- कपास

कपास कपास

कपास का जीवाणु झुलसा रोग

बैक्टीरिया

Xanthomonas citri subsp. malvacearum


संक्षेप में

  • पत्तियों, तनों और बीजकोषों पर लाल से भूरे किनारों वाले मोम जैसे, पानी से भरे हुए धब्बे.
  • धब्बे कत्थई हो जाते हैं.
  • तने और शाखाओं पर काले कैंकर.
  • समय से पूर्व पतझड़।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

जीवाणु झुलसा की शुरुआत पत्तियों, तनों और बीजकोषों के लाल से भूरे किनारों के साथ कोणीय, मोमदार और जलमग्न पत्ती धब्बों के रूप में होती है। कोणीय दिखावट कपास की पत्ती पर महीन शिराओं द्वारा धब्बे सीमित किए जाने के कारण होती है। कुछ मामलों में पत्ती पर धब्बे मुख्य पत्ती शिराओं के साथ-साथ फैलते हैं। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, ये धब्बे धीरे-धीरे भूरे, परिगलित क्षेत्रों में बदल जाते हैं। तनों के संक्रमण से काले कैंकर बनते हैं जो संवहनी ऊतकों के चारों तरफ बढ़कर उस पर शिकंजा कस लेते हैं जिसके कारण कैंकर के ऊपर का हिस्सा मर जाता है और पौधे से पत्तियां समय से पहले झड़ जाती हैं। पुराने पत्ती धब्बों या कैंकर पर जीवाणु युक्त एक सफेद मोमदार परत बन सकती है। बीजकोष संक्रमित हो सकते हैं जिसके कारण बीजकोष गलन, सड़े-गले बीज और बेरंग रेशे हो सकते हैं। संक्रमित बीजकोषों में कोणीय के बजाय गोल धब्बे होते हैं जो शुरुआत में जलमग्न दिख सकते हैं। जैसे-जैसे संक्रमण बढ़ता है, बीजकोषों के धब्बे गड्ढेदार और गहरे भूरे या काले होते जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कपास के जीवाणु झुलसा का कारण जीवाणु जैंथोमोनास सिट्रि उपप्रजाति मैल्वेसीरम है जो संक्रमित फसल अवशेषों और बीजों में जीवित रहता है। यह कपास के सबसे ज़्यादा नुकसानदायक रोगों में से एक है। अच्छी बारिश और उच्च नमी के साथ गर्म मौसम इस रोग के विकास के लिए अनुकूल हैं। जीवाणु पत्तियों के ऊतकों में पत्ती के प्राकृतिक छिद्रों (स्टोमेटा) या मशीनों द्वारा हुए कटाव के माध्यम से प्रवेश करता है। इससे पता चलता है कि आंधी-तूफान के साथ बारिश या ओलावृष्टि के बाद रोग सबसे गंभीर क्यों होता है। चूंकि बीजों से संक्रमण हो सकता है, इसलिए संक्रमित बीजों को अम्ल उपचार से बीजों को रेशे से अलग करना जीवाणु झुलसा का प्रसार सीमित करने में महत्वपूर्ण है। अपने आप उग आए पौधों के नवांकुर भी जीवाणु झुलसा के प्राथमिक संक्रमण का स्रोत हो सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

जीवाणु सीडोमोनास फ्लोरिसेंस और बैसिलस सबटिलिस युक्त टैल्क आधारित चूर्ण रूप के फार्मूलेशन का इस्तेमाल जीवाणु एक्स मेल्वेसिरम के विरुद्ध प्रभावी है। एजेडीराक्टा इंडिका के अर्क (नीम के अर्क) के इस्तेमाल से भी संतोषजनक नतीजे मिल सकते हैं। वृद्धि नियंत्रक जो श्रेणी के अनियंत्रित बढ़ने में बाधक हैं, भी जीवाणु झुलसा के संक्रमण से बचा सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। अधिकृत जीवाणुनाशकों से बीजों का उपचार तथा कॉपर ऑक्सीक्लोराइड से बीजों की ड्रेसिंग करना कपास के जीवाणु झुलसा रोग को पैदा करने वाले जीवाणु के विरुद्ध बहुत प्रभावी हैं।

निवारक उपाय

  • उच्च गुणवत्ता, रोग-मुक्त बीज या अम्ल उपचार से साफ़ किए गए बीजों को बोएं.
  • यदि उपलब्ध हों तो झुलसा प्रतिरोधक किस्मों का इस्तेमाल करें.
  • घूम-घूमकर खेत की जांच करें और संक्रमित पौधे चुन-चुन कर हटा दें.
  • नमी घटाने और पत्तियों के सूखने को बढ़ावा देने के लिए कैनोपी को यथासंभव खुला रखें, जो कि इस रोग की बढ़वार सीमित करने में लाभदायक हैं.
  • जब पत्तियां गीली हों तो जुताई न करें और खेतों में से कोई उपकरण न ले जाएं.
  • संक्रमित खेतों की फसल जल्द से जल्द काट ली जानी चाहिए.
  • फिर डांठों के जल्द से जल्द टुकड़े-टुकड़े कर दिए जाने चाहिए.
  • जीवाणु झुलसा रोग से संक्रमित खेतों में अगले वर्ष झुलसा-प्रतिरोधक किस्म उगाई जानी चाहिए या फसल बदल दी जानी चाहिए।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!