- गन्ना

गन्ना गन्ना

नई डंठलों का छिद्रक

कीट

Chilo infuscatellus


संक्षेप में

  • डंठलों तथा पत्तियों पर खाए जाने से क्षति.
  • नये पौधों में मृत ह्रदय (डेड हार्ट).
  • क्षतिग्रस्त गन्नों से दुर्गन्ध आती है।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

पत्तियों के किनारों की निचली सतह पर सफ़ेद, चपटे अंडे 60 के समूह में 3 से 5 की कतार में पाए जाते हैं। छोटे लार्वा पत्तियों में, विशेषकर पत्तियों के खोल में, छोटे छिद्र बनाते हैं। बड़े लार्वा तनों के आधार में छिद्र बनाते हैं, पौधों के अन्दर प्रवेश करते हैं, और अंदरूनी मुलायम ऊतकों को खाते हैं जिसके कारण पौधों में ह्रदय मृत (डेड हार्ट) होता है। क्षतिग्रस्त पौधों में पत्तियों की केन्द्रीय कुंडली भी सूख सकती है। संक्रमित पौधे एक तीव्र दुर्गन्ध छोड़ते हैं। नई डंठलों का छिद्रक गांठों के बीच छेद करने वाले का कार्य करता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

1-3 महीने पुरानी फ़सल अधिक संवेदनशील होती है। मादाएं पत्तियों के किनारों की निचली सतह पर सफ़ेद, चपटे अंडे 60 के समूह में 3 से 5 की कतार में देती हैं। अण्डों में से लार्वा एक से छह दिनों में निकलता है, बिखर जाता है, तथा भूमि के स्तर से ज़रा-सा ऊपर तने में छिद्र बनाकर तनों में प्रवेश करता है। लार्वा विस्थापित भी हो सकता है तथा इसी प्रकार अनेक नई टहनियों पर आक्रमण कर सकता है। यह 25 से 30 दिनों में वयस्क बन जाता है और तने के अन्दर प्यूपा बनाता है। एक व्यस्क कीट छह से आठ दिनों में बाहर निकलता है। सम्पूर्ण जीवन चक्र 35 से 40 दिनों में पूर्ण होता है।

जैविक नियंत्रण

रोपाई के पहले महीने से लेकर फसल कटने के एक माह पूर्व तक सात से दस दिनों के अंतराल पर अण्डों के परजीवी, ट्राईकोग्रामा चिलोनिस (50,000 प्रति हेक्टेयर) को छोड़ दें। रोपाई के 30 से 45 दिनों के बाद स्टरमियोप्सिस इंफ़ेरेंस की मादाओं को छोड़ दें। वैकल्पिक रूप से, नई डंठलों के छिद्रक के ग्रैनुलोसिस विषाणु को फ़सल विकास के 30वें, 45वें और 60वें दिनों पर प्रति मिलीमीटर आठ से दस विषाणु की दर के अनुसार प्रयोग करें। विषाणु का प्रयोग शाम के समय किया जाना चाहिए जिसके तुरंत बाद सिंचाई की जानी चाहिए।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए, जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। यदि कीटनाशकों की आवश्यकता हो, तो क्लोरेंट्रेनिलिप्रोल वाले उत्पादों का छिड़काव करें। रोपाई तथा विकास के अन्य चरणों के दौरान कीटनाशक दानों का प्रयोग संक्रमण को कम करता है।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक या सहनशील प्रजातियों का उपयोग करें.
  • गन्ने के खेतों के समीप वैकल्पिक धारक पौधों (श्वांक, डब घास, मक्का) को रोपने से बचें.
  • संक्रमण से बचने के लिए मौसम में जल्द रोपाई करें.
  • कीटों को पकड़ने के लिए फ़ेरोमोन आस्तीन जालों या प्रकाश जालों का उपयोग करें.
  • फ़सल कटने के बाद सूखी टहनियां तथा फ़सल के अन्य अवशेषों को हटा कर नष्ट कर दें.
  • फसल के मध्य में हरे चने, काले चने, ढैंचा (अगाथी) जैसी फसलों का समावेश वयस्क कीटों को दूर रखने में सहायक होता है.
  • नाइट्रोजन उर्वरकों का अत्यधिक प्रयोग करने से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!