- अन्य

अन्य अन्य

आड़ू की टहनी का छिद्रक कीट

कीट

Anarsia lineatella


संक्षेप में

  • वसन्त ऋतु में पत्तियों का मुरझाकर लटकना और नई कलियों का कम संख्या में फूटना, युवा वृक्षों में अधिक स्पष्ट रूप से दिखाई देता है.
  • टहनियों के सिरे पर या दो फलों के बीच के संपर्क स्थान पर छिद्रों, छिछली सुरंगों या सतही नालियों का दिखाई देना।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

पत्तियों का मुरझाकर लटकना और वसन्त ऋतु में नई टहनियों का कम संख्या में फूटना, फलों के बग़ीचे में इस कीट की उपस्थिति के प्रथम चिन्ह हो सकते हैं। पत्तियों, नई टहनियों का मुरझाना विशिष्ट रूप से युवा वृझों में अधिक स्पष्ट रूप से दिखाई देता है। वर्ष के बाद के दिनों में, यह हानि पुरानी टहनियों और फलों पर भी दिखाई देने लगती है। फलों में, इसे अक्सर टहनियों के सिरे पर, दो फलों के बीच के संपर्क स्थान पर या जहाॅं फल पत्ती को छूता है वहाॅं छिद्रों के द्वारा पहचाना जाता है। लार्वा छिछली सुरंगों और सतही नालियों को खोदते हुए अपना भोजन प्राप्त करते हैं। अधिक आबादी के मामलों में, वे युवा वृक्षों या नर्सरी भंडार को अत्यधिक हानि पहुॅंचा सकते हैं। यह हानि पूर्वी फलों के कीटों के लार्वा के द्वारा की जाने वाली हानि के समान होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह हानि अनार्सिया लीनीटेल्ला के लार्वा के द्वारा पहुंचाई जाती है, जो कि कई वृक्षों में पाया जाने वाला एक प्रमुख कीट है। वयस्क कीटों का स्लेटी से लेकर भूरा शरीर होता है तथा उनके आगे के पंख धब्बेदार या पट्टिदार होते हैं। मादाएं युवा टहनियों, फलों, और शिराओं के बगल में पत्तियों की निचली सतह पर अंडे देती हैं। लार्वा छोटे होते हैं और उनके भूरे शरीर पर बारी-बारी से सफ़ेद छल्ले होते हैं व सिर काला होता है। वे जाड़े के समय वृक्ष की छाल के नीचे, पुरानी लकड़ी की दरारों या छांटे गए हिस्सों से हुए घावों में अपना समय बिताते हैं। फूलों के खिलने के समय के दौरान, वे फिर से नज़र आने लगते हैं और टहनियाँ और शाखाओं तक पहुँच जाते हैं, जहाँ वे नए उभरने वाली पत्तियों, कलियों और टहनियों पर आक्रमण शुरू कर देते हैं। वे कोमल टहनियों में सुरंगें खोद देते हैं, पानी और पोषक तत्वों के परिवहन को अवरुद्ध कर देते हैं, और उन्हें मुरझाकर मर जान पर मजबूर कर देते हैं। वे पुरानी टहनियों में बढ़त के बिंदुओं के विनाश का कारण बन सकते हैं, जिससे शाखा मर सकती है और कुछ मामलों में पार्श्व शाखाएं निकलने लगती हैं। इस कीट के जीवन चक्र में प्रति वर्ष 3 से 4 पीढ़ियां शामिल होती हैं।

जैविक नियंत्रण

अनारसिया लाइनेटला के प्राकृतिक शत्रुओं की लगभग 30 प्रजातियां हैं। परजीवी ततैया पेरालिटोमेस्टिक्स वेरिकोर्निस, हाइपरटेल्स लिविडस और मैक्रोसेंट्रस एंसाइलीवोरस अपने अंडे आड़ू की टहनी के छिद्रक कीड़े के लार्वा पर देते हैं, जिससे वे धीरे-धीरे मर जाते हैं। चींटियाँ भी इस लार्वा को खाती हैं। ये प्राकृतिक शत्रु लार्वा की आबादी को काफ़ी कम कर सकते हैं, लेकिन अक्सर आर्थिक रूप से हानिकारक स्तरों से बचा नहीं पाते हैं। इसलिए, जैविक रूप से स्वीकृत तेल, पायरेथ्रीन, स्पीनोसैड या बैसिलस थुरिंजियेंन्सिस पर आधारित कीटनाशकों का उपयोग इन उपचारों के पूरक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। सेक्स फ़ेरोमोन के माध्यम से समागम को बाधित करना भी एक अतिरिक्त रणनीति के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचारों के साथ निवारक उपायों के संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करें। आड़ू की टहनियों को प्रभावित करने वाले कीट के संबंध में बेहतर प्रबंधन नीति है कि इन चरणों में कीटनाशकों के द्वारा समय पर उपचार किया जाए 1) विलंबित निष्क्रिय चरण के दौरान, 2) फूल खिलने के चरण दौरान और 3) खिलने के बाद के चरण के दौरान। चरण 1 व 2 में मेथोक्सिफेनोज़ाइड या डाईफ़्लुबेंज़ुरोन पर आधारित उत्पादों का उपयोग किया जा सकता है। पहले वाले रसायन को फूस खिलने के बाद के चरण के दौरान क्लोरेन्ट्रेनिलिप्ररोल के साथ भी किया जा सकता है। इन तीन प्रकार के उपचारों के लिए अन्य उत्पाद भी उपलब्ध हैं।

निवारक उपाय

  • वसन्त ऋतु के दौरान कीट की उपस्थिति के बारे में पता करने के लिए फलों के बग़ीचे की जाॅंच करें.
  • युवा टहनियों को खोलकर देखें कि कहीं उसके अंदर लार्वा तो नहीं.
  • कीटों पर नज़र रखने के लिए फ़ेरोमोने जाल का उपयोग करें.
  • लाभकारी कीट प्रभावित न हों इसके लिए कीटनाशकों का नियंत्रित रूप से उपयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!