- काला और हरा चना

काला और हरा चना काला और हरा चना

जीवाणु के कारण पत्तियों का झुलसा रोग (लीफ़ ब्लाइट)

बैक्टीरिया

Xanthomonas axonopodis pv. phaseoli


संक्षेप में

  • पत्तियों पर नींबू के जैसे पीले रंग के किनारों वाले छोटे, पानी से भरे धब्बे.
  • धब्बे सूखे, भूरे रंग के और परिगलित घावों में विकसित हो जाते हैं.
  • संक्रमण के बाद के चरणों में, पौधों के पत्ते झड़ जाते हैं.
  • लाल और पीले रंग की धारियाँ तने पर दिखाई देती हैं।.
 - काला और हरा चना

काला और हरा चना काला और हरा चना

लक्षण

संक्रमण विकास के किसी भी चरण में हो सकता है। पौधे की उम्र के आधार पर लक्षण थोड़े भिन्न होते हैं। संक्रमित बीज से घायल बढ़वार बिंदु और पत्तियों पर त्रिकोणीय पानी से भीगे धब्बे वाले अंकुर विकसित होते हैं। दिन के दौरान पौधों में एक विशेष सूखापन दिखता है। यदि बाद के विकास चरणों के दौरान संक्रमण होता है, तो पत्तियों पर नींबू जैसे पीले रंग के किनारों के साथ छोटे, पानी से भरे हुए धब्बे दिखाई देते हैं। समय के साथ, वे भूरे परिगलित घाव में विकसित हो जाते हैं, जो पौधे को एक जली हुई-सी शक्ल देते हैं। इसके कारण पत्तियाँ झड़नी शुरू हो सकती हैं। संक्रमित पौधे बौने रह जाते हैं और लाल-भूरे या ईंट-लाल घावों के साथ कुछ ही फलियाँ पैदा करते हैं। तने पर लाल धारियाँ विकसित हो जाती हैं। यह अक्सर विभाजित हो जाती हैं और एक पीले रंग का रिसाव नज़र आने लगता है। यदि फलियों के विकास के दौरान संक्रमण होता है, तो बीज सूखे, सिकुड़े, सड़े या फीके दिख सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

जीवाणु ज़ेन्थोमोनस फ़ेज़ियोली कई वर्षों तक मिट्टी, बीज के आवरण, वैकल्पिक धारकों और पौधों के मलबे पर निष्क्रिय रहता है। बारिश, गीले और गर्म मौसम की स्थिति (25-35 डिग्री सेल्सियस) और आर्द्रता इसमें सहायक रहती है। यह बीमारी तेज़ हवा के साथ होने वाली बारिश, बारिश की बौछार और कीड़ों (टिड्डी और फलियों के भृंग) के माध्यम से काफ़ी फैलती है। पौधों पर प्राकृतिक खुले हुए स्थान और घाव भी इसमें सहायक होते हैं।

जैविक नियंत्रण

क्षमा करें, हम ज़ेन्थोमोनस फ़ेज़ियोली के खिलाफ़ किसी भी अन्य उपचार के बारे में नहीं जानते। यदि आपको किसी ऐसे उपचार के बारे में जानकारी हो जो इस रोग से लड़नें में मदद करे, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हमें आपके जवाब का इंतज़ार रहेगा।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। बीमारी के रासायनिक उपचार अव्यवहार्य हो सकते हैं क्योंकि बैक्टीरिया लंबे समय के दौरान प्रतिरोध विकसित कर सकता है। बीजों को बुआई से 30 मिनट पहले 500 पीपीएम स्ट्रेप्टोसाइक्लिन के घोल में डुबोया जा सकता है। यदि जीवाणुनाशकों की ज़रूरत होती है, तो कॉपर ऑक्सीक्लोराइड वाले उत्पाद और एक प्रमाणित एंटीबायोटिक (2ग्रा/ली. स्ट्रेप्टोमाइसिन या प्लाटोंमाइसिन) वाले उत्पादों का पत्तियों पर उपचार के रूप में प्रयोग किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित, रोगजनक-मुक्त बीज सामग्री का उपयोग करें.
  • लचीली, सहिष्णु या प्रतिरोधी किस्में उगाएं.
  • रोग के लक्षणों के लिए अपने पौधों या खेतों की जांच करें.
  • खेत में उपयुक्त रोपण समय सुनिश्चित करें.
  • छिड़काव सिंचाई से बचें.
  • अपने औज़ारों और उपकरणों को साफ़ रखें.
  • संक्रमित पौधों को निकालें या जलाकर नष्ट कर दें.
  • एक विशिष्ट अवधि के लिए गैर-धारक फसलों (मकई) के साथ फसल के चक्रीकरण(क्रॉप रोटेशन) की सिफ़ारिश की जाती है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!