- कपास

कपास कपास

बीजकोषों का घुन

कीट

Anthonomus grandis


संक्षेप में

  • कलियों पर छोटे छेद, जो भूरे होकर गिर जाते हैं.
  • फूल पीले हो जाते हैं और समय से पहले गिर जाते हैं.
  • बीजोकोषों में कम विकास या सड़न दिखाई देती है।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

बीजकोष के वयस्क घुन फूलों या फलों की संरचनाओं, जैसे कलियां और बीजकोषों, को खाते हैं। ये कभी-कभार डंठलों और मुख्य कोंपलों को भी खाते हैं। संक्रमण का प्रारंभिक चरण कलियों के पक्षों में भक्षण छिद्रों या प्रजनन स्थानों पर मस्सों जैसी वृद्धियों से पहचाना जा सकता है। कलियों को हुई क्षति के कारण रंग बिगड़ जाता है और फूलों का विकास रुक सकता है या ये समय से पहले झड़ सकते हैं या बीजकोष छोटे रह जाते हैं और उसके भीतर लार्वा मौजूद रहता है। बड़े, छेद युक्त बीजकोष पौधों पर रह जाते हैं और खुल नहीं पाते हैं। इसके अलावा, इन पर अवसरवादी रोगजनक हमला भी कर सकते हैं, जिससे सड़ांध पैदा हो सकती है। वानस्पतिक चरण के दौरान पत्तियों की डंठलों पर वयस्क भोजन करते हैं, जिससे पौधे की पत्तियां मुरझाने और सूखने लगती हैं, लेकिन तने से जुड़ी रहती हैं। इस लक्षण को अंग्रेज़ी में "ब्लैक फ़्लैग" या काला झंडा कहा जाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

बीजकोष के घुन, एंथोनोमस ग्रांडिस, के वयस्कों और लार्वा के कारण क्षति होती है। वयस्क कीट लगभग 6 मिलीमीटर लंबा होता है और उसके ऊपर लंबी पतली-सी थूथनी जैसी संरचना दे सकती हैं। यह गहरे, भूरे-लाल से लेकर लगभग पूरी तरह काले रंग का हो सकता है। ये कपास के खेतों में या उसके आसपास सूखे क्षेत्रों में सर्दियां बिताते हैं। रुके हुए विकास की इस अवधि के बाद, वे बाहर निकलते हैं और शुरुआती वसंत से लेकर गर्मी के मौसम के बीच तक कपास के खेतों में प्रवेश करते हैं। इनकी आबादी वसंत के अंतिम हिस्से में बीजकोष के विकास के दौरान सबसे अधिक होती है। विकसित हो रहे कपास के बीजकोषों में मादाएं अंडे देती हैं, आमतौर पर एक कली पर एक अंडे के हिसाब से। मलाई जैसे सफ़ेद, बिना पैरों वाले, C आकार के लार्वा कली या बीजकोष के भीतर लगभग 10 दिन तक भोजन करते हैं और बाद में प्यूपा अवस्था में चले जाते हैं। गर्मी के मौसम के दौरान, अंडे से लेकर वयस्क होने तक के उनके जीवन चक्रे में लगभग तीन सप्ताह का समय लगता है। बीजकोष का घुन प्रति वर्ष 8 से 10 पीढ़ियां पैदा कर सकता है।

जैविक नियंत्रण

बीजकोषों के घुन को नियंत्रण में रखने के लिए परजीवी कीट, जैसे कि केटोलेकस ग्रांडिस, को बढ़ावा दिया जा सकता है। साथ ही, ब्युवेरिया बेसियाना फफूंद, बैसिलस थुरिंजिएंसिस जीवाणु या चिलो इरिडेसेंट विषाणु (CIV) पर आधारित जैव-कीटनाशकों का भी उपयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण को अपनाएं। सिंथेटिक पायरेथ्रोइड कीटनाशक और डेल्टामेथ्रिन जैसे पदार्थ बीजकोष के घुन को नियंत्रित करने के लिए इस्तेमाल किए जा सकते हैं। नमी का वातावरण उपचार की प्रभावकारिता को बेहतर करता है। किसी कीटनाशक या जैविक उपाय के साथ फ़ेरोमोन जाल घुन पर निगरानी करने और उसे नियंत्रण करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • अपने देश में संगरोध (क्वारंटाइन) नियमों के बारे में पता करें.
  • अधिक आबादी से बचने के लिए मौसम में जल्दी रोपाई करें.
  • यदि आपके क्षेत्र में उपलब्ध हों (बाज़ार में कई उपलब्ध हैं), तो प्रतिरोधक और सहनशील क़िस्मों की रोपाई करें.
  • कीट के लक्षणों के लिए कपास के खेत की नियमित निगरानी करें.
  • ज़रूरत से ज़्यादा उर्वरक उपयोग या सिंचाई से बचें.
  • कपास के घुन के अपरिपक्व चरण गर्मी और सूखे के प्रति संवेदनशील होते हैं.
  • इसलिए, पौधों के मलबे को खेत से हटा दिया जाना चाहिए, ताकि बचे हुए लार्वा या प्यूपा विपरीत मौसम परिस्थितयों के समक्ष लाए जा सकें.
  • फ़सल की कटाई के बाद, मलबे की जुताई न करें, इसकी बजाय इसे खेत से हटा दें.
  • पौधौं की संभावित संक्रमित सामग्री का खेतों के बीच लाना ले जाना न करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!