- अनार

अनार अनार

अनार में जीवाणु द्वारा अंगमारी

बैक्टीरिया

Xanthomonas axonopodis pv. punicae


संक्षेप में

  • पत्तियों, टहनियों और फलों को प्रभावित करता है.
  • पीले द्रव से भरे हुए गोलाकार धब्बों की उपस्थिति.
  • असामयिक पतझड़ की व्यापकता.
  • प्रभावित फलों पर दरार का होना।.
 - अनार

अनार अनार

लक्षण

संक्रमण के 2-3 दिनों के बाद पहले लक्षण दिखाई देते हैं। पीले पानी से भरे गोलाकार धब्बे पौधे के हिस्सों पर पाए जा सकते हैं। गंभीर मामलों में समय से पहले पतझड़ होता है। बाद के चरणों के दौरान गोलाकार धब्बे अनियमित घावों के रूप में दिखाई देते हैं। धीरे-धीरे, धब्बों का केंद्र सूख जाता है और गहरे भूरे रंग का हो जाता है। रोगाणु के कारण तने और शाखाओं की छाल में दरारें पड़ जाती हैं और छाल उतर जाती है। संक्रमण के आगे के चरणों में, पत्तियों और टहनियों के ऊतक गल जाते हैं। इस रोग के कारण पूरा फल दरार पड़कर खुल जाता है, अंत में पूरा फल काला पड़कर सूख जाता है। पौधे विकास के सभी चरणों के दौरान अतिसंवेदनशील होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

नुकसान वायुजनित जीवाणु ज़ैंथोमोनस एक्सोनोपोडिस प्रजाति प्यूनिक (Xanthomonas axonopodis pv. Punicae) के कारण होता है। रोगाणु खेती की जाने वाली किस्मों की एक विस्तृत श्रृंखला को उनके विकास के चरण से निरपेक्ष संक्रमित करता है। जीवाणु प्राकृतिक छेदों और घावों के माध्यम से प्रवेश करते हैं। संक्रमित पौधे की पत्तियों, तनों और फलों में जीवाणु प्रवास करते हैं। बारिश के छींटे, कीड़े और छटाई के दूषित उपकरण स्थानीय स्तर पर बीमारियों को फैलाने में सहायक होते हैं। दिन का उच्च तापमान और कम आर्द्रता, रोगाणु वृद्धि में सहायता करते हैं। जीवाणु के विकास के लिए सर्वोत्कृष्ट तापमान 30 डिग्री सेल्सियस है। जीवाणु के मुख्य प्रसार के लिए बारिश और छिड़काव की बौछारें, सिंचाई का पानी, छंटाई के उपकरण, मानव और कीट ज़िम्मेदार हैं। रोग फलों की विक्रय संभावनाओं को प्रभावित करता है।

जैविक नियंत्रण

बैसिलस सबटिलिस, स्यूडोमोनस फ़्लोरेसेंस और ट्राइकोडर्मा हर्ज़ियेनम जैसे जैविक नियंत्रक एजेंट उपयोग करें। कीटों और पौधों के रोगाणुओं को नियंत्रित करने के लिए नीम की पत्तियों को गोमूत्र में भिगोकर स्प्रे करें। तुलसी के पत्ते का 40% अर्क लगाकर नीम के बीज के तेल का उपयोग करें। इसके अलावा, लहसुन, मिसवाक का तना और पचौली के पत्तों का अर्क 30% प्रति सान्द्रता का इस्तेमाल करें।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों की एकीकृत पद्धति पर विचार करें। इस बीमारी के लिए कोई प्रभावी रासायनिक नियंत्रण अभी तक नहीं खोजा गया है। एंटीबायोटिक दवाओं, रसायनों और अन्य कृषि समुपचारों के अनुप्रयोग से जुड़े कई प्रबंधन विकल्पों पर विचार किया गया है, लेकिन रासायनिक उपचार कम प्रभावी हैं। बोर्डो मिश्रण, कैप्टन, कॉपर हाइड्रॉक्साइड, ब्रोमोपोल और एंटीबायोटिक स्ट्रेप्टोसाइक्लिन जैसे रसायन अकेले या मिश्रणों में उपयोग किए जा सकते हैं।

निवारक उपाय

  • रोपाई के लिए रोग मुक्त पौधों का चयन करें.
  • रोपण उचित समय में और एक दूसरे से पर्याप्त दूरी पर किया जाना चाहिए.
  • खेतों को अच्छी तरह से साफ़ करें.
  • अन्य पौधों को नष्ट करें.
  • मृदा परीक्षण के दौरान अनुशंसित खाद और उर्वरकों का प्रयोग करें.
  • फसल के संवेदनशील चरण (पुष्पीकरण) में सिंचाई करें.
  • जलभराव से बचें। पौधों के कचरे को इकट्ठा करें और नष्ट करें.
  • प्रभावित शाखाओं और फलों की नियमित रूप से छँटाई करें और जलाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!