- सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

सोयाबीन के बदबूदार कीड़े (स्टिंक बग)

कीट

Acrosternum hilare


संक्षेप में

  • पत्तियों या तनों पर कम नुकसान दिखाई देता है.
  • फलियों और बीजों के पकने के समय बदबूदार कीड़े उन पर भोजन करते हैं.
  • बीज विकृत, अविकसित या बंजर हो सकते हैं.
  • पुराने बीज बदरंग हो जाते हैं।.
 - सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

लक्षण

बदबूदार कीड़ों के संक्रमण को फसल काटने से पूर्व पहचान पाना मुश्किल होता है। वयस्क तथा लार्वा सोयाबीन की फलियों तथा बीजों पर आक्रमण करते हैं और पत्तियों तथा तनों पर भोजन के कारण किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं दिखाई देता है। फसल काटने पर विकृत, अविकसित या बंजर बीज मिलते हैं। पुराने बीज बदरंग और सिकुड़े हुए होते हैं। बदबूदार कीड़े पौधों के अन्य हिस्सों को भी खाते हैं। कीड़ों द्वारा छिद्र किए गए ऊतकों में छोटे भूरे या काले दाग़ रह जाते हैं। फलों तथा बीजों के पकने पर असर पड़ता है, और पौधों में कम तथा छोटी फलियाँ रह जाती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

सोयाबीन पर बदबूदार कीड़ों (स्टिंक बग) की अनेक प्रजातियाँ आक्रमण करती हैं। इनमें से सबसे बुरे एक्रोस्टरनम हिलारे है। वयस्क लगभग 1.3 सेंटीमीटर लम्बे, हरे रंग के होते हैं, और उनका आकार एक ढाल के जैसा होता है। इन्हें स्टिंक बग या बदबूदार कीड़े इसलिए कहा जाता है क्योंकि ये शिकारी जानवरों को दूर रखने के लिए एक बुरी गंध पैदा करते हैं। ये अपने मुंह के हिस्से का उपयोग कोमल फलियों और विकसित हो रहे बीजों में छिद्र करने, पाचक पदार्थों को डालने, और इससे पैदा होने वाले द्रवों को चूसने के लिए करते हैं। कीटडिंभ लगभग गोलाकार, पंखहीन और सर पर लाल धब्बे के साथ काले रंग के होते हैं। इनके अंडे पीपे के आकर के होते हैं और समूह में दिए जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

बदबूदार कीड़ों की संख्या को नियंत्रित करने के लिए परजीवी मक्खियों या ततैये को बढ़ावा दें। ये बदबूदार कीड़ो पर अंडे देते हैं। परजीवी अंडे आम तौर पर गहरे रंग के होते हैं। इन कीड़ों के लार्वा अंडों से निकलने वाले कीटडिंभों और वयस्कों को अंदर से खाते हैं। पक्षी या मकड़ी जैसे आक्रामक जानवर भी संक्रमण को कम कर सकते हैं। आप यूकेलिप्टस यूरोग्रेंडिस (नीलगिरी) के तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं। यह बदबूदार कीड़ो तथा उनके बच्चों के लिए विषैला होता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए, जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हों, का उपयोग किया जाए। किसी भी प्रकार के कीटनाशक का प्रयोग करने से पूर्व, अपने खेत में उपस्थित कीटों की संख्या और प्रजाति के बारे में पता करें। यदि आवश्यक हो, तो बदबूदार कीड़ों की संख्या को नियंत्रित करने के लिए पायरेथ्रोइड के उत्पादों का प्रयोग करें।

निवारक उपाय

  • बदबूदार कीड़ों की चरम संख्या से बचने के लिए जल्द रोपाई करें.
  • कीड़ों की संख्या पर नियमित रूप से निगरानी रखें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!