- मक्का

मक्का मक्का

तने का बैंगनी छिद्रक

कीट

Sesamia inferens


संक्षेप में

  • इल्लियां तने पर या पुष्पक्रम के आधार पर छेद करती हैं.
  • पौधे के इन भागों पर निकासी छिद्र देखे जा सकते हैं.
  • पानी और पोषक तत्वों की कमी से प्रभावित ऊतक मुरझाने लगते हैं.
  • जब तनों को लंबाई में काटा जाता है, तो वहां 'डेड हार्ट' रोग के लक्षण दिखाई देते हैं और लार्वा और उनका मल भी नज़र आता है।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

फ़सलों को नुकसान मुख्य रूप से इल्लियों के खाने के कारण होता है। वे तने में या पुष्पगुच्छ के आधार पर छेद करके अंदरूनी पदार्थ खाती हैं और पोषक तत्वों और पाने के परिवहन को बाधित करती हैं। तनों और पुष्पगुच्छों पर इल्लियों के निकासी छिद्र देखे जा सकते हैं। आपूर्ति की कमी से प्रभावित पौधों के हिस्से मुरझा जाते हैं। जब तनों को लंबाई में काटा जाता है, तो वहां 'डेड हार्ट' रोग के लक्षण दिखाई देते हैं और लार्वा और उनका मल भी नज़र आता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण बैंगनी तना छिद्रक, सेसेमिया इंफ़ेरेंस, के कारण पैदा होते हैं। लार्वा कोषस्थ के रूप में तनों या मिट्टी में पौधों के मलबे में सर्दियां बिताता है और वसंत में जब मौसम की परिस्थितियों उसके लिए अनुकूल होती हैं, तो वयस्क के रूप में बाहर निकलता है। पतंगे छोटे, मोटे और हल्के भूरे होते हैं। उनके सिर और शरीर पर बाल होते हैं। आगे के पंख भूसे के रंग के होते हैं और उनके किनारे स्पष्ट रूप से सुनहरे रंग के दिखाई देते हैं। पिछले पंख पीले-से रंग की शिराओं के साथ पारदर्शी सफ़ेद होते हैं। शिकारियों से सुरक्षा के लिए, मादाएं गोलाकार, हल्के और पीले-हरे रंग के अंडे कई पंक्तियों में पत्तियों के आवरण के पीछ देती हैं। इल्लियां 20 से 25 मिमी लंबी, गुलाबी-से रंग की होती हैं और उनके सिर लाल-भूरे होते हैं। उनके शरीर पर कोई धारियां नहीं होती हैं। वे तने में घुसकर अंदरूनी ऊतकों पर भोजन करती हैं।

जैविक नियंत्रण

टेलिनोमियस और ट्राइकोग्रामा सूमहों के अनेक परजीवी ततैया सेसमिया इंफ़ेरेंस के अंडों पर अपने अंडें जमा करकर आबादी को निंयत्रित करने में मदद करते हैं। उदाहरण के रूप में, अंकुरण के 12 और 22 दिनों के बाद, अंडे के परजीवी, ट्राइकोग्रामा किलोनिस (प्रति हेक्टेयर 8 कार्ड के हिसाब से) को छोड़ें। अपेंटेलेस फ़्लेवाइप्स, ब्रेकोन किनेन्सिस और स्टुरमियोप्सिस इंफ़ेरेंस के ततैया भी लार्वा के परजीवी हैं। अंत में, ज़ेन्थोपिन्प्ला और टेट्रास्टिकस की प्रजातियां कोषस्थ पर हमला करती हैं। फफुंद बवेरिया बासियाना और जीवाणु बैसिलस थुरिंजियेंन्सिस के अर्क पर आधारित जैव-कीटनाशक भी बैंगनी तना छिद्रक के विरुद्ध प्रभावशाली होते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक नियंत्रण उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। कीट की आबादी को नियंत्रित करने के लिए, दानों या स्प्रे के रूप में (उदाहरण के लिए, क्लोरेनट्रिनिलिप्रोल के साथ) कीटनाशकों द्वारा रोगनिरोधी उपचार को पत्तियों पर लगाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधक किस्में लगाएं.
  • कीट आबादी को बढ़ने से रोकने के लिए अन्य किसानों के साथ एक समय में पौधों का रोपण करें.
  • समान परिपक्वता विशेषता वाली किस्में लगाएं.
  • जल्दी रोपण से भी कीटों की अधिक आबादी से बचा जा सकता है.
  • घना रोपण करें ताकि पतंगा पत्तियों के बीच न घुस सके.
  • दाल की फ़सल साथ लगाएं.
  • कीट को आकर्षित करने के लिए सॉर्घम जैसी जाल फ़सलों की 2-3 पंक्तियां चारों तरफ़ लगाएं.
  • खेत की निगरानी नियमित रूप से करें और पौधे के संक्रमित अवशेषों को हटाएं.
  • नाइट्रोजन का पर्याप्त स्तर सुनिश्चित करें और सही समय पर लगाएं.
  • खेत में और उसके आसपास खर-पतवार को हटाएं.
  • पानी का प्रबंधन ठीक से करें.
  • कटाई के बाद पौधे के मलबे को हटाएं और नष्ट करें.
  • गैर-परपोषी पौधों के साथ दीर्घकालिक फ़सल चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!