- मक्का

मक्का मक्का

यूरोपीय मकई छिद्रक कीट (यूरोपीयन कॉर्न बोरर)

कीट

Ostrinia nubilalis


संक्षेप में

  • लार्वा पौधे के सभी ऊंचे भागों को क्षति पहुंचाता है.
  • वे पत्तियों के गुच्छों, मध्यशिरा, डंठल, रेशम और बालियों के अंदर भक्षण करते हैं.
  • इससे पौधे का विकास अवरुद्ध हो जाता है, पत्तियों की संख्या कम हो जाती है, और उत्पादकता में भी कमी आती है.
  • डंठल में सुरंग बनने के कारण पौधे की वज़न उठा पाने की क्षमता घट जाती है और वह झुक जाता है.
  • बालियों में दानें क्षतिग्रस्त होते हैं और गिर सकते हैं.
  • छिद्रों पर अवसरवादी कवक की बस्ती बन जाती है और सड़न दिखने लगती है।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

लार्वा पौधे के सभी ऊपरी भागों को नुकसान पहुंचाता है। वे पहले पत्तियों के गुच्छों या मध्यशिराओं के भीतर भक्षण करते हैं। फिर पौधे के आधार पर डंठलों, रेशम और बालियों में सुरंग बनाते हैं। वे पानी और पोषक तत्वों को ले जाने वाले आंतरिक ऊतकों को नष्ट कर देते हैं, जिससे वृद्धि अवरुद्ध हो जाती है, पत्तियाँ कम हो जाती हैं और उत्पादकता भी घट जाती है। डंठल में सुरंग पौधे की वज़न संभालने की क्षमता को कम करती है और वह झुक जाता है। बालियों में गीले कीटमल के साथ गोल छेद और क्षतिग्रस्त दानें होते हैं, और वे झड़ सकते हैं। छिद्रों पर अवसरवादी कवक बस जाते हैं, और धीरे-धीरे उन ऊतकों में सड़न पैदा हो जाती है। इन कवकों द्वारा निर्मित विषाक्त पदार्थ उपज की गुणवत्ता को और खराब कर देते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लार्वा सर्दियों में मिट्टी में फसल के कूड़े में जीवित रहता है और वसंत में बाहर निकलता है। यूरोपीय कॉर्न बोरर के वयस्क रात में सक्रिय होते हैं। नर पतंगों के पीले दांतेदार पैटर्न वाले पीले-भूरे से भूरे रंग के पंख और पतला शरीर होता है। मादाएं पतली होती हैं, और उनके पंखों पर कई गहरे रंग की टेढ़ी-मेढ़ी पट्टियां होती हैं। वे पत्तियों के निचले हिस्से पर समूह में सफ़ेद अंडे देती हैं, आमतौर पर तब जब हवा शांत होती है और तापमान गर्म होता है। लार्वा मटमैले सफ़ेद से लेकर गुलाबी पीले-भूरे रंग के, बिना रोएं वाली चिकनी त्वचा और शरीर पर गहरे धब्बों वाले होते हैं। उनका सिर गहरे भूरे से काले रंग का होता है। वे कई खर-पतवार और वैकल्पिक मेज़बान जैसे कि सोयाबीन, मिर्च और टमाटर का भक्षण करते हैं। कम आर्द्रता, रात में कम तापमान और भारी वर्षा अंडे देने की प्रक्रिया और कीट के जीवित रहने में बाधा उत्पन्न करते हैं।

जैविक नियंत्रण

शिकारियों, कीट-परजीवीयों और जैविक कीटनाशकों से यूरोपीय कॉर्न बोरर की आबादी को नियंत्रित करना संभव है। देशी शिकारियों में गुप्त फूल कीड़े (ओरियस इंसिडियस), हरे रंग के लेसविंग और कई लेडीबर्ड शामिल हैं। सर्दियों में जीवित 20 से 30% लार्वा को पक्षी समाप्त कर सकते हैं। कीट-परजीवियों में टेकिनिड मक्खी लाइडेला थॉम्पसनी, और हड्डों की इरिबोरस टेरेब्रंस, सिंपीसिस विरिडुला और मैक्रोसेंट्रिस ग्रांडी प्रजातियां शामिल हैं। स्पाइनोसैड या बेसिलस थुरिंजिएंसिस पर आधारित जैव कीटनाशक भी कारगर हैं।

रासायनिक नियंत्रण

कॉर्न बोरर की आबादी को नियंत्रित करने के लिए कई कीटनाशकों का इस्तेमाल किया जा सकता है। इनका सही समय पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए। दानेदार उत्पाद बेहतर होते हैं। साइफ़्लुथ्रीन, एस्फ़ेनवलेरेट युक्त उत्पादों का छिड़काव पत्तियों के गुच्छों और विकसित हो रही बालियों पर किया जा सकता है। सिंथेटिक पाइरेथ्रॉयड्स का उपयोग भी लाभकारी है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हो, तो सहनशील किस्मों का उपयोग करें.
  • कीट की अत्यधिक आबादी से बचने के लिए जल्दी रोपण करें.
  • आबादी को बढ़ने से रोकने के लिए नियमित रूप से खेतों की निगरानी करें और जाल का उपयोग करें.
  • खेत में और उसके आसपास खर-पतवार का अच्छा प्रबंधन सुनिश्चित करें.
  • मिट्टी और पौधों के अवशेषों में सर्दी के दौरान जीवित प्यूपा को बाहर निकालने के लिए गहरी जुताई करें.
  • कीट के जीवन चक्र को तोड़ने के लिए गैर-मेज़बान फसलों के साथ फसल चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!