- बाजरा

बाजरा बाजरा

बाजरा के सिट्टे में सुरंग बनाने वाला कीट (हेड माइनर)

कीट

Heliocheilus albipunctella


संक्षेप में

  • इल्लियां बाजरे के सिट्टे पर भोजन करती हैं.
  • पुष्पगुच्छ सतह पर उभरे हुए घुमावदार स्वरूप दानों के सूख जाने का संकेत हैं।.
 - बाजरा

बाजरा बाजरा

लक्षण

हेड माइनर का जीवन चक्र बाजरा के पौधों के विकास से करीबी रूप से जुड़ा हुआ है। अंडों से निकलने के बाद, इल्लियां भोजन करती हैं और मंजरियों में अपना लार्वा विकास पूरा करती हैं। जैसे-जैसे दाने विकसित होते हैं, युवा लार्वा बाजरा की भूसी में छेद करते हैं और फूलों को खाते हैं, जब कि बड़े लार्वा फूलों की डंठलों को काटते हैं। इस वजह से दाना बन नहीं पाता या पके हुए दाने बाहर गिर जाते हैं। जैसे-जैसे लार्वा डंठल और फूलों के बीच में भोजन करना जारी रखता है, वह क्षतिग्रस्त फूलों या विकसित हो रहे अनाज को ऊपर उठा देता है, जिसके कारण बाजरा के दानों के आवरण पर एक विशेष घुमावदार स्वरूप दिखाई देता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण का कारण बाजरा के सिट्टे में सुरंग खोदने वाला कीट या हेड माइनर, हिलियोकेलस एल्बिपंकटेला, है। वयस्क पतंगे के उड़ने की अवधि बाजरा के पुष्पगुच्छ के बनने और फूलों के खिलने से मेल खाती है। मादाएं एक-एक करके या तंग समूहों में अंडे देती हैं, जो फूलों के सिरे के बनने के समय, तने पर, पुष्पों के आधार पर, या उनकी डंठलों पर हल्के-से चिपके रहते हैं। अंडों से निकलने के बाद, युवा लार्वा पुष्पों को खाना शुरू कर देते हैं, और बड़े लार्वा घुमावदार सुरंगों का विशेष स्वरूप बनाते हैं। पूरी तरह से विकसित लार्वा लाल या गुलाबी जैसे रंग के होते हैं और भूमि पर गिर जाते हैं, जहां वे मिट्टी में प्रेवश करके कोषस्थ धारण करते हैं। वे सूखे के पूरे मौसम के दौरान, कोषस्थ में रहते हैं और बारिश के मौसम के आते ही वयस्क के रूप में निकलकर आते हैं। इस कीट को पश्चिमी अफ्रीका के सहेलियाई क्षेत्र में मोती बाजरा के पुष्पों के लिए सबसे हानिकारक कीट माना जाता है।

जैविक नियंत्रण

हैब्रोब्रेकॉन हेबेटर, हेड माइनर का एक प्राकृतिक परजीवी कीट है और इसे कुछ अफ्रीकी देशों में प्रभावित बाजरा खेतों में सफलतापूर्वक छोड़ा जा चुका है। कुछ मामलों में इससे 97% आबादी को समाप्त किया गया है, जिससे अनाज की उपज में भारी मात्रा में लाभ हुआ है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचारों के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। इस समय कोई रासायनिक नियंत्रण नहीं है जो एच. एल्बिपंकटेला पर प्रभावी नियंत्रण प्रदान करता है।

निवारक उपाय

  • लार्वा के लिए मंजरियों और ज़मीन पर नज़र रखें.
  • मंजरियों को हटा दें और उन्हें खेत से दूर ले जाकर दफ़ना कर या जलाकर नष्ट कर दें.
  • जल्दी पकने वाली बाजरा की किस्मों में (75 दिनों की परिपक्वता) रोपण में दो सप्ताह की देरी फ़सल के संवेदनशील चरण को कीट के उड़ने की अवधि के शिखर से बचा सकती है.
  • कटाई के बाद लार्वा और प्यूपे को बाहर निकालने के लिए गहरी जुताई करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!