- गेहूं

गेहूं गेहूं

फॉल आर्मीवर्म (सैनिक कीट)

कीट

Spodoptera frugiperda


संक्षेप में

  • पौधों के सभी भागों में खाये जाने से होने वाली क्षति.
  • पत्तियों के छितरे किनारे.
  • पर्णपात।.
 - गेहूं

गेहूं गेहूं

लक्षण

सैनिक कीट (फ़ॉल आर्मीवर्म) के लार्वा पौधों के सभी हिस्सों को खा कर नुकसान पहुंचाते हैं। युवा लार्वा शुरू में पत्ती के ऊतकों की एक सतह को खाते हैं, और दूसरी तरफ़ की बाहरी परत को ज्यों का त्यों छोड़ देते हैं (खिड़किनुमा स्वरूप में भोजन करना)। अकुंरों को तब तक खाया जा सकता है जब तक कि कलियां और विकास के बिंदु नष्ट न हो जाएं। बड़े लार्वा पत्तियों पर छेदों और फटे हुए किनारों का विशेष स्वरूप छोड़ जाते हैं। साथ ही लार्वा का मल भी दिखाई देता है। वे पौधे के आधार को भी काट सकते हैं या प्रजनन और युवा फलों की संरचनाओं पर भी आक्रमण कर सकते हैं। भारी संक्रमण की स्थिति में, सैनिक कीट का लार्वा व्यापक रूप से पत्तियों के झड़ने का कारण बन सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

अंडे पत्तियों की निचले सतह पर 100-300 के तंग गुच्छों में दिए जाते हैं, आमतौर पर ये पपड़ी से ढके होते हैं। लार्वा हल्के पीले-भूरे या हरे रंग से लेकर लगभग काले रंग के होते हैं। उनके किनारों पर पट्टियों होती हैं और पीठ पर एक पीली-सी रेखा होती है। कीट का पिछला पंख सफ़ेद पारदर्शी और अगला हल्के और गहरे रंग के छींटदार निशानों के साथ भूरे रंग का होता है। प्रत्येक अग्र पंख की शीर्ष नोक पर एक स्पष्ट सफ़ेद निशान होता है। आहार और तापमान विभिन्न जीवन चक्र चरणों की लंबाई निर्धारित करते हैं। ठंडे, आर्द्र वसंत मौसम के बाद गर्म और नम मौसम कीट के जीवन चक्र के लिए अनुकूल हैं।

जैविक नियंत्रण

परजीवी ततैयों में कोटेसिया मार्जिनिवेन्ट्रिस, चेलोनस टेक्सानस और सी. रेमस शामिल हैं। सबसे आम परजीवी मक्खी आर्कायटस मारमोराटस है। शिकारियों में ज़मीनी भृंग, स्पाइन्ड सोल्जर कीट, फूलों के कीट, पक्षी या कृतंक शामिल हैं। नीम के अर्क, बैसिलस थुरिन्जिएंसिस या बैकुलोवायरस स्पोडोप्टेरा के साथ स्पिनोसेड युक्त जैविक कीटनाशकों या अज़ैडिरेक्टिन का छिड़काव किया जा सकता है। मकई में, लाल रेत, सेंधा नमक, चारकोल पाउडर या फ़्लाई ऐश (राख) को पत्तियों के गुच्छों में डालने से लार्वा को भोजन करने से रोका जा सकता है और उन्हें मारा भी सकता है (100%, 98%, 90 और 80% प्रभावशीलता, क्रमशः)।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। अनुशंसित कीटनाशकों में एस्फ़ेनवलेरेट, क्लोरोपायरीफ़ोस, मेलाथियोन, और लैम्ब्डा-सायहेलोथ्रिन शामिल हैं। किसानों को यह भी सलाह दी जाती है कि वयस्क लार्वा के लिए वे कीटनाशक आधारित ज़हरीले चारे का इस्तेमाल करें।

निवारक उपाय

  • अधिक सहनशील पौधे लगाएं.
  • कीट की मौजूदगी की निगरानी करें और उन्हें प्रकाश या फे़रोमोन के जाल के साथ पकड़ें (10/हेक्टेयर).
  • अधिकतम आबादी से बचने के लिए पौधे जल्दी लगाएँ.
  • खरपतवार नियंत्रण की भी सलाह दी जाती है.
  • लगातार नुकसान से बचने के लिए फ़सल की कटाई जल्दी करें.
  • लार्वा और प्यूपा को उच्च तापमान के समक्ष लाने के लिए खेत की जुताई करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!