- केला

केला केला

केले की जैन्थोमोनास विल्ट

बैक्टीरिया

Xanthomonas campestris pv. musacearum


संक्षेप में

  • पौधे के अंगों से जीवाणु स्राव का रिसाव होता है.
  • फल अन्दर से बदरंग हो जाता है तथा समय से पूर्व पक जाता है.
  • पत्तियाँ पीली पड़ जाती हैं तथा मुरझा जाती हैं।.
 - केला

केला केला

लक्षण

आम तौर पर लक्षण संक्रमित होने के तीन सप्ताह के बाद दिखाई देते हैं। रोग की तीव्रता तथा इसका फैलाव बहुत हद तक पौधों की किस्म, उनकी वृद्धि की अवस्था तथा मौसम परिस्थितियों पर निर्भर है। संक्रमित पौधों में पत्तियाँ लगातार पीली पड़ जाती हैं तथा मुरझाने लगती है और फल असमान रूप से तथा समय पूर्व पकने लगते हैं। हालांकि, सबसे विशेष लक्षण पौधों के अंगों से एक पीलापन लिए हुए जीवाणुयुक्त रिसाव होना है। किसी संक्रमित केले को बीच से काटने पर संवहनी गुच्छे पीले- नारंगी रंग से बदरंग दिखते हैं तथा ऊतकों पर गहरे कत्थई रंग के धब्बे होते हैं। फूल आने के समय के लक्षणों में सहपत्रों का मुरझाना तथा नर कलियों में झुर्रियाँ पड़ना शामिल हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण जैंथोमोनास केम्पेस्ट्रिस पीवी. म्यूसासीरम, एक विशिष्ट प्रकार का हठी बैक्टीरिया है, जो केले की फसल को बड़ी हानि पहुंचाता है। इसका प्रसार संक्रमित पौधों के अवशेषों, संक्रमित औजारों, खुले हुए नर फूलों पर हवा में उड़ने वाले कीटों के कारण होता है। बैक्टीरिया मिट्टी को 4 महीनों तक के लिए संक्रमित कर देता है तथा यही इसकी उत्पत्ति का प्रमुख स्रोत है। नमी का स्तर इसके जीवित रहने पर असर डालता है जो कि शुष्क मिट्टी में सबसे कम होता है। हवा से जीवाणु का प्रसार करने वाले वाहक कीट डंकरहित मक्खी (एपिडी), फलों की मक्खी (ड्रोसोफिलिडी) तथा घास वाली मक्खी (क्लोरोपिडी) के परिवार के होते हैं। ये नर फूलों द्वारा उत्पन्न संक्रमित रस की तरफ आकर्षित होने के बाद रोग को एक से दूसरे केले तक फैलाती हैं।

जैविक नियंत्रण

आज तक इस बैक्टीरिया का प्रसार नियंत्रित करने का कोई जैविक उपाय ज्ञात नहीं है। यदि आपको किसी के बारे में जानकारी है तो हमें सूचित करें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को अपनाएं। इस बैक्टीरिया के कारण होने वाले रोगों को नियंत्रित करने के लिए पारंपरिक एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन ये महंगी होती हैं। कुछ मामलों में तृणनाशकों के उपयोग की सलाह दी जाती है क्योंकि यह केले की संक्रमित फसल को नष्ट करने और रोग के फैलाव से बचने के लिए सस्ता और प्रभावी उपाय हैं।

निवारक उपाय

  • पौधा सामग्री आयात करते समय उन्हें अलग रखने के (क्वारंटाइन) निर्देश ध्यान में रखें.
  • यदि आपके क्षेत्र में उपलब्ध हों तो प्रतिरोधी किस्मों का इस्तेमाल करें.
  • रोग के संकेतों पर नजर रखने के लिए खेतों की लगातार निगरानी करें.
  • संक्रमित पौधों तथा अवशेषों को खेतों से यथाशीघ्र हटा दें.
  • स्वच्छ तथा कीटाणुरहित औजारों का इस्तेमाल करें.
  • कीटों से फैलाव रोकने के लिए नर फूलों को हटा दें.
  • खेतों के मध्य से किसी भी प्रकार की संक्रमित पौधा सामग्री ले जाने से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!