- अन्य

अन्य अन्य

सर्दियों का पतंगा (विंटर मॉथ)

कीट

Operophtera brumata


संक्षेप में

  • गंभीर संक्रमण के मामलों में, पत्तियों के ऊतकों में छेद और कंकाल जैसी पत्तियां.
  • नई खुली हुई पत्तियों और कलियों में, कभी-कभार फलों पर भी, इल्लियां और छेद।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

सर्दियों के पतंगे की इल्लियों का हमला सबसे पहले वसंत में दिखाई दे सकता है जब नई निकलती हुई पत्तियों में क्षति के संकेत नज़र आते हैं। यह आमतौर पर, गर्मियों के मध्य में अधिक स्पष्टता से दिखाई देते हैं, जब पत्तियां पुरी तरह बड़ी हो चुकी होती हैं। तब तक, इल्लियां पेड़ को छोड़ चुकी होती हैं, लेकिन वसंत में छोड़े गए छोटे छेद पत्तियों के सामान्य विकास के साथ बड़े हो जाते हैं और पत्ती की सतह के बड़े हिस्से पर फैल जाते हैं। इल्लियां कलियों और विकासशील फलों को भी खाती हैं। एक कली को खाने के बाद, वे अन्य कलियों पर चली जाती हैं और इस प्रक्रिया को दोहराती हैं। नए फलों पर हुई प्रारंभिक क्षति, गर्मियों के मौसम के अंत तक, जब फल अपने पूरे आकार तक पहुंच जाते हैं, एक गहरी दरार में परिवर्तित हो जाती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण सर्दियों के पतंगे (विंटर मॉथ), ओपेरोफ्टेरा ब्रुमेटा, की इल्लियां होती हैं। समागम के बाद, मादा अपने अंडे छालों, छालों की दरारों या छाल की पपड़ी के नीचे देती हैं, जहां वे सर्दियों भर रहते हैं। जब औसत तापमान 12-13 डिग्री सेल्सियस के आसपास पहुंचता है, तो इन अंडों से इल्लियां निकलती हैं। ये नई इल्लियां पेड़ों के तनों तक पहुंच जाती हैं और नई निकलती हुई कलियों की पपड़ियों के बीच घुस जाती हैं। वे कलियों की बंद पपड़ियों में सुरंग नहीं खोद सकती हैं, लेकिन जब वे खुलने लगती हैं, तो इल्लियां नीचे की तरफ़ पत्तियों के नर्म ऊतकों को खुरचकर निकाल सकती हैं। गीली गर्मियां, और हल्के और नम मौसम वाली शरद ऋतु इस कीट के जीवन चक्र के लिए अनुकूल है। बड़ी इल्लियां प्यूपा बनाने के लिए मिट्टी पर गिर जाती हैं। मेज़बान पौधों में ख़ुबानी, चेरी, सेब, आलूबुख़ारा, किशमिश और कुछ जंगली पेड़ शामिल हैं।

जैविक नियंत्रण

शरद ऋतु में, जोखिम वाले पेड़ों के तनों पर मज़बूती से गोंद के छल्ले लगाए जा सकते हैं और यदि ज़रूरी हो तो इन छल्लों के लिए समर्थक डंडे लगाए जा सकते हैं। इससे मादाएं मिट्टी से जड़ों के शीर्ष तक नहीं पहुंच पाती हैं। गोंद के छल्लों के ऊपर दिए गए अंडों को एक ब्रश की मदद से हटाना पड़ता है। बैसिलस थुरिन्जियेन्सिस पर आधारित उत्पादों का उपयोग भी इल्लियों को दूर रखने के लिए किया जा सकता है। नीम (अज़ाडिरैक्टा इंडिका) के अर्क वाले उत्पाद भी प्रभावी होते हैं। जब पत्तियां पूरी तरह खुल जाती हैं, तो लार्वा को मारने के लिए स्पिनोसैड के मिश्रणों का छिड़काव किया जा सकता है। स्पिनोसैड मधुमक्खियों के लिए हानिकारक हो सकता है, और इसलिए इसका उपयोग तब नहीं किया जाना चाहिए जब फूल पूरी तरह से खिल चुके हों।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो रोकथाम उपायों के साथ जैविक उपचारों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। ध्यान दें कि जब इल्लियां कलियों के भीतर होती हैं, तो वे कीटनाशकों से सुरक्षित रहती हैं। डाईफ़्लुबेंज़ुरोन पर आधारित उत्पादों का उपयोग पौधों के एकीकृत संरक्षण कार्यक्रमों में किया जाता है। कीट विकास नियामक टेबुफ़ेनोज़ाइड सर्दियों के पतंगों के विरुद्ध बहुत प्रभावी है, और इन्हें अपना खोल त्यागने से रोककर इन्हें मारने में मदद करता है।

निवारक उपाय

  • रोगजनक के संकेतों के लिए बाग़ानों की नियमित रूप से निगरानी करें.
  • बाग़ान के पास संवेदनशील पौधे लगाने से बचें.
  • खरपतवार हटाएं क्योंकि ये वैकल्पिक मेज़बान के रूप में काम कर सकते हैं.
  • पेड़ों के अवशेषों को जितनी जल्दी हो सके हटाएं और बाग़ानों से दूर ले जाकर गहराई में दबाकर या जलाकर नष्ट कर दें.
  • कटाई के बाद प्यूपा को शिकारियों और ठंडे तापमान के समक्ष लाने के लिए खेत की जुताई करें.
  • मादाओं को मिट्टी से जड़ के शीर्ष तक पहुंचने से रोकने के लिए गोंद के छल्लों का इस्तेमाल करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!