- गेहूं

गेहूं गेहूं

अनाज की पत्ती का गुबरैला

कीट

Oulema melanopus


संक्षेप में

  • पत्तियों की ऊपरी अधिचर्म पर पतली, लंबी, सफ़ेद धारियां.
  • दूर से प्रभावित खेत मुरझाया और बिगड़ा हुआ दिख सकता है हालांकि क्षति ज़्यादा गंभीर नहीं होती है।.
 - गेहूं

गेहूं गेहूं

लक्षण

इस गुबरैले को जई, जौ और राई जैसे अनाज बहुत पसंद हैं, लेकिन इसका पसंदीदा मेज़बान गेहूं है। इसके कई अन्य मेज़बान भी हैं, जिनमें मकई, ज्वार और घासें भी शामिल हैं। लार्वा पत्तियों की ऊपरी अधिचर्म को खाता है और अपने जीवन की सबसे बड़ी क्षति इसी समय पहुंचाता है। ये पत्ती के ऊतकों को निचली परत तक खा जाते हैं, जिससे पतले, लंबे सफ़ेद निशान या धारियां बन जाती हैं, प्रकोप होने पर इनकी संख्या बहुत ज़्यादा हो सकती है। परंतु, वयस्क गुबरैले आम तौर पर अन्य पौधों या खेतों की ओर चले जाते हैं, यानी कि किसी एक खेत में गंभीर क्षति कम दिखती है। दूर से प्रभावित खेत मुरझाया और बिगड़ा हुआ दिख सकता है, हालांकि क्षति कुल क्षेत्र के 40 फ़ीसदी से ज़्यादा नहीं होती है। कुछ अनाज उत्पादन क्षेत्रों में यह गुबरैला वर्ष भर नुकसान पहुंचा सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति का कारण बीटल ऊलेमा मेलानोपस के लार्वा हैं। वयस्क करीब 5 मिमी. लंबे होते हैं और उनके गहरे नीले पंख, लाल सिर और टांगें होती हैं। ये खेत के आसपास फैल जाते हैं और सुरक्षित क्षेत्रों जैसे हवा में सूखने के लिए डाली गई फ़सलें, फ़सलों की ठूंठों या पेड़ों की छाल में छिपकर शीत-शयन करते हैं। ये बसंत में हालात अनुकूल होने पर, जब तापमान करीब 10° सेल्सियस होता है, तब बाहर निकलते हैं। बसंत में गर्म मौसम इसके जीवन चक्र को बढ़ावा देता है, जबकि ठंडा मौसम बाधित करता है। मिलन के बाद, मादाएं पत्तियों की निचली तरफ़, अक़्सर मध्य शिरा के पास चमकीले पीले, बेलनाकार अंडे 45-60 दिन की लंबी अवधि के दौरान देती हैं। 7-15 दिन बाद अंडों से लार्वा निकल आते हैं और पत्ती की ऊपरी अधिचर्म को खाना शुरू कर देते हैं, और इसी समय सबसे ज़्यादा क्षति पहुंचाते हैं। ये सफ़ेद या पीले, शरीर के बीच में उभार वाले होते हैं। इनका सिर काला होता है जबकि छह छोटी टांगें होती हैं। 2-3 सप्ताह तक पत्तियां खाने के बाद बढ़ने पर ये प्यूपा बन जाते हैं जो 20-25 दिन में वयस्क में बदल जाते हैं और चक्र फिर शुरू हो जाता है।

जैविक नियंत्रण

वंश स्टेनर्नेमा के कुछ सूत्र कृमि वयस्कों पर मिट्टी में शीत-शयन के दौरान हमला करते हैं जिससे वे बसंत में प्रजनन नहीं कर पाते हैं। परंतु, इनका असर तापमान पर निर्भर करते हुए अलग-अलग हो सकता है। कुछ लेडीबग भी अंडों और लार्वा को खाते हैं। टैकिनिड मक्खी हयलोमायोड ट्राइएंगुलीफ़र वयस्कों की परजीवी है और ओ. मेलानोपस की संख्या काबू करने के लिए बाज़ार में उपलब्ध है। वहीं, कीट-परजीवी ततैया डायापार्सिस कार्निफ़र, लेमोफ़ेगस कर्टिस और टेट्रास्टिकस जूलिस लार्वा की आबादी काबू कर सकती हैं। ततैया एनाफ़ेस फ़्लेवाइपस अंडों पर परजीवी हैं और यह भी असरदार है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। गामा-सायहैलोथ्रिन तत्व वाले कीटनाशक सबसे ज़्यादा प्रभावी होते हैं क्योंकि ये अंडों और लार्वा को निशाना बनाते हैं। छिड़काव तब करना चाहिए जब मादाएं अंडे दे रही हों या जब 50% अंडों से लार्वा बाहर आ चुके हों। दुरुपयोग से ओ. मेलानोपस की संख्या बढ़ सकती है क्योंकि उनके शिकारी मर सकते हैं। ओ. मेलानोपस पर ऑर्गनोफ़ॉस्फ़ेट (मैलाथियॉन) और पायरेथ्रॉयड परिवार के कीटनाशकों का भी इस्तेमाल किया जाता है।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधी किस्मों का इस्तेमाल करें.
  • क्षेत्र या देश के संगरोधी नियमों की जानकारी लें.
  • बसंत की शुरुआत में जब तापमान बढ़ने लगता है, तब खेत की नियमित निगरानी करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!