- काला और हरा चना

काला और हरा चना काला और हरा चना

फली का धब्बेदार छिद्रक पतंगा (स्पॉटिंड पॉड बोरर)

कीट

Maruca vitrata


संक्षेप में

  • फूल और फली लिपटी हुई होती हैं.
  • फली में बीज पूरी तरह से या आंशिक रूप से चुगे हुए होते हैं।.
 - काला और हरा चना

काला और हरा चना काला और हरा चना

लक्षण

धब्बेदार छिद्रक पतंगे का लार्वा आमतौर पर कलियों और फूलों को खाता है - वयस्क पतंगे परिपक्व फलियों में छेद करते हैं। लार्वा का मलमूत्र फूलों और फलियों को एक साथ गूंथ देता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

फली के धब्बेदार छिद्रक पतंगे के गहरे रंग के अग्रपंखों पर सफ़ेद धब्बे और सफ़ेद पिछले पंखों पर गहरे रंग के किनारे होते हैं। पतंगा पत्तियों, कलियों और फूलों पर छोटे समूहों में अंडे देता है। कोषस्थ मिट्टी में होता है।

जैविक नियंत्रण

शिकारी पक्षियों की प्रजातियों को बढ़ावा देने के लिए 15 प्रति हेक्टेयर के हिसाब से उनके लिए बसेरा लगाएं। अज़ेडिरेक्टिन, स्पिनोसैड या बैसिलस थुरिंजियेन्सिस युक्त जैविक कीटनाशक लगाए जा सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा जैविक उपचारों के साथ रोकथाम उपायों को साथ अपनाएं। स्पॉटिंड पॉड बोरर को नियंत्रित करने के लिए क्लोरेंट्रेनिलिप्रोल, क्लोरपायरिफ़ोस और फ़्लुबेन्डाइमाइड पर आधारित कीटनाशकों को लगाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • अपने क्षेत्र में उपलब्ध प्रतिरोधक क़िस्मों को चुनें.
  • कीट के संकेतों (अंडे के गुच्छों, इल्लियां, नुकसान) के लिए खेत की निगरानी करें.
  • संक्रमित फूलों, फलियों या पौधों के हिस्सों को हाथ से निकालें.
  • नाइट्रोजन उर्वरण की मात्रा उचित दर पर रखें.
  • खेत में जल निकासी का प्रबंधन अच्छा रखें क्योंकि जल भराव से संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है.
  • पतंगों पर नज़र रखने या उन्हें बड़ी संख्या में पकड़ने के लिए जालों का उपयोग करें.
  • लार्वा को खाने वाले पक्षियों के लिए बैठने का स्थान और खुली जगह बनाएं.
  • खेत और उसके आसपास खरपतवार हटाने के लिए एक अच्छी योजना अपनाएं.
  • व्यापक प्रभाव वाले कीटनाशकों से बचें, क्योंकि ये लाभदायक कीटों को नुकसान पहुंचा सकते हैं.
  • फ़सल कटाई के बाद पौधे के मलबे या अपने आप उगने वाले पौधों को हटाएं.
  • चावल या मकई जैसी गैर-धारक फ़सलों के साथ फ़सल चक्रीकरण अपनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!