- बेर

बेर बेर

फोड़े बनाने वाला घुन (गॉल माइट)

घुन

Eriophyidae


संक्षेप में

  • पत्तियों पर फोड़ों का बनना और किनारे मोटे होना.
  • पत्तियों की निचली सतह पर मखमली रोएं.
  • नई टहनियों का कम विकास और बड़े आकार की कोंपलें.
  • घुनों के खाने से पत्तियों पर कांसे के रंग की उभरी हुई संचरनाएं बन जाती हैं।.
 - बेर

बेर बेर

लक्षण

पत्तियों पर बड़ी संख्या में फोड़े (गॉल) दिखाई देेते हैं। पत्तियों के किनारे मोटे हो सकते हैं, हालांकि यह फोड़े बनाने वाले घुन की प्रजाति पर निर्भर करता है। बहुत ज़्यादा रोएं निकलने से पत्तियों की निचली सतह मखमली रोएंदार बन जाती है। फोड़े पीले से लाल रंग के हो सकते हैं। नई टहनियां कम विकसित रह जाती हैं जबकि कलियां आकार में बढ़ जाती हैं। घुन के भक्षण से पत्ती की सतह पर सख़्त उभरी हुई संरचनाएं बन जाती हैं। पेड़ों में एक साथ कई टहनियां निकल आती हैं जो झाड़ू जैसी दिखती हैं। पत्तियों का रंग कांसे जैसा भी पड़ सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण सूक्ष्म घुन हैं। ये आम तौर पर आकार में 0.2 मिमी. से छोटे होते हैं और मुख्य रूप से बेरों पर हमला करते हैं, लेकिन फलदार पेड़ों या अखरोट के पेड़ों को भी प्रभावित कर सकते हैं। इन ख़ास तरह के घुनों का शरीर लंबा होता है और जहां अन्य घुनों की चार जोड़ी टांगें होती हैं, इनकी सिर्फ़ दो जोड़ी टांगें होती हैं। ये छाल या कली के आवरणों में सर्दियां बिताते हैं और बसंत में पत्तियों को खाना और अंडे देना शुरू कर देते हैं। ये पत्तियों का रस चूसते हैं और ऐसा करते समय ये पौधे के अंदर रसायन छोड़ते हैं, जिनसे ख़ास तरह के फोड़े बन जाते हैं। घुन इन फोड़ों को चूसते और खाते रहते हैं क्योंकि इनमें पौधे का पोषक रस भरा होता है। ये आम तौर पर मेज़बान पौधे को गंभीर क्षति नहीं पहुंचाते हैं।

जैविक नियंत्रण

अधिकतर मामलों में, किसी उपचार की ज़रूरत नहीं पड़ती। अगर प्रकोप गंभीर है, तो पेड़ के प्रभावित हिस्सों को काटकर अलग कर सकते हैं। हालांकि ऐसा करने से पहले यह ज़रूर देख लें कि घुनों की तुलना में कहीं संक्रमित हिस्से को काटने से ज़्यादा नुकसान न हो जाए।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। एबामेक्टिन या बाइफ़ेंथ्रिन युक्त कीटनाशकों/घुननाशकों के निवारक छिड़काव पेड़ों की घुन के प्रकोप से सुरक्षा कर सकते हैं। गीले हो सकने वाले सल्फ़र के घोल भी मददगार हो सकते हैं, लेकिन ये लाभदायक जीवों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

निवारक उपाय

  • फोड़े बनाने वाले घुनों के लक्षणों के लिए बाग़ की लगातार निगरानी करें.
  • अगर उपलब्ध हों, तो घुन प्रतिरोधी या सहनसील किस्मे चुनें.
  • रोग को फैलने से रोकने के लिए संक्रमित पौधे के हिस्से को काटकर अलग कर दें और इसे जला दें या गहराई में दबा दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!