- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने का घसैला रोग

बैक्टीरिया

Sugarcane grassy shoot phytoplasma


संक्षेप में

  • पतली और पीली पत्तियां.
  • संक्रमित पौधे घास जैसे दिखते हैं.
  • अल्पविकसित किल्ले।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

पहले लक्षण तरुण अवस्था में तब दिखते हैं जब फसल 3-4 महीने की होती है। नई पत्तियां हल्की पीली पड़ जाती हैं और पतली और कम चौड़ी दिखती हैं। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, सभी नए निकले किल्ले सफ़ेद या पीले रंग के हो जाते हैं, जिससे पौधा घास जैसा दिखने लगता है। प्रभावित गन्नों का झुंड अल्पविकसित रह जाता है और सहायक कलिकाएं असमय निकल आती हैं। पूरी तरह विकसित गन्ने के द्वितीयक संक्रमण में पौधे की एक तरफ़ से अंकुरण और पत्तियों का पीलापन दिखता है। आम तौर पर, संक्रमित कलमों से उगाए गए रोगित पौधे से शुगर मिल में खपत योग्य गन्ना नहीं उत्पादित होता है, और गन्ने के कई झुंडों में फसल कटाई के बाद कोंपलें नहीं निकलती हैं, जिससे पौधों के बीच जगह रह जाती है। यदि गन्ना विकसित होता है, तो भी उसके पर्व (गांठों की बीच की जगह) छोटे दिखते हैं और निचले पर्वों पर वायवीय जड़ें (ज़मीन के ऊपर) नज़र आती हैं। इन गन्नों की कलिकाएं आम तौर पर कागज़ जैसी और असामान्य रूप से लंबी होती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

रोग का कारण जीवाणु के समान जीव फ़ाइटोप्लाज़्मा है। फ़ाइटोप्लाज़्मा का प्राथमिक संचार संक्रमित बीज सामग्री (कलम) के माध्यम से होता है। द्वितीयक संचार संवहनी ऊतक, फ़्लोएम, खाने वाले कीटों, विशेषकर फुदका और माहू के साथ-साथ जड़ परजीवी डोडर से होता है। यह औज़ारों, जैसे कि काटने वाले चाकू से भी फैल सकता है। ज्वार और मक्का रोग के वैकल्पिक मेज़बान होते हैं। इसके लक्षण आयरन की कमी से होने वाले लक्षणों के समान होते हैं, लेकिन क्रमरहित रूप से खेत के अलग-थलग क्षेत्रों में दिखते हैं।

जैविक नियंत्रण

इस रोग का प्रत्यक्ष उपचार संभव नहीं है। हालांकि गन्ने के घसैला रोग के प्रमुख वाहक माहू पर नियंत्रण किया जा सकता है। हल्का प्रकोप होने पर, साधारण कीटनाशक साबुन घोल या पेड़ों के तेल पर आधारित घोल का इस्तेमाल करें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। रोग का सीधे तौर पर मुकाबला करने के लिए कोई रसायनिक नियंत्रण नहीं है, लेकिन ज़रूरत से ज़्यादा माहू या फुदका पाए जाने पर कीटनाशकों का इस्तेमाल किया जा सकता है। माहू के लिए डाइमेथोएट (1 मिली/ली. पानी के दर से) या मिथाइल डेमेटोन (2 मिली/ली. पानी के दर से) पर आधारित उत्पादों का एक महीने के अंतराल पर दो बार छिड़काव किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • केवल स्वस्थ बीजों का ही इस्तेमाल करें और प्रतिरोधी किस्मों, जैसे Co 86249, CoG 93076 और CoC 22, को लगाएं.
  • बीज सामग्री से रोगाणु हटाने के लिए अपनी संक्रमित बीज सामग्री का उपचार 50 डिग्री सेल्सियस पर गर्म पानी से दो घंटे के लिए या फिर नम हवा (2½ घंटे के लिए 54 डिग्री सेल्सियम) से करें.
  • आप अपनी बीज सामग्री के रोपण से पहले लेडरमाइसिन (एक एंटीबायोटिक) के 500 पीपीएम घोल से भी उसका उपचार कर सकते हैं.
  • रोग और/या कीट की मौजूदगी के लिए अपने खेतों की लगातार निगरानी करें.
  • अगर आपको रोपण के दो सप्ताह के अंदर संक्रमित पौधे दिखते हैं, तो अब भी आप उन्हें स्वस्थ पौधों से बदल सकते हैं.
  • संक्रमित पौधे हटा दें और तुरंत उन्हें जलाकर नष्ट कर दें.
  • माहू जैसे कीट वाहकों को नियंत्रित करने के लिए पीले चिपचिपे जालों (येलो स्टिकी ट्रैप) का इस्तेमाल करें.
  • फसल चक्रीकरण आपके खेत में रोगाणुओं को कम कर सकता है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!