- खरबूज

खरबूज खरबूज

एस्टर येलो फ़ाइटोप्लाज़्मा

बैक्टीरिया

Phytoplasma asteris


संक्षेप में

  • पत्ती की नसों का ख़त्म होना जो पूरी पत्ती पर फैली हुई होती है.
  • फूलों का विकृत और हरा होना, फूलों की पंखुड़ियों का पत्ती जैसा विकास और बाँझ फूलों का निर्माण.
  • कुल मिलाकर, पौधों में जड़ प्रणाली नष्ट होती जाती है और वे छोटे दिखाई देती हैं।.
 - खरबूज

खरबूज खरबूज

लक्षण

खास लक्षणों की सीमा थोड़ी अलग-अलग होती है, यह फ़ाइटोप्लाज़्मा (सूत) की तीव्रता, संक्रमण के दौरान पौधे की उम्र, पौधों की प्रजातियों तथा तापमान और आर्द्रता जैसे पर्यावरणीय कारकों पर निर्भर करता है। लक्षण आसानी से खरपतवार नाशक की क्षति जैसे लग सकते हैं और आमतौर पर नसों के रंग उड़ने के साथ शुरू होते हैं। बाद में, पीलापन फैल जाता है और पत्ती की पूरी सतह को ढांक देता है। इससे अलग कुछ फसलों में, पत्ते लाल हो सकते हैं। अन्य लक्षणों में फूलों में विकृति और हरापन, फूलों की पंखुड़ियों का पत्ती जैसा विकास और बाँझ फूलों का निर्माण शामिल हैं। कुल मिलाकर, पौधों में जड़ प्रणाली कमज़ोर हो जाती है और वे छोटे दिखाई देते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण पौधे की नसों के ऊतकों के एक पूर्णपरजीवी जीवाणु के कारण होते हैं, जिन्हें फ़ाइटोप्लाज़्मा एस्टेरिस कहा जाता है। एक पौधे से दूसरे पौधे तक इसका प्रसार ज़्यादातर कीटों, मुख्य रूप से पादफुदक (लीफ़हॉपर), के माध्यम से होता है। खेतों में इन कीड़ों की गतिविधि और भोजन के अनुकूल स्थितियां भी फ़ाइटोप्लाज़्मा के प्रसार को बढ़ाती हैं। उदाहरण के लिए, हवा, बारिश या 15 डिग्री सेल्सियस से नीचे का तापमान उनके प्रवास को अस्थायी रूप से रोक सकते हैं और संक्रमण के समय में देरी कर सकते हैं। भूभाग की मौसम की स्थिति भी पादफुदकों के खाने के तरीकों को बहुत प्रभावित करती है। यदि परिस्थितियां गर्म होती हैं, तो पौधों में कम पोषक तत्व रहते हैं और पातफुदकों के लिए कम आकर्षक हो जाते हैं। प्रचुर वर्षा का मौसम पौधों को अधिक रसीला और अधिक आकर्षक बनाता है। पादफुदक (लीफ़हॉपर) पूरी गर्मियों में भोजन करते हैं और पतझड़ के मौसम में सर्दियां बिताने के अपने प्रवास स्थानों पर वापस चले जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

तीव्र संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए परजीवी कवक प्रजातियाँ जैसे मेटारहिज़ियम एनिसोप्ले, ब्यूवेरिया बैसियाना, पैसिलोमायसिस फ़ुमोसोरोसियस और वर्टिसिलियम लेकानी से युक्त जैविक कीटनाशक उपयोग करें। पादफुदकों के लिए जैविक नियंत्रण विधि के रूप में ऐनाग्रस एटोमस जैसी परजीवी कीट प्रजातियों का उपयोग करें। लेडीबग और जालपंख जैसे फ़ायदेमंद कीड़े भी इन कीड़ों के अंडे और लार्वा दोनों के प्रचंड शिकारी हैं। कीटनाशक साबुन भी काम करते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों का एकीकृत दृष्टिकोण अपनाएं। लैम्ब्डा-सायहेलोथ्रिन, डाइमेथोएट और इंडोक्साकार्ब पर आधारित दवाएं पादफुदकों पर अपेक्षाकृत अधिक प्रभाव दिखाती हैं और खेत में रोग के प्रसार को सीमित करने में मदद कर सकती हैं।

निवारक उपाय

  • पादफुदक (लीफ़हॉपर) के संक्रमण और बीमारी के लक्षणों के लिए नियमित रूप से खेतों की निगरानी करें.
  • फ़ाइटोप्लाज़्मा (सूत) के स्रोत को ख़त्म करने और इसके फैलने को कम करने के लिए संक्रमित पौधों को हटाया जाना चाहिए.
  • पीले रंग के चिपचिपे जालों का प्रयोग करें जो हरे पादफुदकों के लिए बहुत आकर्षक हैं.
  • गुबरैला, परजीवी ततैया और जालपंख जैसे लाभकारी कीड़ों के लिए एक अच्छे वातावरण को बढ़ावा देने की कोशिश करें.
  • चूंकि पादफुदक (लीफ़हॉपर) खरपतवार और थिस्ल, सिंहपर्णी और गाजर जैसे बारहमासी सजावटी पौधों में प्रवास कर सकते हैं, इसलिए इन पौधों को खेत में रखने से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!