- सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

दक्षिणी आर्मीवर्म

कीट

Spodoptera eridania


संक्षेप में

  • सफ़ेद छिलके वाले हरे-से रंग के अंडे जो पत्तियों पर गुच्छों के रूप में होते हैं.
  • भोजन के कारण हुई हानि से कंकालीकरण हो जाता है।.
 - सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

लक्षण

लार्वा रात में निकलते हैं और आम तौर पर पत्तियों की निचली सतह को, प्रायः पत्तियों का कंकालीकरण करते हुए झुंड में खाते हैं। जैसे जैसे ये विकसित होते है, ये अकेले होते जाते हैं और फ़लियों में आसानी से छिद्र करते हैं। यदि भोजन की कमी होती है तो वे शाखाओं के कोमल हिस्सों को खाते हैं और तनों के ऊतकों में छिद्र बनाते हैं। सोयाबीन की एकल फसलों वाले क्षेत्रों में ये तेजी से बढ़ते हैं और पत्तियों को तेजी से गिराने की क्षमता रखते हैं। इस प्रकार ये क्षति और आर्थिक हानि करते हुए सोयाबीन के एक महत्वपूर्ण कीट बनते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षति दक्षिणी आर्मीवर्म के लार्वा, स्पोडॉप्टेरा एरिदानिया के कारण होती है। वयस्क पतंगे भूरे-कत्थई रंग के होते हैं, जिनके सामने के पंख निशान वाले भूरे रंग के होते हैं तथा पीछे के पंख सफ़ेद पारदर्शी होते हैं। पंख के केंद्र के समीप एक बीन के आकार धब्बा उपस्थित होता है। मादाएं पत्तियों की निचली सतह पर समूह में हरे से रंग के अंडे देतीं हैं। लार्वा आरम्भ में बिखरे गहरे दाग़ों वाले काले हरे रंग के होते हैं और उनका एक समान लाल भूरा-सा सर होता है। पीछे की ओर एक धुंधली सफेद रेखा चलती गई और पृष्ठ पर पीली धारियाँ होतीं हैं। लार्वा की बाद की अवस्था में, उनकी त्वचा गहरी हो जाती है, उनकी पीठ की ओर काले त्रिभुजों की दो कतारें दिखने लगती हैं और पहले हिस्से में एक गहरा छल्ला बनता है। उनके विकास के लिए 20-25 डिग्री से. का तापमान आदर्श है, 30 डिग्री से. से अधिक के तापमान पर उनका जीवन ख़त्म हो जाता है।

जैविक नियंत्रण

संक्रमण कम करने के लिए, प्राकृतिक प्रतिरोधियों को बढ़ावा देना चाहिए, उदाहरण के लिए, कोटेसिया मार्जिनीवेंट्रिस, चेलोनस इन्सुलारिस, मेटेरौस औतोग्रफे़, एम. लेफिग्मे या केम्पोलेटिस फ़्लेविसिन्क्ता जैसे परजीवी बर्र। अन्य लाभदायक कीटों में लेसविंग और लेडीबर्ड शामिल हैं। कुछ पक्षी भी वयस्क कीटों को खाते हैं। आप लार्वा को ब्युवेरिया बेसिआना से संक्रमित करने का प्रयास भी कर सकते हैं।लार्वा को भक्षण से रोकने के लिए नीम के तेल का भी प्रयोग किया जा सकता है। हालांकि, वनस्पतिक कीटनाशकों से लार्वा का नियंत्रण मुश्किल है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। जब कीट आरंभिक अवस्था में हो, तो दक्षिणी आर्मीवर्म को नियंत्रित करने के लिए पत्तियों के कीटनाशकों का प्रयोग करना चाहिए। लार्वा के लिए विषाक्तता के अनुसार कीटनाशकों में अत्यधिक बदलाव होता है। सिंथेटिक पाईरेथ्रोइड्स समूह के रसायनों का इस कीट के विरुद्ध प्रयोग किया जाता है।

निवारक उपाय

  • ऐसे स्थानों के बीजों का प्रयोग करें जो पिछले 3 महीनों से कीटमुक्त रहे हों.
  • प्रमाणित रोग मुक्त बीजों का प्रयोग करें.
  • पतंगों को पकड़ने तथा खेतों की निगरानी करने के लिए फे़रोमोन जाल का प्रयोग करें.
  • पौधे के अण्डों या इल्ली से संक्रमित किसी भी भाग को तोड़ के अलग कर दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!