- जवार

जवार जवार

ज्वार का कीट

कीट

Stenodiplosis sorghicola


संक्षेप में

  • खाली या भूसीदार बालें जिनकी नोक पर छोटा, पारदर्शी कीट का प्यूपा दिखता है.
  • पुष्पगुच्छ झुलसे हुए या मरे हुए प्रतीत होते हैं.
  • जब उन्हें दबाया जाता है, तो लाल रंग का पदार्थ स्रावित होता है, जो कीट के लार्वा के शरीर से या प्यूपा से निकलता है।.
 - जवार

जवार जवार

लक्षण

विकसित हो रहे अनाज की बाली के आवरण के भीतर लार्वा भोजन करते हैं और उनके विकास को अवरुद्ध करते हैं। इससे बीज सिकुड़ जाते हैं, विकृत हो जाते हैं, खाली और भूसीदार हो जाते हैं। परिपक्व फ़सल में, प्रभावित बालियां झुलसी हुई या मरी हुई प्रतीत होती हैं। क्षतिग्रस्त छोटी बालियों की नोक पर प्यूपा अवस्था में छोटे, पारदर्शी कीट चिपके हुए दिखाई देते हैं। जब उन्हें दबाया जाता है, तो लाल रंग का पदार्थ स्रावित होता है, जो कीट के लार्वा के शरीर से या प्यूपा से निकलता है। भारी संक्रमण के मामलों में, सिर सामान्य बीजों से पूरी तरह खाली हो सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण का कारण ज्वार का कीट, स्टेनोडिपलोसिस सोर्घीकोला, का लार्वा होता है। वयस्क कीट एक मच्छर की तरह दिखते हैं। उनका चमकीला नारंगी शरीर होता है, पारदर्शी पंख होते हैं और बहुत लंबा एंटीना होता है। जब तापमान और नमी बढ़ती है, तो वे अपने प्यूपा से निकलकर अनाज के दाने पर आते हैं और एक घंटे के भीतर संबंध बनाते हैं। कुछ देर बाद, मादाएं 1 से 5 छोटे, गोलाकार और पारदर्शी अंडे हर बाली में देती हैं। लार्वा 2-3 दिनों के बीच अंडों से निकलते हैं। ये रंगहीन, युवा लार्वा विकसित अनाज के छोटे ऊतकों पर भोजन करते हैं। 10-15 दिनों तक निरंतर भोजन करने के बाद, परिपक्व गहरे-नारंगी लार्वा कोषस्थ धारण करके अनाज के अंदर 3 से 5 दिनों तक रहते हैं और फिर एक वयस्क बनकर निकलते हैं। फिर, ये दोबारा इस चक्र को शुरू कर देते हैं। कटाई के बाद, वे लार्वा जो अभी भी दानों में उपस्थित होते हैं, वे कोषस्थ अवस्था में चले जाते हैं जहां वे 3 वर्षों तक जीवित रह सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

यूपेल्मस, यूपेल्मिडा, टेट्रास्टिकस और अप्रोस्टोसेटस (ए. डिप्लोसाइडिस, ए. कोइमहाटोरेंसिस, ए. गाला) परिवार के छोटे, काले परजीवी ततैये एस. सोर्घीकोला के लार्वा पर भोजन करते हैं और इसकी आबादी कम करने के लिए इनका उपयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो निवारक उपायों और जैविक उपचार के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। खेत में, इस कीट का रासायनिक नियंत्रण मुश्किल हो सकता है क्योंकि लार्वा, प्यूपा और अंडे बालियों के अंदर सुरक्षित रहते हैं। खिलने की अवस्था के दौरान, जब वयस्क सुबह-सवेरे निकलते हैं, तो कीटनाशकों का उपयोग किया जाना चाहिए। अन्य परिस्थितियों में, उपचार प्रभावी नहीं होगा। क्लोरपायरिफ़ोस, सायफ़्लुथ्रिन, सायथेलोथ्रिन, एस्फ़ेनवलेरेट, मेलेथियोन या मेथोमाइल आधारित उत्पादों का उपयोग किया जा सकता है। कटाई के बाद, लार्वा को बालियों में मारने के लिए ज्वार के दानों कe फ़ोस्फ़ाइन से धूम्रीकरण किया जा सकता है। इससे इस कीट के नए क्षेत्रों में फैलने की संभावना कम हो जाती है।

निवारक उपाय

  • यदि आपके क्षेत्र में उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधक या सहनशील प्रजातियों की रोपाई करें.
  • ज्वार को एक ही समय पर तथा एक ही गहराई पर रोपें.
  • रोपाई जल्द करें.
  • खेत में और उसके आसपास जंगली ज्वार, जॉनसन घास और सुडान घास जैसे वैकल्पिक धारक हटा दें.
  • खेतों में अच्छी स्वच्छता बनाये रखें.
  • रोग न फैले इसके लिए संक्रमित बालों को हटा दें.
  • कटाई के बाद पौधों के अवशेषों को हटा दें या जला दें.
  • एक अच्छे फसल चक्रीकरण (कपास, मूंगफली, सूरजमुखी या गन्ने के साथ) का निर्धारण करें.
  • ज्वार के बीच-बीच में अरहर, कपास, सोयाबीन, लोबिया, सैफ्लावर या अन्य दलहनों को लगायें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!