- अन्य

अन्य अन्य

मकई की डंठलों का छिद्रक कीट (लेसर स्टॉक बोरर)

कीट

Elasmopalpus lignosellus


संक्षेप में

  • डंठल के आधार, दानों और तनों पर इल्लियां सुरंग बनाती हैं.
  • वे तने के अंदरूनी ऊतकों को खाती हैं और प्रवेश के बिंदुओं पर प्रचुर मात्रा में लार्वा का मल उपस्थित होता है (मृत हृदय नामक एक लक्षण).
  • पौधे आम तौर पर विकृत होते हैं, और कुछ बालियों के साथ उनकी विकास कम हो जाता है.
  • अन्य लक्षणों में पौधों का झुकना और मुरझाना, गिर जाना और मर जाना भी शामिल हैं।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

इलेस्मोपेल्पस लिग्नोसेलस की इल्लियां मकई की पत्तियों पर भोजन कर सकती हैं, लेकिन बड़ा नुकसान तब होता है जब वे डंठल और तने के आधार पर सुरंग खोदती हैं, आमतौर पर अंकुरण के बाद के चरण में। वे तनों के आंतरिक ऊतकों को खाते हैं जिनकी जगह प्रवेश बिंदुओं के चारों ओर प्रचुर मात्रा में लार्वा का मल दिखने लगता है। लक्षणों के इस समूह को मृत हृदय कहा जाता है। पौधे आमतौर पर विकृत होते हैं, उनका विकास अवरुद्ध होता है और बहुत कम बालियां नज़र आती हैं। पानी और पोषक तत्वों के न पहुंचने के कारण पौधेे झुकने और मुरझाने लगते हैं, कुछ मामलों में वे गिर जाते हैं या मर जाते हैं। लेसर कॉर्नस्टॉक बोरर गर्म, सूखे मौसम में पनपते हैं, और अत्यधिक गर्म और सूखे मौसम के बाद अधिक नुकसान पहुंचाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

क्षेत्रीय और पर्यावरणीय कारकों के आधार पर पतंगें रंग में भिन्न होते हैं। नर कीटों के आगे के पंख भूरे-पील रंग के होते हैं और उन पर गहरे धब्बे बिखरे होते हैं, जो किनारों पर पास-पास रहते हैं और एक चौड़ी भूरी पट्टी बना लेते हैं। मादा कीट के आगे के पंख कोयले की तरह काले होते हैं, और उन पर लाल-से या बैंगनी-सी परतें बनी हुई होती हैं। नर और मादा दोनों के पीछे के पंख एक चांदी जैसे रंग के साथ पारदर्शी होते हैं। मादाएं सूखी मिट्टी की सतह के नीचे या तनों के आधार पर हरे रंग के अंडे देती हैं। लार्वा पतले और बालों वाले होते हैं। उनकी पूरे शरीर को धारीदार बैंगनी और सफ़ेद रंग की पट्टियां घेरे हुए होती हैं। छेड़े जाने पर वे तेज़ी-से हिलते हैं। वे मिट्टी की सतह के थोड़े नीचे रेशमी जालों की बनी नलियों या सुरंगों में रहते हैं और बाहर निकलकर जड़ों और पौधों के ऊतकों पर भोजन करते हैं। इस कीट के लिए सूखे वर्ष या सूखी रेतीली मिट्टी विशेष रूप से लाभदायक होती है। खेत की क्षमता का 80% तक फसल की सिंचाई करके आबादी को नियंत्रित किया जा सकता है।

जैविक नियंत्रण

कई शिकारी दुश्मन हैं, लेकिन तनों और डंठलों में लार्वा का अत्यंत सुरक्षित निवास उन्हें मारना मुश्किल बना देता है। कुछ मामलों में, परजीवी ब्रेकोनिड हड्डे, ओरगिलस इलेस्मोपाल्पी और केलोनस इलेस्मोपाल्पी आबादी में कमी ला सकते हैं। न्यूकलियर पॉलिहेड्रोसिस वायरस (NPV), कवक एस्परगिलस फ़्लेवस और ब्युवेरिया बासियाना या जीवाणु बैसिलस थुरिन्जिएंसिस पर आधारित जैविक कीटनाशक आबादी को कम करने में मदद कर सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

दानेदार या तरल उत्पादों का उपयोग लार्वा को मारने के लिए सुरंगों में किया जा सकता है। मकई के लिए टियोडिकर और फ़ुराटियोकार्ब वाले उत्पादों से उपचार सबसे फ़ायदेमंद साबित होता है। क्लोरपाइरिफ़ोस और टियोडिकार्ब का पत्तियों पर छिड़काव भी इनकी आबादी को नियंत्रित करने में मदद करते हैं।

निवारक उपाय

  • अत्यधिक आबादी से बचने के लिए मौसम में पौधे जल्दी लगाएं.
  • नियमित सिंचाई से मिट्टी की आद्रता को स्थिर रखें.
  • प्रकाश या फ़ेरोमॉन जालों का उपयोग करके पतंगों को पकड़ें.
  • खेत में और आसपास खर-पतवार और वैकल्पिक मेज़बानों को दूर करें.
  • बोने से पहले गहरी जुताई करें ताकि मिट्टी में लार्वा का जीवन चक्र रुक जाए.
  • लार्वा को आकर्षित करने और खाने के लिए खेत में जैविक अवशेष छोड़ दें, ताकि वे अंकुरों पर हमला न करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!