- आम

आम आम

आम के फल की मक्खी

कीट

Ceratitis cosyra


संक्षेप में

  • छिलके पर कत्थई धब्बे.
  • फलों का बदरंग होना.
  • फलों का रस रिसता है और गोंद जैसा होता है.
  • बाहर निकलने के छिद्र दिखाई देते हैं।.
 - आम

आम आम

लक्षण

सी. कॉसियेरा संक्रमण के लक्षण विशेष रूप से फलों पर दिखाई देते हैं। मादाएं अपने अंडे मुख्यतः परिपक्व आम के फलों के भीतर डालती हैं। लार्वा के आंतरिक भोजन और पचाने की प्रक्रिया के कारण प्रभावित फल लसलसे हो जाते हैं। लार्वा के बाहर निकलने के छेद फल की सतह पर दिखाई देते हैं। आंतरिक अपघटन के कारण छिलके पर भूरे और कभी-कभी काले घाव देखे जा सकते हैं। छिलका पपड़ीदार या छेद युक्त भी हो सकता है। धीरे-धीरे क्षय होने के कारण फलों पर मलिनकिरण और फफूंद के दाग़ दिखते हैं। वे बाद में, एक गंदी बदबू छोड़ने लगते हैं और फफूंद और फल के रस का मिश्रण रिसने लगता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण फलों की मक्खी, सेराटाइटिस कॉसियेरा के लार्वा के कारण होते हैं। वयस्कों का पीले रंग का शरीर होता है और उनकी छाती पर काले धब्बे बिखरे हुए दिखते हैं। उनके पंख पीले और 4-6 मिमी की लंबाई तक पहुंच सकते हैं। मादाएं परिपक्व हो रहे आम के फलों में अंडे डालती हैं और लगभग दो सप्ताह के लिए ऐसा करना जारी रखती हैं। 2-3 दिनों के बाद, लार्वा निकलते हैं और आम के गूदे में सुरंग खोदना शुरू करते हैं। एक-एक फल में 50 लार्वा तक हो सकते हैं और कभी-कभी कटाई के बाद ही लक्षण दिखना शुरू होते हैं। कोषस्थ के लिए, लार्वा खुद को ज़मीन पर गिरा लेते हैं और मिट्टी की ऊपरी परतों में खोदना शुरू कर देते हैं। 9 से 12 दिनों के बाद, वयस्क मक्खियाँ बाहर निकल आती हैं।

जैविक नियंत्रण

प्रोटीन बेट युक्त जाल सी. कॉसियेरा की आबादी को कम रखने और उन्हें फँसाने के लिए प्रभावी हो सकते हैं। सी. कॉसियेरा के कोषस्थ को कवक मेटार्हिज़ियम अनिसोप्ले ज़मीन पर परजीवित करता है और इसे हाथ से या तेल-आधारित स्प्रे के रूप में फैलाया जा सकता है। फसल के बाद फलों का 46 डिग्री के गर्म पानी से उपचार किया जा सकता है। 7.5 डिग्री या उससे कम तापमान पर लंबे समय तक भंडारण भी लार्वा को नष्ट करता है।

रासायनिक नियंत्रण

एक विशिष्ट किस्म के बेट (प्रोटीन हाइडोलाइज़ेट या प्रोटीन ऑटोलाईज़ेट) के साथ कीटनाशक युक्त जाल (जैसे मैलेथियोन या डेल्टामैथ्रिन) की सिफारिश की जाती है। इस विधि से मक्खियों का समय पर उपचार किया जा सकता है क्योंकि यह आसपास की सभी मक्खियों को आकर्षित करती है। सी. कॉसियेरा के नरों को टरपिनियॉल एसीटेट या मिथाइल यूजेनॉल के साथ आकर्षित करके जाल में फंसाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • ऐसी किस्में लगाएं जिनके फल जल्दी और उस समय तक परिपक्व हो जाते हैं जब मक्खियों की संख्या कम रहती है.
  • हर दिन प्रभावित या गिरे हुए फलों को हटाएं.
  • मक्खियों के संभावित आक्रमणों से बचने के लिए प्रोटीन के चारे वाले जाल लगाएं.
  • नज़दीक में अमरूद, पपीता, खरबूजे आदि जैसे अन्य धारक पौधों को न लगाएं.
  • वृक्षों के चारों ओर अवशेषों के नीचे गिरने वाले फलों का पता लगाने के लिए सावधानीपूर्वक जुताई करें.
  • आम की ऐसी प्रजातियों का उपयोग करें, जिनके विकास चक्र समान होते हैं.
  • केवल अप्रभावित आम के फलों का परिवहन करें और बेचें.
  • न बिकने वाले फलों का तुरंत उपयोग करें या सही तरीके से उनका विनाश सुनिश्चित करें.
  • पेड़ों के चारों ओर जुताई करने से ज़मीन में विकासशील कोषस्थ मर सकते हैं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!