- मक्का

मक्का मक्का

स्ट्रिगा

जंगली घास

Striga hermonthica


संक्षेप में

  • चमकदार हरी पत्तियों और छोटे चमकदार बैंगनी रंग के फूल फ़सल के चारों ओर उग जाते हैं.
  • मेज़बान पौधों के लक्षणों में अवरुद्ध विकास, मुरझाना और हरित हीनता शामिल हैं।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

इसे पर्पल विचवीड के नाम से भी जाना जाता है और इसके चमकदार हरे तने होते हैं, पत्तियां छोटे, चमकदार, बैंगनी रंग के फूलों के रूप में होती हैं। यह पौधा फ़सल का परजीविकरण करता है और परपोषी पौधों से पानी और पोषक तत्वों को निकालता है। इसके कारण परपोषी पौधों में सूखे या पोषण तत्वों की कमी के लक्षण दिखाई देने लगते हैं, जैसे हरित हीनता, पत्तियों का मुरझाना और पौधे का अवरुद्ध विकास। स्ट्रिगा के उभरने से पहले लक्षणों का पता लगाना मुश्किल होता है क्योंकि लक्षण पोषण तत्वों की सामान्य कमी के लक्षण जैसे होते हैं। एक बार जब स्ट्रिगा उभर जाता है, तो नुकसान को रोक पाना मुश्किल होता है, चाहे उसे निकाल क्यों न दिया जाए। इससे उपज में काफ़ी हानि हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण, परजीवी पौधे, स्ट्रीगा हरमोन्थिका, या पर्पल विचवीड या जायंट विचवीड, के कारण होते हैं। यह अधिकतर उप-सहारा अफ्रिका में परेशानी पैदा करता है। चावल, मकई, बाजरा, ज्वार, गन्ना और लोबिया सहित ये अनाज, घास और दालों की फ़सलों के लिए गंभीर समस्या हो सकता है। हर पौधा 90,000 और 500,000 के बीच बीज उत्पन्न करता है, जो मिट्टी में 10 साल की अवधि से भी अधिक रह सकते हैं। हवा, पानी, पशु, या मानव मशीनों के माध्यम से फैलने के बाद, ये बीज मिट्टी में सर्दियां बिताते हैं। जब मौसम की परिस्थितियां अनुकूल होती हैं और वे परपोषी पौधे की जड़ों से कुछ सेंटीमीटर दूर होते हैं, तो वे अंकुरित होना शुरु कर देते हैं। जड़ के साथ संपर्क में आने के बाद, विचवीड एक ऐसी संरचना बनाता है जो मेज़बान पौधे की जड़ों से जुड़ जाता है, और फिर एक परजीवी संबंध स्थापित करता है। विचवीड के संक्रमण को कम करने के लिए नाइट्रोजन-युक्त उर्वरक लाभदायक होते हैं।

जैविक नियंत्रण

नियंत्रण करने के लिए विचवीड सबसे मुश्किल परजीवी पौधों में से एक है, मुख्य रूप से इसलिए क्योंकि यह बहुत अधिक मात्रा में बीज पैदा करता है और बहुत सालों तक जीवित रहता है। प्रभावित पौधों को उखाड़ देना चाहिए और फूलों के निकलने से पहले जला दिया जाना चाहिए। फफुंद, फ्युज़ेरियम ऑक्सिपोरम, को विचवीड के संभावित जैविक नियंत्रण के लिए उपयोग किया जा सकता है क्योंकि यह स्ट्रिगा के प्रारंभिक संवहनी ऊतकों को संक्रमित करता है और इसके विकास को अवरुद्ध करता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। विचवीड के विरुद्ध खरपतवारनाशक उपलब्ध हैं, लेकिन ये काफ़ी महंगे होते हैं और फसल को सीधे प्रभावित भी कर सकते हैं। छिड़काव करने वाले को संरक्षण की आवश्यकता होती है और खरपतवारनाशक उपयोगी पौधों को मार सकते हैं। ज्वार और बाजरा के बीजों का खरपतवारनाशक से उपचार सफलतापूर्वक किया गया है और देखा गया है कि यह खरपतवार में 80% तक की कमी ला सकता है। इसमें, रोपण से पहले खरपतवारनाशक घोलों में खरपतवार-प्रतिरोधी बीजों को भिगोया जाता है।

निवारक उपाय

  • पौधों को मज़बूत करने के लिए फ़ोर्टिफ़ायर का उपयोग करें.
  • मौसम के शुरुआत में अच्छे-से खाद लगाएं.
  • डेस्मोडियम प्रजाति के पौधों को खेत में लगाएं, ताकि स्ट्रिगा पौधों की जड़ों से न चिपके.
  • खेत के चारों ओर नेपियर घास लगाने से भी स्ट्रिगा मुख्य फ़सल से दूर रहती है.
  • संक्रमित पौधों के साथ काम करने के बाद, सभी औज़ारों, उपकरणों, कपड़ों और जूतों को ध्यान से साफ़ करें.
  • नाइट्रोजन से उचित उर्वरीकरण करें.
  • दालों के साथ चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!