- अन्य

अन्य अन्य

गुठली वाले फलों पर जीवाणुओं के धब्बे

बैक्टीरिया

Xanthomonas arboricola


संक्षेप में

  • अक्सर सिरे के नज़दीक और पत्तियों के बीच से गुज़रने वाली शिरा के बगल में, पत्तियों पर कोणीय, जामुनी से लेकर काले या भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं.
  • जैसे-जैसे वे परिपक्व होते हैं, उनके केन्द्र गलकर अक्सर गिर जाते हैं, तथा पीछे एक गोली जैसा गोल छेद छोड़ जाते हैं.
  • फलों पर पानी को सोखे हुए किनारों से घिरे जैतूनी-भूरे से लेकर काले घब्बे दिखाई देते हैं.
  • अवसरवादी रोगाणु क्षतिग्रस्त फल पर नयी बस्ती बसा सकते हैं और उन्हे सड़ा सकते हैं.
  • टहनियों पर दाने दिखाई देते हैं जो बाद में जीवाणुयुक्त रिसाव छोड़ने वाले सड़े हिस्सों के रूप में विकसित हो जाते हैं।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

प्रभावित वृक्ष की प्रजातियों के आधार पर लक्षणों में बहुत अधिक भिन्नता पायी जाती है। आरंभ में, पत्ती के पिछले भाग, सबसे आमतौर पर पत्ती के सिरे या बीच की शिरा के बगल के भाग, पर छोटे, पानी-सोखे हुए एवं भूरे धब्बे दिखाई देते हैं। समय के साथ, वे कोणीय से अनियमित व जामुनी, भूरे या काले हो जाते हैं। कभी-कभी उनके केन्द्र गलकर गिर जाते हैं तथा पीछे गोली के आकार वाले गोल छेद छोड़ जाते हैं। अत्यधिक रूप से संक्रमित पत्तियां कम क्लोरोफ़िल पैदा होने के कारण हल्की पीली पड़ जाती हैं या जल जाती हैं और वे शीघ्र गिर सकती हैं, जिसके कारण पतझड़ जैसी स्थिति बन सकती है। फल पर छोटे, गोल, धॅंसे हुए धब्बे हो जाते हैं, जो कभी-कभी केवल उसी तरफ़ होते हैं जहाँ सूर्य का प्रकाश पड़ता है। वे जैतूनी-भूरे से लेकर काले रंग के होते हैं और अक्सर पानी सोखे हुए किनारों से घिरे होते हैं। जैसे ही फल पकता है, वे सख़्त हो जाते हैं और कुछ मामलों में, बरसाती मौसम के बाद उनसे पीला-सा गोंद रिसता है। अवसरवादी रोगाणु फटे हुए या क्षतिग्रस्त फल पर नई बस्ती बसा सकते हैं और उन्हें सड़ा सकते हैं। टहनियों पर दाने दिखाई देते हैं जो बाद में जीवाणुयुक्त रिसाव छोड़ने वाले सड़े हिस्सों के रूप में विकसित हो जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण बेक्टीरियम ज़ेंथोमोनस आर्बोरिकोला के कारण उत्पन्न होते हैं, जो आमतौर पर आडू, शफ़तालू, आलूबुखारा, आलूचा, और खुबानी को प्रभावित करता है। ये कलियों पर, तनों की दरारों या पत्तियों के दाग़ों में जाड़ा बिताता है। वसन्त ऋतु में, जब स्थितियाँ अनुकूल होती हैं, तो ये फिर से अपनी वृद्धि आरंभ करता है तथा बाकी की टहनियों पर भी नई बस्तियां बसा लेता है। ये करते हुए यह जीवाणुयुक्त रिसाव टपकाने लगता है। रिसाव को गिरने वाली ओस, हवा या छींटे मारने वाली बारिश के द्वारा तितर-बितर कर दिया जाता है तथा स्वस्थ टहनियों, फलों एवं पत्तियों तक पहुँचा दिया जाता है। पत्तियों के प्राकृतिक छिद्र या छाल पर उपस्थित प्राकृतिक छिद्र (लेन्टिसेल) जीवाणु के प्रवेश मार्ग होते हैं। रोग के विकास एवं फैलाव के लिए हल्की बारिश, भारी ओस, और तेज़ हवाओं वाले मौसम के साथ गर्म तापमान (21 से लेकर 29° सें. तक) सबसे अधिक सहायक होता है। इसके विपरीत, जब मौसम गर्म एवं शुष्क होता है तब इस जीवाणु एवं संक्रमण की प्रक्रिया की वृद्धि को नुकसान पहुँचता है। इस रोग के कारण उपज में हानि होती है, जो किन्हीं विशिष्ट रूप से अतिसंवेदनशील विविधता वाली प्रजातियों के मामले में बहुत अधिक हो सकती है।

जैविक नियंत्रण

क्षमा कीजिए, हमें ज़ेंथोमोनस आर्बोरिकोला के विरुद्ध किसी प्रकार के वैकल्पिक उपचार की जानकारी नहीं है। इस रोग से लड़ने हेतु अगर किसी सहायक उपाय के बारे में आपको जानकारी हो, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हम आपके उपाय के बारे में जानना चाहेंगे।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा,अगर उपलब्ध हो, तो जैविक उपचारों के साथ निवारक उपायों के सहित संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करें। जीवाणुओं के कारण हुए धब्बों के लिए पूर्ण रूप से सफल कोई छिड़काव उपाय नहीं है। इसके फैलाव को रोकने के लिए रोकथाम उपायों व रसायनिक उपचारों का मिश्रण आवश्यक है। केवल तांबे पर आधारित छिड़काव या इसके साथ एंटिबायोटिक का प्रयोग हल्के प्रभाव के साथ रोकथाम करने की दृष्टि से किया जा सकता है। पत्तियों को हानि से बचाने के लिए बाद में ख़ुराकों को आवश्यक रूप से कम कर दिया जाना चाहिए।

निवारक उपाय

  • किसी प्रमाणित स्रोत से प्राप्त स्वस्थ बीजों या पौधों का उपयोग करें.
  • कुछ हद तक रोग प्रतिरोधक क्षमता से युक्त विविधताओं का चयन करें.
  • बहुत कम वायु प्रवाह और मिट्टी में जल-निकासी की खराब व्यवस्था से युक्त सामान्य से नीचे स्थित भूमि या ढंके हुए स्थानों का प्रयोग करने से बचें.
  • वायु के बेहतर प्रवाह और वृक्ष की मज़बूती को बनाए रखने के लिए वृक्षों की छॅंटाई करें.
  • गीले मौसम के दौरान छॅंटाई न करें.
  • छोटे पौधों के लिए अच्छी प्राणशक्ति की उपलब्धता सुनिश्चित करें.
  • तेज़ हवाओं के कारण उड़ने वाली मिट्टी के कणों से पौधों को होने वाली हानि को कम करने के लिए भूमि आवरणों या वायुरोधकों का उपयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!