- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने की पतियों पर जीवाणुओं का पाला लगना

बैक्टीरिया

Acidovorax avenae


संक्षेप में

  • पत्तियों पर मध्यशिरा तथा आधार के साथ पानी से हरे रंग की धारियाँ बन जाती हैं | इसके बाद लाल सी धारियाँ पूरी पत्ती पर फैल जाती हैं| पत्तियाँ मुरझा जाती हैं और सड़ जाती हैं| तनों में बड़े छिद्र हो जाते हैं | जड़ प्रणाली कम हो जाती है | पूरे पौधे का विकास अवरुद्ध हो जाता है |.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

रोग अधिकांशतः नई तथा मध्यम आयु की पत्तियों में होता है | लम्बे, संकरे, एक समान तथा पानी से हरे रंग की धारियाँ सबसे पहले मध्यशिरा तथा पतियों के किनारों के नीचे की ओर होती हैं | रोग की बाद की अवस्था में, धारियाँ पूरी पत्तियों पर फैल जाती हैं, बड़ी हो कर आपस में मिल जाती हैं और पहले हलके तथा बाद में गहरे लाल रंग की (परिगलित) हो जाती हैं | पत्तियाँ मुरझा जाती हैं, सड़ जाती हैं तथा एक तेज़ अप्रिय गंध छोड़ती हैं | जैसे-जैसे सड़न तने में पहुँचती है, गांठों के मध्य बड़े छिद्र बन जाते हैं | रोग की बाद की अवस्थाओं में सिरे तथा पुष्पगुच्छ बार-बार टूट जाते हैं और भूमि पर गिर जाते हैं | इस लक्षण को सिरों की सड़न कहते हैं |

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

जीवाणु उच्च आर्द्रता तथा उच्च तापमान पसंद करता है | प्राथमिक प्रसार मिट्टी तथा रोग-ग्रस्त सेटों के द्वारा होता है, जबकि द्वितीयक प्रसार हवा, वर्षा के छींटों तथा मिट्टी से होता है |

जैविक नियंत्रण

एसिडोवोरेक्स एवेने. के विरुद्ध इस समय तक कोई वैकल्पिक उपचार ज्ञात नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए, जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए प्राथमिक संक्रमण से बचने के लिए | उचित कवकनाशक द्वारा बीजों का 15 से 20 मिनट तक उपचार किया जा सकता है |

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक प्रजातियों को उपजाएं | बीजों की पौधशाला से स्वस्थ रोपने के पदार्थों को एकत्र करें | हरी खाद वाली फसलों के साथ कई बार चक्रीकरण करें | रोग को होने से रोकने के लिए अपनी जलनिकासी को बेहतर बनाएं | मध्यम नाइट्रोजन का उर्वरक डालें |.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!