन्हें काटकर खोला जाता है, तो संवहनी क्षेत्र में एक स्पष्ट, पीले भूरे रंग का मलिनकिरण देखा जा सकता है। जैसे-जैसे फलों का गूदा शुष्क सड़ांध से नष्ट होता जाता है, संक्रमित फल विकृत वृद्धि दिखाते हैं और सूख जाते हैं, जो कि फल के गूदे के गहरे भूरे रंग के मलिनकिरण के रूप में दिखाई देता है। फलों को खोलने पर जीवाणु रिसाव देखा जा सकता है। जीवाणु पेड़ के परिवहनीय ऊतकों में बढ़ता है और पौधे के ऊपरी हिस्सों में पानी और पोषक तत्वों की पहुँच को अवरुद्ध करता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मोको केले का एक ऐसा रोग है, जो जीवाणु राल्स्टोनिया सोलनएसेरम के कारण होता है। यह संक्रमित पौधों के ऊतकों या अन्य मेज़बानों में पूरे वर्ष या 18 महीने से अधिक की अवधि के लिए मिट्टी में रहता है। उच्च तापमान और मिट्टी की उच्च नमी आम तौर पर रोग को प्रोत्साहित करती है। पेड़ से पेड़ तक या खेतों के बीच रोगजनकों का प्रसार कई तरह से हो सकता है। पौधे के सभी भाग (जड़ से फलों के छिलके तक) संक्रमण का एक संभावित स्रोत हैं। इस कारण से, छंटाई और पौधे की चोटों से बचा जाना चाहिए। कार के पहियों, औज़ारों, जूतों या जानवरों के माध्यम से ले जाई जाने वाली संक्रमित मिट्टी संदूषण का एक और स्रोत होती है। कीड़े या पक्षी (मधुमक्खियों, हड्डे और फल मक्खियाँ), जो फूलों और वैकल्पिक धारक पौधों पर भोजन करते हैं, भी रोग प्रसारित कर सकते हैं। यह रोग सिंचाई या पानी के प्रवाह के माध्यम से भी फैल सकता है।

जैविक नियंत्रण

पौधे के चारों ओर ब्लीचिंग पाउडर के छिड़काव से रोग की प्रगति को रोकने में मदद मिल सकती है। रोपण से पहले मिट्टी को 1% बोर्डो मिश्रण, 0.4% कॉपर ऑक्सीक्लोराइड या स्ट्रैप्टोमाइसिन या स्ट्रेप्टोसाइक्लीन (5 ग्रा/10 लीटर) जैसे एंटीबायोटिक्स के साथ गीला किया जा सकता है। रोपण के पहले अंकुरों का 30 मिनट के लिए 0.4% कॉपर ऑक्सीक्लोराइड (4 ग्रा/ली) के साथ इलाज किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। मोको रोग के लिए कोई सीधा रासायनिक उपचार नहीं है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से केवल स्वस्थ रोपण सामग्री का उपयोग करें.
  • बीमारी के किसी भी लक्षण के लिए खेतों की नियमित रूप से जाँच करें.
  • पौधों के अवशेषों को निकालें और जला दें.
  • हल रेखा सिंचाई से बचें और यदि संभव हो तो कीटाणुरहित पानी का उपयोग करें.
  • इसे फैलाने से रोकने के लिए काटने के औज़ार, चप्पल आदि, और वाहनों के पहियों को कीटाणुरहित करें.
  • पौधों के बेसिन में 10% ताज़ा गाय का गोबर फैलाएं.
  • खेतों से खर-पतवार और हेलिकोनिया प्रजातियों को हटा दें.
  • अच्छी जल निकासी प्रदान करें.
  • कम से कम 6 महीने के लिए मिट्टी जुताई करके छोड़ दें.
  • 12 महीने की अवधि के लिए फसलों को अदल-बदल के लगाएं (फ़सल चक्रीकरण).
  • रोग के प्रसार को बाधित करने के लिए फ्रेंच गेंदे के फूल के पलवार का उपयोग करें.
  • खेत पर काम करते समय ध्यान रखें कि आप पौधों को नुकसान न पहुँचाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!