- खरबूज

खरबूज खरबूज

बैंगन की पत्तियों को खाने वाले भृंग

कीट

Epilachna vigintioctopunctata


संक्षेप में

  • शिराओं के बीच पत्तियों के ऊतकों पर भोजन के कारण क्षति दिखाई देती है.
  • पत्तियों का कंकालकरण होता है.
  • फल की सतहों पर छिछले छेद दिखाई दे सकते हैं.
  • अंकुर नष्ट हो सकते हैं.
  • संक्रमण से पौधों का विकास अवरुद्ध हो जाता है और पत्तियाँ भारी मात्रा में गिरने लगती हैं।.
 - खरबूज

खरबूज खरबूज

लक्षण

वयस्क और लार्वा, दोनों पत्तियों पर भोजन करके गंभीर क्षति पहुँचा सकते हैं। पत्तियों की शिराओं के बीच हरे रंग की ऊतक को भोजन द्वारा नुकसान प्रारंभिक लक्षण है। बाद में, कंकालकरण नामक क्षति का एक विशिष्ट स्वरूप उत्पन्न होता है, जिसमें पत्तियों के केवल सख़्त हिस्से (मुख्य शिराएं और डंठल) बच जाते हैं। फलों की सतहों पर भी छिछले छेद हो सकते हैं। अंकुर नष्ट हो सकते हैं और अधिक परिपक्व पौधों का विकास अवरुद्ध हो सकता है। कीट के कारण भारी मात्रा में पत्ते गिर सकते हैं और उच्च मात्रा में उपज हानि हो सकती है। यही कारण है कि यह बैंगन के सबसे ख़तरनाक कीटों में से एक है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

वयस्क, 28 काले धब्बों के साथ और पीठ पर छोटे नर्म बालों के साथ रंग में फीके नारंगी और अंडाकार होते हैं। मादा भृंग अंडाकार, पीले खड़े हुए अंडे (0.4-1 मिमी) छोटे समूहों में, आमतौर पर पत्तियों के निचले हिस्से पर, देती है। लगभग 4 दिनों के बाद लंबे, और पीठ पर गाढ़े रंग की नोक के काँटों वाले लार्वा निकल आते हैं। तापमान पर निर्भर करते हुए, लार्वा लगभग 18 दिनों के भीतर 6 मिमी तक बढ़ जाते हैं। वे फिर पत्तियों के नीचे की तरफ़ चले जाते हैं और कोषस्थ धारण कर लेते हैं। अतिरिक्त 4 दिनों के बाद, वयस्क भृंगों की नई पीढ़ी कोकून से निकलती है। प्रजनन अवधि (मार्च-अक्टूबर) के दौरान, ठंडा तापमान जीवन चक्र और जनसंख्या वृद्धि में मदद करता है। सर्दियों के दौरान, भृंग मिट्टी में और सूखी पत्तियों के ढेर में समय बीता सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

पेडीयोबियस परिवार के परजीवी हड्डों का उपयोग इस कीड़े को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है। ये हड्डे लाभकारी लेडीबर्ड पर भी हमला करते हैं, इसलिए उन्हें प्रयोग करने से पहले कीड़े की पहचान सावधानीपूर्वक करें। रोगजनक सूक्ष्मजीव भी पत्तियों को खाने वाले भृंग की आबादी को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। बैक्टीरियम बैसिलस थुरिंजिएंसिस या कवक एस्परगिलस प्रजाति युक्त जैविक कीटनाशकों का उपयोग पत्तियों पर छिड़काव के लिए किया जा सकता है। रीकीनस कम्यूनिस (अरंडी का तेल), कैलोट्रोपिस प्रोसेरा और दत्तुरा इंन्नोक्सिया (धतूरा) की पत्तियों के अर्क को पत्तियों पर छिड़का जा सकता है। प्रारंभिक चरणों में राख लगाने से संक्रमण को प्रभावशाली रूप से कम किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

पहले, हमेशा एक एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। यदि कीटनाशकों की ज़रूरत होती है, तो डायमिथोएट, फ़नवेलारेट, क्लोरोपायरिफ़ॉस, मैलाथियोन युक्त उत्पादों को पत्तियों पर लगाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • आपके इलाके में उपलब्ध मज़बूत, सहिष्णु या प्रतिरोधी किस्में लगाएं.
  • प्रभावित खेतों में या उनके बगल में बैंगन लगाने से बचें.
  • अपने खेत के आसपास अन्य धारकों की रोपाई से बचें या उन्हें हटा दें.
  • बढ़ती कीट आबादी को कम करने के लिए अच्छी सिंचाई का उपयोग करें.
  • कीट के किसी भी लक्षण के लिए अपने पौधों या खेत की जांच करें.
  • क्यारियों या खेतों में पाए जाने वाले लार्वा और वयस्कों को हाथ से लेकर नष्ट करें.
  • संक्रमित पौधों या कचरे को हटाएं या जलाकर नष्ट कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!