- मैनीक

मैनीक मैनीक

सफ़ेद मक्खी (व्हाइट फ़्लाई )

कीट

Aleyrodidae


संक्षेप में

  • पत्तियों पर पीले धब्बे.
  • काली, मोटी फफूँदी विकसित हो जाती है.
  • पत्तियों में विकृति - मुड़ना या प्याले का आकार लेना.
  • विकास रुकना या अवरुद्ध विकास.
  • छोटे सफ़ेद से पीले कीट।.
 - मैनीक

मैनीक मैनीक

लक्षण

सफ़ेद मक्खियाँ खुले खेतों और ग्रीनहाउसों की कई फ़सलों में आम हैं। लार्वा और वयस्क पौधे के रस का सेवन करते हैं और पत्ती की सतह, तने और फलों पर मधुरस या हनीड्यू छोड़ते हैं। पर्ण हरित हीन धब्बे (क्लोरोसिस) और राख जैसी फफूंद प्रभावित ऊतकों पर बन जाती है। भारी संक्रमण में, ये धब्बे एक-साथ जुड़कर, शिराओं के आसपास के क्षेत्र को छोड़कर, पूरी पत्ती को ढक लेते हैं। पत्तियां बाद में विकृत हो सकती हैं, घुमावदार हो सकती हैं या प्याले का आकार ले सकती हैं। कुछ सफ़ेद मक्खियाँ, टमाटर का येल्लो लीफ़ कर्ल वायरस या कसावा ब्राउन स्ट्रीक वायरस जैसे विषाणु फैलाती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

सफ़ेद मक्खी या व्हाइट फ़्लाई लगभग 0.8 मिमी की होती है, और उसके शरीर और दोनों पंखों पर सफ़ेद से पीले रंग का मोमी स्राव रहता है। वे अक्सर पत्तियों की निचली सतह पर दिखती हैं, और जब उन्हें हिलाया जाता है, तो वो उड़ने लगती हैं और बादल की तरह छा जाती हैं। ये गर्म और सूखी परिस्थितियों में पनपती हैं। पत्तियों की निचली सतह पर अंडे दिए जाते हैं। नवजात पीले से सफ़ेद रंग के, सपाट, अंडाकार और हरे-पीले होते हैं। वयस्क सफ़ेद मक्खियाँ किसी मेज़बान पौधे को खाए बिना कुछ दिनों तक जीवित नहीं रह सकती हैं। यही कारण है कि इसकी आबादी को नियंत्रित करने के लिए घासफूस हटाना एक ज़रूरी उपाय माना जाता है।

जैविक नियंत्रण

जैविक उपाय सफ़ेद मक्खी की प्रजाति और फ़सल पर निर्भर करते हैं। सुगर ऐप्पल तेल (अनोना स्क्वामोसा), पायरेथ्रिन, कीटनाशक साबुन, नीम की गुठली का अर्क (NSKE 5%), और नीम तेल (5 मिलीलीटर/ली पानी) के इस्तेमाल का सुझाव दिया जाता है। रोगजनक कवकों में ब्युवेरिया बासियाना, इसारिया फ़ुमोसोरोज़िया, वर्टिसिलियम लेकानी और पेसिलोमायसिस फ़ुमोसोरोज़ियस शामिल हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचारों के साथ निवारक उपायों के इस्तेमाल पर हमेशा विचार करें। व्हाइटफ़्लाई सभी कीटनाशकों के लिए शीघ्र प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेती हैं, इसलिए अलग-अलग उत्पादों का अदल-बदल करके उपयोग करें। कीट को नियंत्रित करने के लिए बिफ़ेन्थ्रिन, बुप्रोफ़ेज़िन, फ़ेनोक्सिकार्ब, डेल्टामेथ्रिन, अज़ाडिरैक्टिन, लाम्ब्डा-सायहेलोथ्रिन, सायपरमेथ्रिन, पायरेथ्रॉयड्स, पाइमेट्रोज़ाइन या स्पायरोमेसिफ़ेन के संयोजनों पर आधारित उत्पादों का उपयोग करें। ध्यान रखें कि जनसंख्या को हानिरहित स्तर तक कम करने के लिए निवारक उपाय अक्सर पर्याप्त होते हैं।

निवारक उपाय

  • सहयोगी फसलों को लगाएं जो सफ़ेद मक्खियों को आकर्षित करती हों या रोकती हों (जैसे नस्टाशयम, ज़िनिया, हमिंग बर्ड बुश, पाइनएप्पल सेज, बी बाम).
  • मक्का, ज्वार, या मोती बाजरा जैसे ऊँचे पौधों को घनी पंक्तियों में सीमा फसल की तरह लगाएं.
  • अपने पड़ोसियों से परामर्श करें और एक ही समय पर बुवाई करें, न ज़्यादा जल्दी और न ही ज़्यादा देरी से.
  • रोपण के समय घनी बुवाई करें.
  • नई ख़रीद या रोपणों पर सफ़ेद मक्खी के संकेतों के लिए जाँच करें.
  • पीले चिपचिपे जालों (20/एकड़) की मदद से खेत की निगरानी करें.
  • पौधों में संतुलित उर्वरीकरण करने पर ध्यान दें.
  • व्यापक प्रभाव वाले कीटनाशकों का इस्तेमाल न करें.
  • अंडे या लार्वा वाली पत्तियों को हटा दें.
  • खेतों में तथा उसके आसपास खरपतवार और वैकल्पिक मेज़बानों को नियंत्रित रखें.
  • फसल कटने के बाद खेत या ग्रीनहाउस से पौधों के अवशेषों को हटा दें.
  • उष्ण तापमान पर खेत को थोड़े समय के लिए परती छोड़ें.
  • यूवी अवशोषित करने वाली ग्रीनहाउस प्लास्टिक फ़िल्म के उपयोग से संक्रमण को कम किया जा सकता है.
  • गैर-संवेदनशील पौधों के साथ फसल लगाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!