- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस के जीवाण्विक धब्बे

बैक्टीरिया

Xanthomonas alfalfae subsp. citrumelonis


संक्षेप में

  • मुख्य रूप से त्रिपत्रीय संतरों और उसके हाइब्रिड का रोग, उदाहरण के लिए पौधशाला में स्विन्गल सिट्रुमेलो.
  • कत्थई परिगलित केंद्र वाले चपटे या धंसे हुए, गोलाकार दाग़ जो प्रायः गिर जाते हैं और कई छेद छोड़ जाते हैं (शॉट होल प्रभाव).
  • पानी से भीगे किनारे और छितरा हुआ पीला आभामंडल.
  • अत्यधिक संक्रमित पत्तियों का हरा रंग उड़ जाता है या धूप से झुलस जाती हैं और जल्द झड़ जाती हैं।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

रोग पौधशाला में मुख्य रूप से त्रिपत्रीय संतरों और इसके हाइब्रिड को प्रभावित करता है, उदाहरण के लिए स्विन्गल सिट्रुमेलो। संतरों की अन्य प्रजातियों पर दाग़ सिट्रस कैंकर की तरह होते हैं, लेकिन वे उभरे हुए न होकर चपटे या धंसे हुए होते हैं। पत्तियों पर ये अपने गोलाकार, कत्थई परिगलित केंद्रों से जाने जाते हैं जो प्रायः गिर जाते हैं और कई छेद छोड़ जाते हैं (शॉट-होल प्रभाव)। ये पानी से भीगे हुए किनारों और छितरी पीले आभामंडल से घिरे होते हैं। जीवाणु की अधिक आक्रामक किस्मों से बने दाग़ों के पानी से भीगे किनारे सिट्रस कैंकर की अपेक्षा अधिक स्पष्ट रूप से नज़र आते हैं। समय के साथ, ये बढ़ते हुए आपस में मिलकर कोणीय से टेढ़े-मेढ़े हल्के कत्थई चकत्ते बन जाते हैं। अत्यधिक संक्रमित पत्तियों का हरा रंग उड़ जाता है या धूप से झुलस जाती हैं और जल्द झड़ सकती हैं जिससे पतझड़ हो जाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

रोग जीवाणु ज़ेंथोमोनस अल्फ़ा अल्फ़ा के कारण होता है। अपने मेज़बानों पर लक्षणों की तीव्रता के आधार पर जीवाणुओं के तीन विभिन्न उपसमूह हैं। ये खेतों की क्यारियों में प्राकृतिक रूप से हवा के साथ बारिश, ओस गिरने या ऊपरी सिंचाई से फैलते हैं। पत्तियां गीली होने पर खेतों या क्यारियों में कार्य करते समय ये उपकरणों या औज़ारों से भी एक से दूसरे पेड़ तक फैल सकते हैं। पत्तियों पर प्राकृतिक छिद्र या छाल पर रंध्र जीवाणु के प्रवेश बिंदु होते हैं। परंतु, जब नए पेड़ बाग़ानों में रोपे जाते हैं तो जीवाणु मर जाता है और लक्षण धीरे-धीरे गायब हो जाते हैं। हल्की वर्षा के साथ गर्म तापमान (14 से 38 डिग्री सेल्सियस), भारी ओस और तेज़ हवा वाला मौसम रोग के विकास और फैलाव के लिए अनुकूल होता है। इसके विपरीत, जब मौसम गर्म और सूखा होता है तब जीवाणु का विकास और संक्रमण की प्रक्रिया बाधित हो जाती है।

जैविक नियंत्रण

माफ़ करें, हमें ज़ेंथोमोनस अल्फ़ा अल्फ़ा के विरुद्ध किसी वैकल्पिक उपचार की जानकारी नहीं है। यदि आप ऐसा कुछ जानते हैं जिससे हमें इस रोग से लड़ने में सहायता मिल सकती है, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हमें आपके संदेश का इंतज़ार रहेगा।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को अपनाएं। सिट्रस के जीवाण्विक धब्बों पर नियंत्रण के लिए कोई भी पूरी तरह सफल छिड़काव योजना नहीं है। इसका प्रकोप कम करने के लिए निवारक उपायों और रासायनिक उपचार का मिश्रण आवश्यक है। कॉपर आधारित छिड़कावों का अकेले या एंटीबायोटिक या रसायन मैंकोज़ेब के साथ इस्तेमाल से ठीकठाक नतीजे मिलते हैं। पत्तियों को क्षति पहुँचने से बचाने और जीवाणु में प्रतिरोध का विकास न होने देने के लिए मात्रा धीरे-धीरे कम करते जाना चाहिए।

निवारक उपाय

  • किसी प्रमाणित स्रोत से स्वस्थ रोपण सामग्री का इस्तेमाल करें.
  • रोग के प्रति कुछ हद तक प्रतिरोध वाली किस्मों का चयन करें.
  • खराब वायु संचार और जल-निकासी वाले निचले और छायादार स्थानों का इस्तेमाल करने से बचें.
  • हवा की आवाजाही बेहतर करने और पेड़ों की मज़बूती बनाए रखने के लिए उनकी छँटाई करते रहें.
  • नए पौधों में अच्छी मज़बूती सुनिश्चित करें.
  • तेज़ हवाएं चलने से उड़ने वाले मिट्टी के कणों से ऊतकों को क्षति कम करने के लिए तेज़ी से बढ़ने वाले पेड़ों से बने हवा के कृत्रिम और प्राकृतिक अवरोधकों का इस्तेमाल करें.
  • जब पत्तियाँ वर्षा या ओस से नम हों तब बाग़ान में कार्य या छंटाई न करें.
  • संक्रमित टहनियों को छाल पर लक्षणों के कुछ सेंटीमीटर नीचे से छांट कर हटा दें.
  • पत्तियों को हानि पहुंचाने वाले और संक्रमण को बढाने वाले कीटों, जैसे कि लीफ़ माइनर (पत्तियों में सुरंग खोदने वाला कीट) पर नियंत्रण रखें.
  • खेतों में काम करने के बाद औज़ारों तथा उपकरणों को संक्रमणमुक्त कर लें.
  • अपने देश के संभावित पृथकीकरण (क्वारंटाइन) नियमों की जानकारी रखें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!