- अदरक

अदरक अदरक

जीवाणु के कारण झुकाव

बैक्टीरिया

Ralstonia solanacearum


संक्षेप में

  • पौधों का मुरझाना.
  • पत्तियाँ हरी रहती हैं और तनों पर लगी रहती हैं.
  • जड़ें और तने का निचला हिस्सा भूरा हो जाता है.
  • जड़ें सड़ सकती हैं और उन्हें काटने पर पीला-सा पदार्थ रिसता है।.
 - अदरक

अदरक अदरक

लक्षण

नए पत्ते दिन में सबसे गर्म वातावरण के समय झुकने लगते हैं और जब वातावरण थोड़ा ठंडा होने लगता है तब वे थोड़े ठीक हो जाते हैं। अनुकूल परिस्थितियों में यह झुकाव पूरे पौधे को प्रभावित कर सकता है और ये स्थायी हो जाता है। झुकी हुई पत्तियों का हरा रंग बना रहता है और वे तने से जुड़ी रहती हैं। जड़ों और तने के निचले हिस्से का रंग गहरा भूरा हो जाता है। प्रभावित जड़ें अतिरिक्त जीवाणुओं से संक्रमण के कारण सड़ सकती हैं। काटने पर तने में से सफ़ेद से पीले तरह का दूधिया रिसाव हो सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

जीवाणु मिट्टी में लंबे समय तक रह सकता है। यह पौधे के मलबे में या वैकल्पिक परपोषी पर जीवित रह सकता है। पीछे की जड़ों के निकलने के दौरान जड़ों में घावों के माध्यम से यह पौधों में प्रवेश करता है। ज़्यादा तापमान (30° से 35° डिग्री सेल्सियस तक), या उच्च आर्द्रता और नम मिट्टी, और क्षारीय पीएच वाली मिट्टी रोग के विकास के लिए अनुकूल है। भारी मिट्टी, जो नमी को ज़्यादा समय तक रख सकती है, विशेष रूप से रोग के प्रति संवेदनशील होती है। रेल्स्टोनिया सोलनाशेरम के लिए मुख्य वैकल्पिक परपोषी फसलें टमाटर, तंबाकू, और केला हैं।

जैविक नियंत्रण

क्रुसिफ़ेरस प्रजाति के ताज़े पौधों (हरी खाद) का मिट्टी में समावेश (जैवधुमिकरण) रोगजनक को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है। मिट्टी में रोपने से पहले पौधे को भिंगोया जा सकता है या काटा जा सकता है, या तो मशीन से या हाथ से। पौधे से निकले हुए रसायन थायमोल का भी यही प्रभाव पड़ता है। सोलनेशियस पौधों की जड़ों पर बसने वाला प्रतिस्पर्धात्मक जीवाणु भी प्रभावी है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ बचाव के उपाय भी साथ में करें। रोगजनक के मिट्टी में पैदा होने के कारण रोग का रासायनिक उपचार हो सकता है व्यवहार्य न रहे, या कम प्रभावी या अप्रभावी हो सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधी प्रकार की किस्में उगानी चाहिए.
  • रोगजनक-मुक्त मिट्टी, सिंचाई जल, बीज और अंकुर सुनिश्चित करें.
  • सुझाई गई रोपण दूरी का उपयोग करें.
  • खेत में अच्छा जल निकास प्रदान करें.
  • 5 वर्ष या उससे अधिक समय के लिए फ़सल चक्रीकरण करें.
  • हल्की अम्लीय मिट्टी, पीएच 6,0-6.5, काम में लें.
  • अच्छे पोषक तत्व दें.
  • प्रभावित पौधों को हटा दें ताकि रोग फैलने से बचा जा सके.
  • दूषित मिट्टी वाले उपकरणों को बिना-दूषित मिट्टी में न ले जाएँ.
  • अगले खेत पर काम करने से पहले ब्लीच से उपकरणों को दूषणरहित करें.
  • सभी संक्रमित पौधों और अवशेषों को जलाकर नष्ट कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!