- अन्य

अन्य अन्य

काले शल्क

कीट

Saissetia oleae


संक्षेप में

  • पत्तियों की निचली सतह तथा तनों पर काले शल्क का ढेर.
  • रिसा हुआ मधुरस चींटियों तथा मटमैली फफूंदी को आकर्षित करता है.
  • खराब पत्तियाँ समय से पूर्व गिर जाती हैं।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

काले शल्क बड़ी संख्या में पत्तियों था तनों को खाते हैं तथा सत की बड़ी मात्रा को चूसते हैं जिसके कारण पेड़ों में सामान्य कमज़ोरी तथा अवरुद्ध विकास होता है। खाते समय, वे प्रचुर मात्रा में मधुरस का उत्पादन करते हैं जो समीप की पत्तियों तथा फलों पर टपकता है तथा उन्हें गाढे काले पदार्थ से ढक लेता है। मधुरस साथी चींटियों को आकर्षित करता है तथा जल्द ही मटमैली फफूंदी की बसावट के काम आता है जो शर्करा के ढेर पर पलती हैं। इसके कारण प्रकाश-संश्लेषण की दर धीमी हो जाती है। बहुत अधिक प्रभावित पत्तियाँ असमय झड़ जाती हैं। बड़े कीट पत्तियों की निचली सतह या तनों पर गहरे भूरे या कत्थई से काले रंग के ढेर के रूप में स्पष्ट दिखाई देते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

काले शल्कों की वयस्क मादाओं का व्यास लगभग 5 मिमी होता है तथा वे गहरे कत्थई या काले रंग की पीठ पर H-आकार कुभार वाली होती हैं। वे बाद में पतझड़ में टहनियों और शाखाओं पर चली जाती हैं तथा शेष जीवन वहीं व्यतीत करती हैं। नए शल्क (रेंगने वाले जीव) पीले से नारंगी रंग के होते हैं तथा पत्तियों और पेड़ों की टहनियों पर पाए जाते हैं। वे चलने पर अथवा कभी-कभी हवा के द्वारा प्रसारित होते हैं तथा पत्तियों की निचली सतह पर शिराओं के समीप अथवा नए अंकुरों पर बस जाते हैं। वे पेड़ों के घने, बिना छंटे भाग पर, अधिकांशतः उत्तरी दिशा में पलते हैं। इसके विपरीत, खुले, हवादार पेड़ पर काले शल्कों की जनसंख्या को शायद ही कभी आश्रय मिलता है। इनकी प्रतिकूल परिस्थितियों में प्रति वर्ष एक से दो पीढ़ियाँ पैदा होतीं हैं, सिंचित बागानों में दो पीढ़ियां पैदा हो सकती हैं। वैकल्पिक धारकों में साइट्रस, पिस्ता, नाशपाती, बीज वाले फल के पेड़ तथा अनार हैं।

जैविक नियंत्रण

कुछ परजीवी कीट, जैसे कि स्कूटेलिस्टा केरुला, डाईवर्सिनर्वस एलेगेंस तथा मेटाफ़ाइकस हेल्वोलस के साथ-साथ लेडीबर्ड (चिलोकोरस बाईपुस्टुलेटस) की कुछ प्रजातियाँ सही परिवेश में काले शल्कों की जनसंख्या को कम कर सकती हैं। प्राकृतिक निवासी शत्रुओं को सुरक्षित रखने के लिए, परिदृश्य में वृहद् स्तर के हठी कीटनाशकों का प्रयोग करने से बचें। काले शल्क को नियंत्रित करने के लिए कनोला तेल या कवकीय मूल के जैव-कीटनाशकों का प्रयोग करना चाहिए।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करें जिसमे रोकथाम के उपायों और जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हों, का समावेश होना चाहिए। रेंगने वाले जीवों की उपस्थिति का अंदाज़ा लगाने के लिए पेड़ की छतरियों में छिपे हुए, दोतरफ़ा चिपकने वाले पिंजरों का प्रयोग करें। यदि आबादी अधिक हो जाती है, तो युवा कीटों के दिखाई देते ही, कम सीमा वाले सफ़ेद खनिज तेल का छिड़काव अथवा कीटों के विकास के नियंत्रक, पायरिप्रॉक्सीफ़ेन, का प्रयोग करें।

निवारक उपाय

  • जैतून के पेड़ों की ब्लेवोकेडोक शल्क के संक्रमण के लिए नियमित निगरानी करें.
  • छतरी की उचित रूप से छंटाई करने से वायु के संचालन में सुधार होता है तथा काले शल्कों का जीवन चक्र बाधित होता है.
  • संक्रमण हल्का होने पर, पौधे के भागों को हाथों से हटाना या कीटों को मसल देना प्रभावी होता है.
  • पौधों के संक्रमित भागों को हटा दें तथा उन्हें बागान से दूर जला दें या गहराई में दबा दें.
  • कीटनाशकों के अत्याधिक प्रयोग से बचें, क्योंकि इससे प्राकृतिक शत्रुओं की जनसंख्या पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.
  • चिपकने वाले पदार्थ से तने के चारों ओर गोलाकार बना कर चींटियों से सुरक्षा प्रदान करें.
  • पौधों के मध्य संपर्क रोकने के लिए उचित छँटाई करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!